Rameshanand Guruji
Rameshanand Guruji Oct 15, 2021

*आज दि 15 अक्टूबर शुक्रवार श्री महालक्ष्मी माता के सूखे मेवे से विशेष श्रृंगार दर्शन* श्री महालक्ष्मी माता मन्दिर, -हैदराबाद

*आज दि 15 अक्टूबर शुक्रवार श्री  महालक्ष्मी माता  के सूखे मेवे से विशेष श्रृंगार दर्शन* 
श्री महालक्ष्मी माता मन्दिर, -हैदराबाद
*आज दि 15 अक्टूबर शुक्रवार श्री  महालक्ष्मी माता  के सूखे मेवे से विशेष श्रृंगार दर्शन* 
श्री महालक्ष्मी माता मन्दिर, -हैदराबाद
*आज दि 15 अक्टूबर शुक्रवार श्री  महालक्ष्मी माता  के सूखे मेवे से विशेष श्रृंगार दर्शन* 
श्री महालक्ष्मी माता मन्दिर, -हैदराबाद
*आज दि 15 अक्टूबर शुक्रवार श्री  महालक्ष्मी माता  के सूखे मेवे से विशेष श्रृंगार दर्शन* 
श्री महालक्ष्मी माता मन्दिर, -हैदराबाद

