*ट्रक के पीछे जब हमारी गाडी होती है, तब कई बार पीछे लिखी रोचक शायरी पढने को मिलती है । किसी ने 'ट्रकों पर कोरोना शायरी’’ की अनूठी पहल की है और यह कोरोना शायरी भी उसी रोचक और मौजी अंदाज में लिखी हैं । इसमें अनेक भावों के साथ वैक्सीन लगवाने और मास्क का निरंतर उपयोग करने के संदेश हैं।* *"देखो मगर प्यार से….* *कोरोना डरता है वैक्सीन की मार से"* —- *"मैं खूबसूरत हूं मुझे नजर न लगाना* *जिंदगी भर साथ दूंगी, वैक्सीन जरूर लगवाना"* —- *"हंस मत पगली, प्यार हो जाएगा* *टीका लगवा ले, कोरोना हार जाएगा"* —- *"टीका लगवाओगे तो बार-बार मिलेंगे* *लापरवाही करोगे तो हरिद्वार मिलेंगे"* —- *"यदि करते रहना है सौंदर्य दर्शन रोज-रोज* *तो पहले लगवा लो वैक्सीन के दोनों डोज"* —- *"टीका नहीं लगवाने से* *यमराज बहुत खुश होता है।"* — *"चलती है गाड़ी, उड़ती है धूल* *वैक्सीन लगवा लो वरना होगी बड़ी भूल"* —- *"बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला* *अच्छा होता है वैक्सीन लगवाने वाला"* —- *"कोरोना से सावधानी हटी,* *तो समझो सब्जी-पूड़ी बंटी"* —- *"मालिक तो महान है, चमचो से परेशान है।* *कोरोना से बचने का, टीका ही समाधान है।* _

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

राधे राधे ॥ आज का भगवद चिन्तन । 🍃समय को काटो नहीं अपितु जिओ। समय काटना अर्थात समय का दुरूपयोग करना और समय का जीना अर्थात समय का सदुपयोग करना। हमारे शास्त्रों में स्पष्ट कहा गया है कि मनुष्य अपनी नासमझी में अपने जीवन को व्यर्थ गंवाता है। 🍃" कालो न यातो वयमेव याता " अर्थात मनुष्य समझता है कि वह समय काट रहा है मगर सच्चाई यह है कि वह समय को नहीं अपितु समय उसे काट रहा है। समय उन लोगों द्वारा ही जिया जाता है जो पुरुषार्थ, नया सृजन और सफल होने के लिए निरन्तर कर्म करने में विश्वास रखते हैं। 🍃अन्यथा किस्मत में विश्वास रखने वाले तो उसे काटने में ही लगे रहते हैं। प्रत्येक क्षण का सदुपयोग करना सीखो ताकि आपका प्रभात शुभप्रभात और रात्रि शुभरात्रि बन सके। एवं आप स्वयं के जीवन को भी आप उन्नति और सफलता की ओर अग्रसर कर सकें। 🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर

*🌻भगवान की प्लानिंग🌻* एक बार भगवान से उनका सेवक कहता है, *भगवान-आप एक जगह खड़े-खड़े थक गये होंगे ?* एक दिन के लिए मैं आपकी जगह *मूर्ति* बन कर खड़ा हो जाता हूं, आप मेरा *रूप धारण* कर घूम आओl *भगवान मान जाते हैं*, लेकिन शर्त रखते हैं कि जो भी लोग *प्रार्थना* करने आयें, तुम बस उनकी *प्रार्थना सुन लेना कुछ बोलना नहीं।* *मैंने उन सभी के लिए प्लानिंग कर रखी है, सेवक मान जाता हैl* सबसे पहले *मंदिर में बिजनेस मैन आता है* और कहता है, भगवान मैंने एक नयी फैक्ट्री डाली है, उसे *खूब सफल करना।* वह *माथा टेकता है*, तो उसका *पर्स नीचे गिर* जाता है l *वह बिना पर्स लिये ही चला जाता हैl* *सेवक बेचैन हो जाता है*, वह सोचता है कि रोक कर उसे बताये कि *पर्स गिर* गया, *लेकिन शर्त की वजह से वह नहीं कह पाताl* इसके बाद एक *गरीब आदमी* आता है और *भगवान को कहता है कि घर में खाने को कुछ नहीं. भगवान मदद करो।* तभी उसकी *नजर पर्स* पर पड़ती है, वह *भगवान का शुक्रिया अदा करता* है और पर्स लेकर चला जाता हैl अब *तीसरा व्यक्ति* आता है, वह *नाविक* होता है l वह *भगवान* से कहता है कि *मैं 15 दिनों के लिए जहाज लेकर समुद्र की यात्रा पर जा रहा हूं,यात्रा में कोई अड़चन न आये भगवान..* तभी पीछे से *बिजनेस मैन पुलिस के साथ आता* है और कहता है कि मेरे बाद ये *नाविक* आया हैl इसी ने *मेरा पर्स चुरा* लिया है, *पुलिस नाविक को ले जा रही होती है तभी सेवक बोल पड़ता है।* अब पुलिस सेवक के कहने पर उस *गरीब आदमी* को पकड़ कर जेल में बंद कर देती है। *रात को भगवान आते हैं, तो सेवक खुशी खुशी पूरा किस्सा बताता हैl* *भगवान कहते हैं, तुमने किसी का काम बनाया नहीं, बल्कि बिगाड़ा हैl* वह *व्यापारी गलत धंधे* करता है,अगर उसका *पर्स गिर भी गया, तो उसे फर्क नहीं पड़ता था।* इससे उसके *पाप ही कम होते*, क्योंकि वह *पर्स गरीब इंसान को मिला था*. पर्स मिलने पर *उसके बच्चे भूखों नहीं मरते !* रही बात *नाविक* की, तो वह जिस *यात्रा* पर जा रहा था, वहां *तूफान आनेवाला था*, अगर वह जेल में रहता, तो जान बच जाती, उसकी पत्नी विधवा होने से बच जाती, *तुमने सब गड़बड़ कर दीl* कई बार हमारी लाइफ में भी ऐसी परेशानी आती है, जब हमें लगता है कि ये मेरे साथ ही क्यों हुआl *लेकिन इसके पीछे भगवान की प्लानिंग होती हैl* *शिक्षा:* *जब भी कोई परेशानी आये. उदास मत होना l इस कहानी को याद करना और सोचना कि जो भी होता है,अच्छे के लिए होता है* ..!!

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 44 शेयर