radha May 18, 2022

+15 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
radha May 17, 2022

एक होमवर्क ऐसा भी- चेन्नई के एक स्कूल ने अपने बच्चों को छुट्टियों का जो एसाइनमेंट दिया वो पूरी दुनिया में वायरल हो रहा है। कारण बस इतना कि उसे बड़े सोच समझकर बनाया गया है। इसे पढ़कर अहसास होता है कि हम वास्तव में कहां आ पहुंचे हैं और अपने बच्चों को क्या दे रहे हैं। अन्नाई वायलेट मैट्रीकुलेशन एंड हायर सेकेंडरी स्कूल ने बच्चों के लिए नहीं बल्कि पेरेंट्स के लिए होमवर्क दिया है, जिसे हर एक पेरेंट को पढ़ना चाहिए। उन्होंने लिखा:- ◆ पिछले 10 महीने आपके बच्चों की देखभाल करने में हमें अच्छा लगा। आपने गौर किया होगा कि उन्हें स्कूल आना बहुत अच्छा लगता है। अगले दो महीने उनके प्राकृतिक संरक्षक यानी आप उनके साथ छुट्टियां बिताएंगे। हम आपको कुछ टिप्स दे रहे हैं जिससे ये समय उनके लिए उपयोगी और खुशनुमा साबित हो। ◆- अपने बच्चों के साथ कम से कम दो बार खाना जरूर खाएं। उन्हें किसानों के महत्व और उनके कठिन परिश्रम के बारे में बताएं। और उन्हें बताएं कि उपना खाना बेकार न करें। ◆- खाने के बाद उन्हें अपनी प्लेटें खुद धोने दें। इस तरह के कामों से बच्चे मेहनत की कीमत समझेंगे। ◆- उन्हें अपने साथ खाना बनाने में मदद करने दें। उन्हें उनके लिए सब्जी या फिर सलाद बनाने दें। ◆- तीन पड़ोसियों के घर जाएं. उनके बारे में और जानें और घनिष्ठता बढ़ाएं। ◆- दादा-दादी/ नाना-नानी के घर जाएं और उन्हें बच्चों के साथ घुलने मिलने दें। उनका प्यार और भावनात्मक सहारा आपके बच्चों के लिए बहुत आवश्यक है। उनके साथ फ़ोटो लेवें। ◆- उन्हें अपने काम करने की जगह पर लेकर जाएं जिससे वो समझ सकें कि आप परिवार के लिए कितनी मेहनत करते हैं। ◆- किसी भी स्थानीय त्योहार या स्थानीय बाजार को मिस न करें। ◆- अपने बच्चों को किचन गार्डन बनाने के लिए बीज बोने के लिए प्रेरित करें। पेड़ पौधों के बारे में जानकारी होना भी आपके बच्चे के विकास के लिए जरूरी है। ◆- अपने बचपन और अपने परिवार के इतिहास के बारे में बच्चों को बताएं। ◆- अपने बच्चों का बाहर जाकर खेलने दें, चोट लगने दें, गंदा होने दें। कभी कभार गिरना और दर्द सहना उनके लिए अच्छा है। सोफे के कुशन जैसी आराम की जिंदगी आपके बच्चों को आलसी बना देगी। ◆- उन्हें कोई पालतू जावनर जैसे कुत्ता, बिल्ली, चिड़िया या मछली पालने दें। ◆- उन्हें कुछ लोक गीत सुनाएं। ◆- अपने बच्चों के लिए रंग बिरंगी तस्वीरों वाली कुछ कहानी की किताबें लेकर आएं। ◆- अपने बच्चों को टीवी, मोबाइल फोन, कंप्यूटर और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स से दूर रखें। इन सबके लिए तो उनका पूरा जीवन पड़ा है। ◆- उन्हें चॉकलेट्स, जैली, क्रीम केक, चिप्स, गैस वाले पेय पदार्थ और पफ्स जैसे बेकरी प्रोडक्ट्स और समोसे जैसे तले हुए खाद्य पदार्थ देने से बचें। ◆- अपने बच्चों की आंखों में देखें और ईश्वर को धन्यवाद दें कि उन्होंने इतना अच्छा उपहार आपको दिया। अब से आने वाले कुछ सालों में वो नई ऊंचाइयों पर होंगे। माता-पिता होने के नाते ये जरूरी है कि आप अपना समय बच्चों को दें। ★ अगर आप माता-पिता हैं तो इसे पढ़कर आपकी आंखें नम अवश्य हुई होंगी और आखें अगर नम हैं तो कारण स्पष्ट है कि आपके बच्चे वास्तव में इन सब चीजों से दूर हैं। *इस एसाइनमेंट में लिखा एक-एक शब्द ये बता रहा है कि जब हम छोटे थे तो ये सब बातें हमारी जीवन शैली का हिस्सा थीं, जिसके साथ हम बड़े हुए हैं, लेकिन आज हमारे ही बच्चे इन सब चीजों से दूर हैं, जिसकी वजह हम खुद हैं।* *इस कठिन काल में बच्चों के साथ ऐसे कार्य करे जिससे उनके अंदर त्याग, समर्पण, सेवा परोपकार की भावना जागृत हो।* 🙏🙏

