+4 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 32 शेयर

🌞 *~ वैदिक पंचांग 🔱 हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌤️ *दिनांक - 19 सितम्बर 2022* 🌤️ *दिन - सोमवार* 🌤️ *विक्रम संवत - 2079 (गुजरात-2078)* 🌤️ *शक संवत -1944* 🌤️ *अयन - दक्षिणायन* 🌤️ *ऋतु - शरद ॠतु* 🌤️ *मास - अश्विन (गुजरात एवं महाराष्ट्र के अनुसार भाद्रपद)* 🌤️ *पक्ष - कृष्ण* 🌤️ *तिथि - नवमी शाम 07:01 तक तत्पश्चात दशमी* 🌤️ *नक्षत्र - आर्द्रा शाम 06:11 तक तत्पश्चात पुनर्वसु* 🌤️ *योग - व्यतिपात सुबह 07:29 तक वरीयान्* 🌤️ *राहुकाल - सुबह 07:58 से सुबह 09:29 तक* 🌞 *सूर्योदय - 06:27* 🌦️ *सूर्यास्त - 18:36* 👉 *दिशाशूल - पूर्व दिशा में* 🚩 *व्रत पर्व विवरण - अविधवा श्राद्ध, नवमी का श्राद्ध, सौभाग्यवती का श्राद्ध* 🔥 *विशेष - नवमी को लौकी खाना गोमांस के समान त्याज्य है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ वैदिक पंचांग ~* 🌞 🌷 *इससे आपका मन लगने लगेगा* 🌷 ➡ *यदि दुकान अथवा व्यवसाय-स्थल पर आपका मन नहीं लगता है तो इसके लिए आप जिस स्थान पर बैठते हैं वहाँ थोडा-सा कपूर जलायें, अपनी पसंद के पुष्प रखें और स्वस्तिक या ॐकार को अपलक नेत्रों से देखते हुए कम-से-कम ५ – ७ बार ॐकार का दीर्घ उच्चारण करें |* ➡ *अपने पीछे दीवार पर ऊपर ऐसा चित्र लगायें जिसमें प्राकृतिक सौंदर्य हो, ऊँचे –ऊँचे पहाड़ हों परंतु वे नुकीले न हों और न ही उस चित्र में जल हो अथवा यथायोग्य किसी स्थान पर आत्मज्ञानी महापुरुषों, देवी-देवताओं के चित्र लगायें | इससे आपका मन लगने लगेगा |* 🙏🏻 *ऋषिप्रसाद – जुलाई २०१९ से* 🌞 *~ वैदिक पंचांग ~* 🌞 🌷 *पितृ पक्ष* 🌷 🙏🏻 *अभी पितृ पक्ष चल रहा है | अपने घर के लोग जो गुजर गये हैं | उनकी आत्मा को शांति देने के लिए इतना जरूर करें कि अब सर्व पितृ अमावस्या आयेगी, (25 सितम्बर 2022 रविवार को ) उस दिन गीता का 7 अध्याय पाठ करें, सूर्य भगवान के सामने जल और अन्न ले जाकर प्रार्थना करें कि: "हे सूर्यदेव, यमराज आपके पुत्र हैं, हमारे घर के जो भी गुजर गये उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें, आज के गीता के पाठ का पुण्य उनके लिए दीजिये" पितृ गण राजी होंगे, घर में अच्छी संतान जन्म लेगी यह सर्व पितृ अमावस्या के दिन जरूर करें।* 🙏🏻 *पूज्य बापूजी -5th September 07, Baksi(Ujjain)* 🌞 *~ वैदिक पंचांग ~* 🌞 🌷 *उन्नतिकारक कुंजियाँ* 🌷 👉🏻 *हल्का भोजन करने से शरीर में स्थूलता कम होती है, मन भी सूक्ष्म होता है | सूक्ष्म मन प्रसन्नता का द्योतक है |* 👉🏻 *भृकुटी में तिलक करने से ज्ञानशक्ति का विकास होता है |* 🙏🏻 *ऋषिप्रसाद – सितम्बर 2021 से* 📖 *वैदिक पंचांग संपादक ~ अंजनी निलेश ठक्कर* 📒 *वैदिक पंचांग प्रकाशित स्थल ~ सुरत शहर (गुजरात)* 🌞 *~ वैदिक पंचांग ~* 🌞 🙏🏻🌷🌸🌼💐☘🌹🌻🌺🙏 *🌞~ आज का हिन्दू पंचांग ~🌞* *⛅दिनांक - 19 सितम्बर 2022* *⛅दिन - सोमवार* *🌹श्राद्ध से सद्गति🌹* *जिनको जीवन में श्राद्ध का महत्त्व नहीं पता, वे लोग बड़े घाटे में रहते हैं ।* *🌹 हनुमानप्रसाद पोद्दार, गीताप्रेस-गोरखपुर के जाने-माने सज्जन संत एक बार मुंबई में रात्रि को समुद्र किनारे बैठे थे । उनके सामने आकर एक पारसी सज्जन (प्रेत) ने प्रार्थना की कि ‘हम जाति के पारसी थे इसलिए घरवालों ने श्राद्ध नहीं किया । मेरी रूह (आत्मा) भटक रही है । आप मेरा श्राद्ध करायें तो मेरी सद्गति होगी ।’* *🌹हनुमानप्रसाद पोद्दार ने उनका श्राद्ध कराया । दूसरे दिन उस पारसी का जीवात्मा सपने में बड़ा प्रसन्न होकर उनका अभिवादन कर रहा था कि ‘अब मैं ऊँची यात्रा कर रहा हूँ । मेरी सद्गति हो गयी, नहीं तो मैं भटक रहा था ।’* *🔹केन्सर से बचने हेतु इलाज🔹* *🔹१) सुबह मंजन करने के पहले बासी मुंह, १ तोला (१०-१२ मि. ग्रा.) देशी गाय का गौ मूत्र छान कर लें या ये न मिले तो गौझरण में १०-१२ मि.ग्रा पानी डाल के लें । थोड़े दिन में केन्सर की बीमारी मिट जायेगी ।* *🔹२) २० ग्राम तुलसी का रस, ५० ग्राम ताजा दही के साथ कुछ दिन सुबह-शाम लेने से केन्सर में आराम होता है ।* *- 🌹पूज्य बापूजी 20 Mar, 2010 Indore* *🔹गौ-समुदाय की रक्षा का मंत्र🔹* *🔹ॐ नमो भगवते त्र्यम्बकायोपशमयोपशमय चुलु चुलु मिलि मिलि भिदि भिदि गोमानिनि चक्रिणि हूँ फट् । अस्मिन्ग्रामे गोकुलस्य रक्षां कुरु शान्तिं कुरु कुरु कुरु ठ ठ ठ ॥ ( अग्नि पुराण: ३०२.२९-३०)* *🙏प्रार्थना : घंटाकर्ण महासेन वीर बड़े बलवान कहे गये हैं वे जगदीश्वर महामारी का नाश करनेवाले हैं, अतः मेरी रक्षा करें ।* *🔹उपरोक्त मंत्र व यह प्रार्थना गायों की रक्षा करनेवाली है । अतः यदि इसको लिखकर घर या गौशाला के द्वार आदि पर टाँग दिया जाय तो गायों की रक्षा होती है । उनकी बीमारी, महामारी, अपमृत्यु आदि दूर होती है ।*

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 41 शेयर