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर

कामेंट्स

Anuradha Tiwari Nov 27, 2021

आठ प्रकार की हैं लक्ष्मी, आपको किस लक्ष्मी की आराधना करनी चाहिए? अष्ट लक्ष्मी माता लक्ष्मी को चंचला कहा गया है. वे भक्तों को सुलभ होती हैं शास्त्रों में धन के आठ प्रकार माने गए हैं. उसी प्रकार धन की देवी माता लक्ष्मी के अष्टरूप का विस्तार से वर्णन किया है. इन्हें अष्ट लक्ष्मी भी कहा जाता है. अष्ट लक्ष्मी आठ प्रकार के धन एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं. प्रत्येक व्यक्ति में अष्ट लक्ष्मी या आठ प्रकार के धन होते हैं, अधिक या कम मात्रा में लेकिन होते हैं. हम उनका कितना सम्मान करते हैं, उनका उपयोग करते हैं, हमारे ऊपर निर्भर है. इन अष्ट लक्ष्मी की अनुपस्थिति को- अष्ट दरिद्रता कहा जाता है. लक्ष्मी से मिलाने वाले नारायण हैं. लक्ष्मी को प्राप्त करने के माध्मय हैं. किसी व्यक्ति के चाहे लक्ष्मी हों या न हों, पर नारायण को वह प्राप्त कर सकता है. नारायण दोनों के हैं- वे लक्ष्मी नारायण भी और दरिद्र नारायण भी! दरिद्र नारायण को कोसा जाता है, लक्ष्मी नारायण को पूजा जाता है. पूरे जीवन का प्रवाह दरिद्र नारायण से लक्ष्मी नारायण तक यानी दुख से समृद्धि तक चलता है. अष्ट लक्ष्मी को निम्न नामों से जाना जाता है: आदि लक्ष्मी धन लक्ष्मी विद्या लक्ष्मी धान्य लक्ष्मी धैर्य लक्ष्मी संतान लक्ष्मी विजय लक्ष्मी राज लक्ष्मी या भाग्य लक्ष्मी आदि लक्ष्मी (Adi Lakshmi) अष्टलक्ष्मी, आदि लक्ष्मी या महालक्ष्मी का एक प्राचीन रूप हैं जो ऋषि भृगु की बेटी के रूप में भूलोक पर अवतार लेने वाली लक्ष्मी का स्वरूप हैं. आदि लक्ष्मी केवल ज्ञानियों के पास होती है. आदि लक्ष्मी देवी कभी न खत्म होने वाली प्रकृति का प्रतीक हैं जिसकी न कोई शुरुआत है और न ही कोई अंत. वह निरंतर है. इसलिए धन का प्रवाह भी निरंतर होना चाहिए. यह भी हमेशा रहा है और हमेशा रहेगा. श्री नारायण की सेवा करने वाली आदि लक्ष्मी या राम लक्ष्मी पूरी सृष्टि की सेवा करने का प्रतीक हैं. आदि लक्ष्मी और नारायण अलग-अलग नहीं हैं, बल्कि एक ही हैं. लक्ष्मी शक्ति हैं और नारायण की शक्ति हैं. नारायण की साथ ये पृथ्वी लोक के धर्म परायण जीवों के लिए लक्ष्मी नारायण हैं. आदि लक्ष्मी चार भुजाओं वाली हैं, कमल और श्वेत ध्वज धारण करती हैं, अन्य दो हाथ अभय मुद्रा और वरद. मुद्रा में हैं. जिस व्यक्ति को स्रोत का ज्ञान हो जाता है, वह सभी भय से मुक्त हो जाता है और संतोष और आनंद प्राप्त करता है. वह आदि लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करता है. और जिनके पास आदिलक्ष्मी हुई समझ लो उनको भी ज्ञान हो गया। धन लक्ष्मी (Dhana Lakshmi) धन लक्ष्मी धन और स्वर्ण की देवी हैं. इन्हें वैभव लक्ष्मी के नाम से भी जाना जाता है. धन लक्ष्मी लाल वस्त्रों में सजी अपनी भुजाओं में चक्र, शंख, अमृत कलश, धनुष-बाण, अभय मुद्रा और एक कमल से युक्त हैं. सूर्य और चंद्रमा, अग्नि और तारे, बारिश और प्रकृति, महासागर और पहाड़, नदी और नाले, ये सभी हमारे धन हैं. इसलिए संतान, हमारी आंतरिक इच्छा शक्ति, हमारा चरित्र और हमारे गुण हैं. मां धन लक्ष्मी की कृपा से हमें ये सभी प्रचुर मात्रा में मिलते हैं. विद्या लक्ष्मी (Vidya Lakshmi) यदि आप लक्ष्मी और सरस्वती के चित्र देखते हैं तो आप देखेंगे कि लक्ष्मी को ज्यादातर कमल में पानी के उपर रखा है. पानी अस्थिर है यानी लक्ष्मी भी पानी की तरह चंचल है. विद्या की देवी सरस्वती को एक पत्थर पर स्थिर स्थान पर रखा है. विद्या जब आती है तो जीवन में स्थिरता आती है. विद्या का भी हम दुरुपयोग कर सकते हैं और सिर्फ पढ़ना ही किसीका लक्ष्य हो जाए तब भी वह विद्या लक्ष्मी नहीं बनती. पढ़ना है, फिर जो पढ़ा है उसका उपयोग करना है तब वह विद्या लक्ष्मी है. धान्य लक्ष्मी (Dhanya Lakshmi) धान्य लक्ष्मी कृषि धन प्रदान करने वाली हैं. “धान्य” का अर्थ है अनाज. भोजन