+17 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 29 शेयर
radha May 17, 2022

#mustread *ना जाने किसकी रचना है ? *बहुत ही उम्दा लिखा है, झिंझोड कर रख दिया 😥 ︵︷︵︷︵︷︵︷︵​︷︵ ❓​ कुछ रह तो नहीं गया ❓ ︶︸︶︸︶︸︶︸︶︸︶ तीन महीने के बच्चे को दाई के पास रखकर जॉब पर जाने वाली माँ को दाई ने पूछा ~ कुछ रह तो नहीं गया ? पर्स, चाबी सब ले लिया ना ? अब वो कैसे हाँ कहे ? पैसे के पीछे भागते-भागते सब कुछ पाने की ख्वाहिश में वो जिसके लिये सब कुछ कर रही है, वही रह गया है ! 😑 शादी में दुल्हन को बिदा करते ही शादी का हॉल खाली करते हुए दुल्हन की बुआ ने पूछा ~ भैया, कुछ रह तो नहीं गया ना ? चेक करो ठीक से ..! बाप चेक करने गया, तो दुल्हन के रूम में कुछ फूल सूखे पड़े थे. सब कुछ तो पीछे रह गया. 21 साल जो नाम लेकर जिसको आवाज देता था, लाड़ से, वो नाम पीछे रह गया, और उस नाम के आगे गर्व से जो नाम लगाता था, वो नाम भी पीछे रह गया अब. भैया, देखा ? कुछ पीछे रह तो नहीं गया ? बुआ के इस सवाल पर आँखों में आये आँसू छुपाता बाप जुबाँ से तो नहीं बोला, पर दिल में एक ही आवाज थी ~ सब कुछ तो यहीं रह गया .! 😔 बड़ी तमन्नाओं के साथ बेटे को पढ़ाई के लिए विदेश भेजा था, और वह पढ़कर वहीं सैटल हो गया. पौत्र जन्म पर बमुश्किल 3 माह का वीजा मिला था, और चलते वक्त बेटे ने प्रश्न किया ~ सब कुछ चेक कर लिया ना ? कुछ रह तो नहीं गया ? क्या जबाब देते, कि अब अब छूटने को बचा ही क्या है ..! 😔 सेवानिवृत्ति की शाम पी.ए. ने याद दिलाया ~ चेक कर लें सर ..! कुछ रह तो नहीं गया ? थोड़ा रूका, और सोचा कि पूरी जिन्दगी तो यहीं आने-जाने में बीत गई. अब और क्या रह गया होगा ? 😔 श्मशान से लौटते वक्त बेटे ने ... फिर से गर्दन घुमाई, एक बार पीछे देखने के लिए ... पिता की चिता की सुलगती आग देखकर मन भर आया. भागते हुए गया पिता के चेहरे की झलक तलाशने की असफल कोशिश की .... और वापिस लौट आया. दोस्त ने पूछा ~ कुछ रह गया था क्या ? भरी आँखों से बोला ~ नहीं , कुछ भी नहीं रहा अब. और जो कुछ भी रह गया है, वह सदा मेरे साथ रहेगा .! 😌 एक बार ... समय निकालकर सोचें, शायद ... पुराना समय याद आ जाए, आँखें भर आएं, और आज को जी भर जीने का !!.. मकसद मिल जाए ..!! यारों ! क्या पता ? कब इस जीवन की शाम हो जाये. इससे पहले कि ऐसा हो सब को गले लगा लो, दो प्यार भरी बातें कर लो. ताकि ... कुछ छूट न जाये ..!!! •┈┈┈•✦✿✦•┈┈┈• ❤️Good evening friends ❤️

+10 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 8 शेयर
radha May 17, 2022

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर
radha May 14, 2022

+9 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 0 शेयर
radha May 13, 2022

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
radha May 13, 2022

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर