Ravi Kumar Taneja Sep 14, 2022

*🌹हिंदी🌹* हमारी *हिंदी* राष्ट्र भाषा है *हिंदी* हिन्द देश की आन है *हिंदी* संस्कृत की लाडली बेटी है *हिंदी* हिंदुस्तान की तो मातृभाषा है *हिंदी* हमारा मान,सम्मान,अभिमान है *हिंदी* हिंदुस्तान के माथे की तो बिंदी है यह *हिंदी* सुंदर, मीठी, सरल और सहज भाषा है *हिंदी* हम सबकी एकता की अनुपम परंपरा है *हिंदी* सब जन को एकसूत्र में पिरोने वाली डोर है *हिंदी* काल को जीत लिया वो कालजयी भाषा है *हिंदी* स्वतंत्रता की अलख जगाने वाली भाषा है *हिंदी* जिसके बिना हिंद थम जाए वो भाषा है *हिंदी* गुलामी की जंजीर तोड़ने वाली थी *हिंदी* हिंदुस्तान की तो जीवन रेखा है *हिंदी* वीर सपूतों की लाडली थी *हिंदी* स्वतंत्रता की कहानी है *हिंदी* पराई नहीं अपनी है *हिंदी* आपकी भी है *हिंदी* मेरी भी है *हिंदी* सबकी *हिंदी* हिंदी *हिंदी* *हिंदी* आज १४ सितंबर *विश्व हिंदी दिवस* की हार्दिक शुभकामनाये... 🌈 🪴कुछ आरम्भ करने के लिए आपका महान होना कोई आवश्यक नही… 🪴लेकिन महान होने के लिए आपका कुछ अच्छा आरम्भ करना अत्यंत आवश्यक हैं। जय हिन्द 🇮🇳 🇮🇳 🇮🇳 सदैव मुस्कराते रहे... 😇😊🤗🥰

+150 प्रतिक्रिया 101 कॉमेंट्स • 101 शेयर
Ravi Kumar Taneja Sep 9, 2022

🕉अनंत चतुर्दशी:अनंत पुण्य देने वाला उत्तम दिन🕉 🚩अनंत चतुर्दशी( 9 सितम्बर)श्री गणेश उत्सव के बाद धूमधाम के साथ भगवान श्री गणेश को अनंत चतुर्दशी के दिन जल में विसर्जित कर दिया जाता है। बप्पा के भक्त इस मनोकामना के साथ उन्हें विदा करते हैं कि अगले बरस बप्पा फिर उनके घर पधारेंगे और जीवन में अपार खुशियां लेकर आएंगे। *‼️🙏ॐ गं गणपतऐ नमोः नम् 🙏‼️* *🦚रिद्धि दे, सिद्धि दे* *वंश में वृद्धि दे* *ह्रदय में ज्ञान दे* *चित्त में ध्यान दे* *अभय वरदान दे* *दुःख को दूर कर* *सुख भरपूर कर* *आशा को संपूर्ण कर* *सज्जन को हित दे* *कुटुंब में प्रीत दे* *माया दे,साया दे और* *निरोगी काया दे* *मान-सम्मान दे* *सुख समृद्धि और ज्ञान दे* *शान्ति दे, शक्ति दे,* *भक्ति भरपूर दें !!!* *आप सभी को अनंत चतुर्दशी की हार्दिक शुभकामनाऐ!!!🙏🌺🙏* गणपति बप्पा मोरया मंगल मूर्ति मोरया। मोरया re बप्पा मोरया re 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹 *🌴ॐ गं गणपतये नमो: नमः🌴* 🌻वक्रतुंड महाकाय सुर्य कोटी समप्रभ निर्विघ्नं कुरुम देवं सर्व कार्येशु सर्वदा🌻 🌼ॐ श्रीसिद्धिविनायकाय नमो नमः🌼 ()(. = .)() <>’ ) )’<> (,,,)’ ‘(,,,) *सदैव प्रसन्न रहिये!* *जो प्राप्त है पर्याप्त है!!* 🕉🪴🙏🌻🙏🪴🕉

