महादेव

Rameshannd Guruji May 27, 2022

तीर से अपनी दूसरी आँख निकालते हुए संत कनप्पा। संत कनप्पा उन 63 नयनार संतों में गिने जाते हैं, जो शिव के उपासक थे, तीसरी से आठवीं शताब्दी के बीच हुए थे। कनप्पा पेशे से शिकारी थे, जो बाद में संत बन गए। उनके भक्त मानते हैं कि वो पिछले जन्म में पांडवों में से एक अर्जुन थे। कनप्पा नयनार के कई नाम चलन में हैं, जैसे थिनप्पन, थिन्नन, धीरा, कन्यन, कन्नन आदि। माता पिता ने उनका नाम थिन्ना रखा था। आंध्र प्रदेश के राजमपेट इलाके में उनका जन्म हुआ था। कनप्पा श्रीकलहस्तीश्वरा मंदिर में वायु लिंग की पूजा करते थे, जो इन्हें शिकार के दौरान उन्हें ये मंदिर मिला था। पांचवी सदी में बना इस मंदिर का बाहरी हिस्सा 11वीं सदी में राजेन्द्र चोल ने बनवाया था, बाद में विजय नगर साम्राज्य के राजाओं ने उसका जीर्णोद्धार करवाया। लेकिन थिन्ना को पता नहीं था कि शिव भक्ति और पूजा के विधि विधान क्या है। किन नियमों का पालन करना है, लेकिन उनकी श्रद्धा अगाध थी। कहा ये तक जाता है कि वह पास की स्वर्णमुखी नदी से मुंह में पानी भरकर लाते थे और उससे शिवलिंग का जलाभिषेक करते थे, चूंकि शिकारी थे, सो जो भी उन्हें मिलता था, एक हिस्सा शिव को अर्पित कर देते थे, यहां तक कि एक बार सुअर का मांस भी। लेकिन शिव अपने इस भक्त की आस्था को देखकर खुश थे, उनको पता था कि इसे पूजा करनी नहीं आती है, ना मंत्र पता हैं ना किसी तरह के विधि विधान। सैकड़ों सालों से ये कथा कनप्पा के भक्तों में प्रचलित है कि एक दिन महादेव ने उनकी परीक्षा लेने की ठानी और उन्होंने उस मंदिर में उस वक्त भूकंप के झटके दिए, जब मंदिर में बाकी साथियों, भक्तों और पुजारियों के साथ कनप्पा भी मौजूद थे। जैसे ही भूकंप के झटके आए, लगा कि मानो मंदिर की छत गिरने वाली है, तो डर के मारे सभी भाग गए, भागे नहीं तो बस कनप्पा। उन्होंने ये किया कि अपने शरीर से शिव लिंग को पूरी तरह से ढक लिया ताकि कोई पत्थर अगर गिरे तो शिवलिंग के ऊपर ना गिरे बल्कि उनके ऊपर गिरे। इससे वह पूरी तरह सुरक्षित रहा। शिवलिंग पर तीन आंखें बनी हुई थीं। जैसे ही भूकम्प के झटके थोड़ा थमे, कनप्पा ने देखा कि शिवलिंग पर बनी एक आंख से रक्त और आंसू एक साथ निकल रहे थे। उनकी समझ में आ गया कि किसी पत्थर से शिवजी की एक आंख घायल हो गई है। आव देखा ना ताव, कनप्पा ने फौरन अपनी एक आंख अपने एक वाण से निकालकर शिवलिंग की आंख पर लगा दिया, जिससे उसमें से खून निकलना बंद हो गया। लेकिन थोड़ी देर बाद ही शिवलिंग की दूसरी आंख से रक्त और आंसुओं का निकलना शुरू हो गया। तब कनप्पा एक हाँथ से शिवलिंग की आँख बंद कर ली जिससे उससे खून बहना बंद हो जाय और एक हाँथ दूसरी आंख निकालने की प्रक्रिया शुरू की, लेकिन एक हाँथ से आँख नहीं निकाल सकते थे। ऐसे में उन्हें एक उपाय सूझा, उन्होंने फौरन अपना एक पैर उठाया और पैर का अंगूठा ठीक उस आंख के पास लगा दिया, ताकि शिवलिंग की आंख से खून बहना बंद रहे , और उन्होंने बाण लिया अपनी आंख निकालने लगे। ताकि वो शिवजी की दूसरी आंख लगा सके। उसी वक्त भगवान शिव प्रकट हुए और उससे खुश होकर उसकी आंखें एकदम ठीक कर दीं। यही वो घटना थी, जिसके चलते थिन्ना को नया नाम कनप्पा मिला था। इस घटनाक्रम को कुछ संत मानते हैं कि संत कनप्पा ने दूसरी आँख निकालने के दौरान पैर का अँगूठा शिवलिंग की आँख पर इसलिए लगा दिया था ताकि वह अंधे होने के बाद शिवलिंग की आँख पर सही तरीके अपनी आँख लगा सकें। इसी मौके की वो तस्वीर या मूर्तियां हैं, कि कैसे वह हाथ में वाण से आंख निकाल रहे हैं।। जय जय भोलेनाथ। हर हर महादेव

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Madhu Soni May 27, 2022

+70 प्रतिक्रिया 45 कॉमेंट्स • 46 शेयर

+51 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 68 शेयर