हमारा सबसे बुनियादी और सबसे महत्वपूर्ण धन है. हमें जीवन को बनाए रखने के लिए भोजन की आवश्यकता है. धनवान होने का मतलब है कि हमारे पास प्रचुर मात्रा में भोजन है जो हमें पोषित और स्वस्थ रखता है. वह फसल की देवी हैं जो फसल में बहुतायत और सफलता के साथ आशीर्वाद देती हैं. कहा जाता है कि हम वही बनते हैं जो हम खाते हैं. सही मात्रा और सही प्रकार का भोजन, सही समय और स्थान पर खाया हमारे शरीर और दिमाग को सकारात्मक रूप से प्रभावित करता है. माँ धान्य लक्ष्मी की कृपा से व्यक्ति को सभी आवश्यक पोषक तत्व अनाज, फल, सब्जियाँ और अन्य खाद्य पदार्थ मिलते हैं। देवी धान्य लक्ष्मी हरे वस्त्र में सुशोभित, दो कमल, गदा, धान की फसल, गन्ना, केला, अन्य दो हाथ में अभय मुद्रा और वरमुद्रा धारण करती हैं. धैर्य लक्ष्मी (Dhairya Lakshmi) अष्ट लक्ष्मी की स्वरूप धैर्य लक्ष्मी हमें अपने धन के प्रबंध, उसके उपयोग की रणनीति, योजना बनाने की शक्ति देती है. यह धन हमें समान आसानी के साथ अच्छे और बुरे समय का सामना करने की आध्यात्मिक शक्ति देता है. यह हमारे सभी कार्यों में योजना और रणनीति के महत्व को दर्शाता है ताकि हम सावधानी से आगे बढ़ सकें और हर बार अपने लक्ष्य तक पहुंच सकें. माँ लक्ष्मी का यह रूप असीम साहस और शक्ति का वरदान देता है. वे, जो अनंत आंतरिक शक्ति के साथ हैं, उनकी हमेशा जीत होती है. जो लोग माँ धैर्य लक्ष्मी की पूजा करते हैं, वे बहुत धैर्य और आंतरिक स्थिरता के साथ जीवन जीते हैं. धैर्य लक्ष्मी होने से ही जीवन में प्रगति हो सकती है नहीं तो नहीं हो सकती. जिस मात्रा में धैर्य लक्ष्मी होती है उस मात्रा में प्रगति होती है. चाहे बिजनेस में हो चाहे नौकरी में हो, धैर्य लक्ष्मी की आवश्यकता होती ही है. संतान लक्ष्मी (Santana Lakshmi) संतान के रूप में जो लक्ष्मी मनुष्य को प्राप्त है वह संतान लक्ष्मी है. ऐसे बच्चे जो प्यार की पूंजी हों, प्यार का संबंध हों, भाव हों, तब वो संतान लक्ष्मी हुई. जिस संतान से तनाव कम होता है या नहीं होता है वह संतान लक्ष्मी है. जिस संतान से सुख, समृद्धि, शांति होती है वह है संतान लक्ष्मी. और जिस संतान से झगड़ा, तनाव, परेशानी, दुःख, दर्द, पीड़ा हुआ वह संतान संतान लक्ष्मी नहीं होती. देवी संतान लक्ष्मी छः-सशस्त्र हैं, दो कलशों, तलवार, ढाल, उनकी गोद में एक बच्चा, अभय मुद्रा में एक हाथ और दूसरा बच्चा पकड़े हुए हैं. बच्चा कमल धारण किये हुए है. विजय लक्ष्मी (Vijaya Lakshmi) विजय लक्ष्मी या जय लक्ष्मी सफलता के रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करके विजय का मार्ग खोलती हैं. कुछ लोगों के पास सब साधन, सुविधाएं होती है फिर भी किसी भी काम में उनको सफलता नहीं मिलती. सब-कुछ होने के बाद भी किसी भी काम में वो हाथ लगाये वो चौपट हो जाता है, काम होगा ही नहीं, ये विजय लक्ष्मी की कमी है. यह देवी साहस, आत्मविश्वास, निडरता और जीत के धन का प्रतीक है। यह धन हमारे चरित्र को मजबूत करता है और हमें अपने जीवन पथ पर सफलतापूर्वक आगे बढ़ाता है। राज लक्ष्मी Raj Lakshmi पौराणिक कथाओं के अनुसार, इंद्र ने जब दुर्वासा के शाप से सारा राजपाट गंवा दिया. भाग्य विमुख हो गया तो राजलक्ष्मी की आराधना से उन्हें सबकुछ वापस मिला. राज लक्ष्मी कहे चाहे भाग्य लक्ष्मी कहे दोनों एक ही हैं. देवी राज लक्ष्मी चार भुजाओं वाली, लाल वस्त्रों में, दो कमल धारण करती हैं, अभय मुद्रा और वरदा मुद्रा में अन्य दो भुजाओं से घिरी हुई हैं, दो हाथी जल के कलश लिए हुए होते हैं. सभी अष्ट लक्ष्मी से युक्त होना ही संसार में सुख का रास्ता खोलता है. अष्ट लक्ष्मी में से किसी न किसी स्वरूप का हमारे अंदर प्रवेश अधिक होता है, किसी का कम. उसी के अनुसार होता है हमारा जीवन. अष्ट लक्ष्मी की कृपा हम सब पर बनी रहे. मां कि ज्योति से प्रेम मिलता है सबके दिलों को मरहम मिलता है जो भी जाता है मां के द्वार कुछ ना कुछ जरूर मिलता है जय माता दी