+271 प्रतिक्रिया 154 कॉमेंट्स • 121 शेयर
Ravi Kumar Taneja Sep 5, 2022

🚩🌹🕉️🍁🌺🌷🚩🌹🌺 *🚩🕉️शिक्षक दिवस : भारत के महान शिक्षक* *🚩🚩* 🚩🌹🕉️🚩🌹🕉️🚩🌹🕉️ *🚩🌹वैसे तो संसार में सैंकड़ों ऐसे शिक्षक हुए हैं जिन्होंने अपनी शिक्षा से दुनिया को बदल कर रख दिया है। यहां प्रस्तुत है प्राचीन भारत के ऐसे शिक्षकों के नाम जिनकी शिक्षा आज भी प्रासंगिक मानी जाती है।* *1. 🚩🌹गुरु वशिष्ठ : सप्त ऋषियों में से एक गुरु वशिष्ठ ने राज दशरथ के चारों पुत्रों राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न को शिक्षा दी थी। गुरु वशिष्ठ के ही काल में विश्वामित्र, महर्षि वाल्मीकि, परशुराम और अष्टावक्र भी थे।* *2. 🚩🌹भारद्वाज : महान ऋषि अंगिरा के पुत्र गुरु बृहस्पति हुए जो देवताओं के गुरु थे। इन्हीं गुरु बृहस्पति के पुत्र महान ऋषि भारद्वाज हुए। चरक ऋषि ने भारद्वाज को 'अपरिमित' आयु वाला कहा है। भारद्वाज ऋषि काशीराज दिवोदास के पुरोहित थे। वे दिवोदास के पुत्र प्रतर्दन के भी पुरोहित थे और फिर प्रतर्दन के पुत्र क्षत्र का भी उन्हीं ने यज्ञ संपन्न कराया था। वनवास के समय प्रभु श्रीराम इनके आश्रम में गए थे, जो ऐतिहासिक दृष्टि से त्रेता-द्वापर का संधिकाल था। उक्त प्रमाणों से भारद्वाज ऋषि को अपरिमित वाला कहा गया है। इनका आश्रम प्रयागराज में था।* *3. 🚩🌹वेद व्यास : महाभारत काल में वेद व्यास एक महान गुरु और शिक्षक थे। श्रीकृष्‍ण के अलावा उनके चार अन्य शिष्य थे। मुनि पैल, वैशंपायन, जैमिनी तथा सुमंतु। इन्हीं के काल में गर्ग ऋषि, द्रोणाचार्य, कृपाचार्य जैसे महान ऋषि थे। इस काल में सांदीपनि भी थे। महान ऋषि सांदीपति ने श्रीकृष्ण को 64 कलाओं की शिक्षा दी थी।* *4. 🚩🌹ऋषि शौनक : महाभारत के अनुसार शौन ऋषि ने ही राजा जनमेजय का अश्वमेध और सर्पसत्र नामक यज्ञ कराया था। शौनक ने दस हजार विद्यार्थियों के गुरुकुल को चलाकर कुलपति का विलक्षण सम्मान हासिल किया और किसी भी ऋषि ने ऐसा सम्मान पहली बार हासिल किया। वे दुनिया के पहले कुलपति थे।* *5. 🚩🌹शुक्राचार्य : भृगुवंशी दैत्यगुरु शुक्राचार्य का असली नाम शुक्र उशनस है। गुरु शुक्राचार्य को भगवान शिव ने मृत संजीवनी दिया था जिससे कि मरने वाले दानव फिर से जीवित हो जाते थे। गुरु शुक्राचार्य ने दानवों के साथ देव पुत्रों को भी शिक्षा दी। देवगुरु बृहस्पति के पुत्र कच इनके शिष्य थे।* *6. 🚩🌹देवगुरु बृहस्पति : महान अंगिरा ऋषि के पुत्र बृहस्पति को देवताओं का गुरु कहते हैं। देवगुरु बृहस्पति रक्षोघ्र मंत्रों का प्रयोग कर देवताओं का पोषण एवं रक्षा करते हैं तथा दैत्यों से देवताओं की रक्षा करते हैं। युद्ध में जीत के लिए योद्धा लोग इनकी प्रार्थना करते हैं।* *7. 🚩🌹धौम्य ऋषि : गुरु धौम्य का आश्रम सेवा, तितिक्षा और संयम के लिए प्रख्यात था। ये अपने शिष्यों को सुयोग्य बनाने के लिए उनको तप व योग साधना में लगाते थे। स्वयं गुरु महर्षि धौम्य की तपःशक्ति केवल आशीर्वाद से शिष्य को शास्त्रज्ञ बनाने में समर्थ थी। आरुणि, उपमन्यु और वेद (उत्तंक)- ये 3 शास्त्रकार ऋषि महर्षि धौम्य के शिष्य थे।* *8. 🚩🌹कपिल मुनि : कपिल मुनि 'सांख्य दर्शन' के प्रवर्तक थे। इनकी माता का नाम देवहुती व पिता का नाम कर्दम था। कपिल ने माता को जो ज्ञान दिया, वही 'सांख्य दर्शन' कहलाया। महाभारत में ये सांख्य के वक्ता कहे गए हैं। कपिलवस्तु, जहां बुद्ध पैदा हुए थे, कपिल के नाम पर बसा नगर था* *9. 