+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 19 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

उज्जैन_में_भैरव_बाबा_को_चढ़ेगी_56_प्रकार_की_शराब, जानिए इसके_पीछे_का_रहस्य विश्व प्रसिद्ध काल भैरव मंदिर में आज से दो दिवसीय भैरव अष्टमी पर्व की हुई शुरुआत हुई. रात 9 बजे की विशेष आरती के बाद देर रात 12 बजे भगवान काल भैरव का विशेष पूजन होगा. इसके बाद भैरव बाबा को 56 प्रकार की शराब का भोग भी लगाया जाएगा. फिर अगले दिन 111 तकह के पकवानों का भंडारा होगा. बता दें कि मन्दिर को आकर्षक विद्युत रोशनी, फूलों व बलून से सजाया गया है. अगले दिन 28 नवंबर शाम 4 बजे बाबा भैरव नगर भ्रमण पर निकलेंगे. इसमें भेरवगढ़ जेल का प्रशासनिक अमल बाबा को सलामी देगा. शिव के रूप में बाबा भैरव भैरव अर्थात भय से रक्षा करने वाला, इन्हें शिव का ही रूप माना जाता है. शास्त्रों के अनुसार काल भैरव भगवान शिव का ही साहसिक और युवा रूप हैं. जिन्हें रुद्रावतार भी कहते हैं. जो शत्रुओं और संकट से मुक्ति दिलाते हैं. उनकी कृपा हो तो कोर्ट-कचहरी के चक्करों से जल्दी छुटकारा मिल जाता है. हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार हर महीने कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी व्रत रखा जाता है. इस दिन कालभैरव की पूजा की जाती है. उज्जैन में विश्व का एक मात्र ऐसा मंदिर है. जहां पर कालभैरव भगवान पर मदिरा का चढ़ावा चढ़ाया जाता है. महाकाल की नगरी होने से भगवान काल भैरव को उज्जैन नगर का सेनापति भी कहा जाता है. कालभैरव के शत्रु नाश मनोकामना को लेकर कहा जाता है कि यहां मराठा काल में महादजी शिन्दे (सिंधिया) ने युद्ध में विजय के लिए भगवान को अपनी पगड़ी अर्पित की थी. पानीपत के युद्ध में मराठों की पराजय के बाद तत्कालीन शासक महादजी शिन्दे (सिंधिया) ने राज्य की पुर्नस्थापना के लिए भगवान के सामने पगड़ी रख दी थी. उन्होंने भगवान से प्रार्थना की कि युद्ध में विजयी होने के बाद वे मंदिर का जीर्णोद्धार करेंगे. कालभैरव की कृपा से महादजी शिन्दे (सिंधिया) युद्धों में विजय हासिल करते चले गए. इसके बाद उन्होंने मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया. तब से मराठा सरदारों की पगड़ी भगवान कालभैरव के शीश पर पहनाई जाती है ! स्वंय ब्रह्मा की गलती पर जब आपको क्रोध आया तब आपने अपने बाँए हाथ के नाखून से उनका पाँचवा सिर काट कर अलग कर दिया , श्री शिव प्रिय काशी और उज्जैन नगरी के कोतवाल , बाबा महाकाल जी के सेनापति , सभी देवी के शक्तिपीठों के साथ रक्षक रुप में विराजमान , उन ऐसे प्यारे भगवान श्री देवाधिदेव महादेव जी के प्रिय मुख्य "भैरव" अवतार के प्राकट्योत्सव की सभी भक्तों को हार्दिक मंगल बधाई भगवान् भैरव सभी भक्तों के भय का नाश करें 🙏

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर