Ajay singh updated group photo

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

रामभक्त माता शबरी की सम्पूर्ण पावन कथा,,,,,,

शबरी का वास्तविक नाम श्रमणा बताया गया है। इन्होने शबर जाती में जन्म लिया जिस कारण इनका नाम शबरी पड़ गया। संतजन कहते है की इन्होने भगवान श्री राम का इतना सब्र किया की इनका नाम ही सबरी पड़ गया।
शबरी के पित...

(पूरा पढ़ें)
+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

शरारती ठाकुर
🔸🔸🔹🔸🔸
जगतगुरु वल्लभाचार्य जी हमारे श्रीनाथ जी
की सेवा करते थे। उन दोनों में पिता पुत्र का
अद्भुत प्रेम था।
एक बार की बात है जब वल्लभाचार्य जी एक
दिन अपने लाला को सुला रहे थे तो उन्होंने
लाला के लिए सुन्दर सा बिछोना बिछाया
किन्तु ...

(पूरा पढ़ें)
+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

रामानुजचार्य गुरु शठकोप स्वामी के शिष्य थे एक बार स्वामी जी ने रामानुजचार्य को ईश्वर प्राप्ति का रहस्य बताया लेकिन स्वामी जी ने रामानुजचार्य को यह भी निर्देश दिया की इसे किसी को न बताये, परन्तु ईश्वर प्राप्ति ज्ञान मिलने के पश्चात रामानुजचार्य ने ...

(पूरा पढ़ें)
+64 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 42 शेयर

किसी भी व्यक्ति के जीवन में धर्म विशेष महत्व रखता है। यूं तो धर्म व्यक्तिगत मसला होता है लेकिन भारत में इसके सार्वजनिक प्रदर्शन पर भी बल दिया जाता है। तभी तो हर धर्म के मानने वाले लोग बड़ी धूमधान के साथ मनाते हैं।

ईश्वर पर भरोसा

लेकिन धर्म के साथ...

(पूरा पढ़ें)
+69 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 36 शेयर

गुरु द्रोणाचार्य, पाण्डवोँ और कौरवोँ के गुरु थे, उन्हेँ धनुर्विद्या का ज्ञान देते थे।

एक दिन एकलव्य जो कि एक गरीब शुद्र परिवार से थे. द्रोणाचार्य के पास गये और बोले कि गुरुदेव मुझे भी धनुर्विद्या का ज्ञान प्राप्त करना है आपसे अनुरोध है कि मुझे भी...

(पूरा पढ़ें)
+49 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 22 शेयर