🚩🌹वामदेव : वामदेव ने इस देश को सामगान (अर्थात संगीत) दिया। वामदेव ऋग्वेद के चतुर्थ मंडल के सूत्तदृष्टा, गौतम ऋषि के पुत्र तथा जन्मत्रयी के तत्ववेत्ता माने जाते हैं। भरत मुनि द्वारा रचित भरतनाट्यम शास्त्र सामवेद से ही प्रेरित है। हजारों वर्ष पूर्व लिखे गए सामवेद में संगीत और वाद्य यंत्रों की संपूर्ण जानकारी मिलती है।* *10. 🚩🌹आदि शंकराचार्य : आदि शंकराचार्य का जन्म 508 ईसा पूर्व हुआ था। शंकराचार्य के चार शिष्य : 1. पद्मपाद (सनन्दन), 2. हस्तामलक 3. मंडन मिश्र 4. तोटक (तोटकाचार्य)। माना जाता है कि उनके ये शिष्य चारों वर्णों से थे।* *11. 🚩🌹गुरु द्रोणाचार्य* *🚩🌹द्रोणाचार्य को कौन नहीं जानता भला। कौरवों और पांडवों को शस्त्रों की शिक्षा देने वाले द्रोणाचार्य का स्थान शिक्षकों में काफी ऊपर कहा जाता है। वो द्रोणाचार्य की शिक्षा ही थी जिसने अर्जुन को एक महान योद्धा बनाया। अर्जुन ने भी कठिन परिश्रम से अपने गुरु का मान रखा, जिससे प्रसन्न होकर द्रोणाचार्य ने अर्जुन को ब्रह्मा के शक्तिशाली दिव्य हथियार ब्रह्मास्त्र का आह्वान करने के लिए मंत्र बताए थे।* *12. 🚩🌹महर्षि सांदीपनि* *🚩🌹महर्षि सांदीपनि विष्णु के अवतार कृष्ण के गुरु थे। उनका आश्रम मध्य प्रदेश के उज्जैन में हुआ करता था जहां श्रीकृष्ण ने अपने भाई बलराम और दोस्त सुदामा के साथ शिक्षा ग्रहण की थी। शिक्षा पूरी होने के बाद कृष्ण और बलराम ने सांदीपनि से गुरु दक्षिणा मांगने के लिए कहा था, जिसपर सांदीपनि ने उनसे अपने खोया हुआ पुत्र ढूंढने के लिए कहा था। श्रीकृष्ण और बलराम ने मिलकर उनके बेटे को ढूंढा था।* *13 🚩🌹चाणक्य* *🚩🌹चंद्रगुप्त मौर्य को सत्ता के सिंहासन पर बिठाने के पीछे चाणक्य का ही हाथ कहा जाता है। राजनीति और अर्थशास्त्र को लेकर ये उनकी बारीक समझ ही थी कि उन्हें भारतीय इतिहास का सबसे महान राजनीतिज्ञ कहा जाता है। उन्होंने अपनी कूटनीति और राजनीतिक समझ से चंद्रगुप्त जैसे एक साधारण इंसान को सिंहासन के तख्त पर बैठा दिया।* *14. 🚩🌹विश्वमित्र* *🚩🌹विश्वामित्र प्राचीन भारत के सबसे सम्मानित ऋषियों में से एक है। उन्हें गायत्री मंत्र सहित ऋग्वेद के मंडला 3 के अधिकांश लेखक के रूप में भी श्रेय दिया जाता है। वशिष्ट से युद्धा हार जाने का बाद विश्वामित्र ने अपना राजकाज छोड़, तपस्या में ध्यान लगाया था। घोर तपस्या के बाद उन्होंने वशिष्ट से ही ब्रह्मर्षि का पद लिया था।* *15. 🚩🌹स्वामी समर्थ रामदास* *🚩🌹महाराष्ट्र के आध्यात्मिक कवि थे। उन्हें अपने अद्वैत वेदांतवादी पाठ, दासबोध के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है। रामदास हनुमान और राम के भक्त थे। वो छत्रपति शिवाजी महाराज का आध्यात्मिक गुरु भी थे।* *16. 🚩🌹परशुराम* *🚩🌹विष्णु के छठें अवतार परशुराम अपने क्रोध के लिए भी जाने जाते थे। परशुराम ने अपने पिता के कहने पर माता का वध कर दिया था। वे एक ब्राह्मण के रूप में जन्में अवश्य थे लेकिन कर्म से एक क्षत्रिय थे। उन्हें भार्गव के नाम से भी जाना जाता है।* *17 🚩🌹रामकृष्ण परमहंस* *🚩🌹रामकृष्ण परमहंस स्वामी विवेकानंद के गुरू थे। एक योगी और आध्यात्मिक गुरू रामकृष्ण परमहंस का झुकाव काली और वैष्णव के तरफ काफी माना जाता है। उनके मुख्य शिष्य स्वामी विवेकानंद ने ही उनके सम्मान में रामकृष्ण मिशन का गठन किया था, जिसका उद्देश्य धर्मों की सद्भावना और मानवता के लिए शांति और समानता को बढ़ावा देना है।* *18. 🚩🌹गौतम बुद्ध* *🚩🌹गौतम बुद्ध का जन्म 480 ईसा पूर्व में हुआ था। वे एक दार्शनिक, शिक्षाविद, ध्यानी, आध्यात्मिक शिक्षक और धार्मिक नेता थे जो प्राचीन भारत में रहते थे। वह बौद्ध धर्म के संस्थापक थे। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने कर्म को पार कर जन्म और पुनर्जन्म के चक्र से निजात पा ली थी।* *19. 🚩🌹रवींद्रनाथ टैगोर* *🚩🌹रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई, 1861 को हुआ था। वे एक बंगाली कवि, लेखक, संगीतकार, दार्शनिक और चित्रकार थे। उन्होंने एक ऐसे स्कूल की स्थापना की, जिसने भारत और दुनिया के बीच एक 'कनेक्टिंग थ्रेड' के रूप में काम किया और 'गुरुकुल' की अवधारणा को सुदृढ़ किया।* *20.🚩🌹 डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम* *🚩🌹डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को हुआ था। उनका पूरा नाम अवुल पकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था। वह एक भारतीय एयरोस्पेस वैज्ञानिक थे। 2002 से 2007 तक, उन्होंने भारत के 11 वें राष्ट्रपति के रूप में सेवा प्रदान की। उन्होंने विभिन्न कॉलेजों जैसे IIT, IIM, BHU आदि में भी पढ़ाया है।* *21. 🚩🌹स्वामी दयानंद सरस्वती* *🚩🌹स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म 12 फरवरी, 1824 को हुआ था। वह एक भारतीय दार्शनिक, सामाजिक नेता और आर्य समाज के संस्थापक थे। 1876 ​​में उन्होंने 'भारतीयों के लिए भारत' का आह्वान किया, जिसे बाद में लोकमान्य तिलक ने आगे बढ़ाया। उन्होंने महिलाओं के लिए समान अधिकारों के प्रचार की दिशा में भी काम किया।* *21 .🚩🌹सावित्रीबाई फुले* *🚩🌹सावित्रीबाई फुले का जन्म 3 जनवरी, 1831 को हुआ था। वह एक भारतीय समाज सुधारक, शिक्षाविद् और कवि थीं। वह भारत की पहली महिला शिक्षक हैं जिन्होंने अपने पति के साथ मिलकर भारत में महिलाओं के अधिकारों को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्हें भारतीय नारीवाद की जननी भी माना जाता है।* *22. 🚩🌹स्वामी विवेकानंद* *🚩🌹स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 को नरेंद्रनाथ दत्त के रूप में हुआ था। वह एक भारतीय हिंदू भिक्षु थे जो रामकृष्ण मिशन के पीछे थे। उन्होंने देश में गुरुकुल प्रणाली का प्रचार किया, जहाँ शिक्षक और छात्र एक साथ रहते थे।* *23. 🚩🌹प्रेमचंद* *🚩🌹प्रेमचंद का जन्म 31 जुलाई, 1880 को धनपत राय श्रीवास्तव के रूप में हुआ था। वे अपने कल्पित नाम 'मुंशी प्रेमचंद' से जाने जाते थे। वे एक भारतीय लेखक थे जो अपने आधुनिक हिंदुस्तानी साहित्य के लिए प्रसिद्ध थे। वह स्वामी विवेकानंद की शिक्षाओं से बहुत प्रभावित थे।* *🦚दिया ज्ञान का अतुल भण्डार हमें,,,* *किया भविष्य के लिए तैयार हमें,,,* *जो किया आपने उस उपकार के लिए,,,* *नहीं शब्द हमारे पास आभार के लिए...!!!* *🦚सभी गुरुजनों को मेरा शत शत नमन* 🙏🌹🙏 *महान शिक्षाविद व देश के द्वितीय राष्ट्रपति 'भारत रत्न' डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी की जयंती पर उन्हें कोटिशः नमन* 🙏💐🙏 *समस्त देशवासियों को राष्ट्रीय शिक्षक दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं!!!* *#शिक्षक_दिवस #Teachers_Day* 🙏💐🙏 🚩🌹🍁🚩🌹🍁🚩🌹🍁

+151 प्रतिक्रिया 71 कॉमेंट्स • 163 शेयर
Ravi Kumar Taneja Sep 2, 2022

*🌹☆राम राम जी ☆🌹* ♧जय जय जय बजरंग बली♧🙏🌺🙏 ऊँ शं शनिश्चराय नमो: नमः🙏🌻🙏 *🌴चित्र ही नहीं चरित्र भी सुन्दर हो* *🌴भवन ही नही भावना भी सुन्दर हो* *🌴साधन ही नही साधना भी सुन्दर हो* *🌴दृष्टि ही नही दृष्टिकोण भी सुन्दर हो* *🌴मैं श्रेष्ठ हूँ यह आत्मविश्वास है लेकिन* *सिर्फ मै ही श्रेष्ठ हूँ यह अहंकार है!* *🌴इसलियें जीवन की हर स्थिति मे धेर्य बनाये रखना श्रेष्ठता है!!!* *🌴बिना स्वाद की चाय की चुस्की मजा नही देती रिश्तों की चाय में शक्कर ज़रा माप के ही रखना!* *🌴फीकी हुई तो स्वाद नहीं आएगा और ज्यादा मीठी हुई तो मन भर जाएगा!!!* *🌴इस जीवन मे हर चीज़ का संतुलन बहुत जरूरी है!!!* 🛕📿🪔🕉🛕📿🪔 अपना ध्यान रखें, सुरक्षित रहें,और खुश रहें ना केवल अपने लिए बल्कि अपनो के लिए !!!😊 *🙏🚩☆जय श्री राम ☆🚩🙏* *सदैव प्रसन्न रहिये!* *जो प्राप्त है,पर्याप्त है!!* 🕉🏹🙏💐🙏🏹🕉

+185 प्रतिक्रिया 81 कॉमेंट्स • 141 शेयर
Ravi Kumar Taneja Sep 2, 2022

‼️ *जय माता रानी दी*‼️ 🔱सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके! शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते!!🔱 🌟शुभ प्रभात वंदना जी🌟 ⚛माता रानी लक्ष्मी देवी के आशीर्वाद से आप और आपका परिवार हमेशा खुश रहे,स्वस्थ रहें,मस्त रहें⚛ जय मां अम्बे जय जय जगदम्बे 🙏🌹🙏 🌿मंजिले कितनी भी ऊंची हो; रास्ते हमेशा पैरों के नीचे होते है🌿 🔱 *जय माता रानी दी*🔱 🌹 💫✨स्नान *तन* को✨💫 ध्यान *मन* को दान *धन* को योग *जीवन* को प्रार्थना *आत्मा* को व्रत *स्वास्थ* को क्षमा *रिश्तो* को """"""और"""""" परोपकार *किस्मत* को शुद्ध कर देता है🙏⚘🙏 *🔱जयकारा शेरांवाली दा* *बोलो सच्चे दरबार की जय...🔱* *सदैव प्रसन्न रहिये!* *जो प्राप्त है पर्याप्त है!!* 🕉🪴🙏🌷🙏🪴🕉

+181 प्रतिक्रिया 69 कॉमेंट्स • 116 शेयर
Ravi Kumar Taneja Aug 30, 2022

*🌴ॐ गं गणपतये नमो नमः🌴* लालबाग का राजा 2022 First Look 🙏🌸🙏 🌻वक्रतुंड महाकाय सुर्य कोटी समप्रभ निर्विघ्नं कुरुम देवं सर्व कार्येशु सर्वदा🌻 🌼ॐ श्रीसिद्धिविनायकाय नमो नमः🌼 🪴"संबंधों को सिर्फ समय की ही नहीं, समझ की भी जरूरत होती है...!!!" "लेकिन वो समझ आपकी अपनी होनी चाहिए दूसरों की नही...!!!" 🪴जो हो गया उसे सोचा नहीं करते...!!! जो मिल गया उसे खोया नहीं करते... हासिल उन्हें ही होती है सफलता... जो वक्त और हालात पर रोया नहीं करते...!!! 🪴आलपिन📎📌 सारे कागज़ को जोड़कर रखना चाहती है लेकिन वह हर कागज़ को चुभती हैl इसी प्रकार जो व्यक्ति सभी को जोड़कर रखना चाहता है वह भी सभी की आँखों में चुभता है! 🪴"कोई अगर आपके अच्छे कार्य पर सन्देह करता है ... तो करने देना, क्योकि... शक़, सदा सोने की शुद्धता पर किया जाता है... कोयले की कालिख पर नही...!" 🌹🌹🌹🕉🌹🌹🌹 ()(. = .)() <>’ ) )’<> (,,,)’ ‘(,,,) *सदैव प्रसन्न रहिये!* *जो प्राप्त है पर्याप्त है!!* 🕉🪴🙏🌻🙏🪴🕉

+257 प्रतिक्रिया 126 कॉमेंट्स • 258 शेयर