+25 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Pandurang Nov 26, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Mukesh Sharma Nov 26, 2021

🔹🔸🔹 ⚜🕉⚜ 🔹🔸🔹 *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 26 नवम्बर 2021* *शुक्रवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1943 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2078 *🇮🇳मास-* मार्गशीर्ष *🌓पक्ष-* कृष्णपक्ष *🗒तिथि-* सप्तमी-29:45 तक *🗒पश्चात्-* अष्टमी *🌠नक्षत्र-* आश्लेषा-20:36 तक *🌠पश्चात्-* मघा *💫करण-* विष्टि-17:20 तक *💫पश्चात्-* बव. *✨योग-* ब्रह्म-07:59 तक *✨पश्चात्-* एन्द्र *🌅सूर्योदय-* 06:52 *🌄सूर्यास्त-* 17:24 *🌙चन्द्रोदय-* 23:15 *🌛चन्द्रराशि-* कर्क-20:36 तक *🌛पश्चात्-* सिंह *🌞सूर्यायण -* दक्षिणायन *🌞गोल-* दक्षिणगोल *💡अभिजित-* 11:47 से 12:29 *🤖राहुकाल-* 10:49 से 12:08 *🎑ऋतु-* हेमन्त *⏳दिशाशूल-* पश्चिम *✍विशेष👉* *_🔅आज शुक्रवार को 👉 मार्गशीर्ष बदी सप्तमी 29:45 तक पश्चात् अष्टमी शुरु , सर्वदोषनाशक रवि योग 20:36 तक , मूल संज्ञक नक्षत्र जारी , विघ्नकारक भद्रा 17:16 तक , महापात 08:05 तक , इस पंचांग को सीधे हमसे प्राप्त करने एवं विविध तथा शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट / HARIYANA EDUCATIONAL UPDATE " फेसबुक पेज ज्वाइन करें , श्री बीरेन मित्रा जयन्ती , वैज्ञानिक श्री यशपाल जयन्ती , राष्ट्रीय दुग्ध दिवस (डॉ. वर्गीस कुरियन जयन्ती) , राष्ट्रीय विधि / कानून / लॉ / संविधान दिवस , 26/11 की 13वीं बरसी ( मुंबई आतंकवादी हमला ) व विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस ।_* *_🔅कल शनिवार को 👉 मार्गशीर्ष बदी अष्टमी अगले दिन सुबह 06:02 तक पश्चात् नवमी शुरु , श्री महाकाल भैरवाष्टमी (सांयकाल अष्टमी में महाकाल भैरव का दर्शन - पूजन) , कालाष्टमी , प्रथमाष्टमी (उड़ीसा ) , मूल संज्ञक नक्षत्र 21:43 तक , वैधृतिपुण्यं , श्री महाकाल भैरव जयन्ती ( मार्गशीर्ष कृष्ण अष्टमी ) , श्री हरिवंश राय बच्चन जयन्ती व श्री विश्वनाथ प्रताप सिंह पुण्यतिथि / स्मृति दिवस ।_* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *सूर्योऽग्नि: खं मरुद् गावः* *सोम: सन्ध्याहनी दिश:।* *कं कु: कालो धर्म इति* *ह्येते दैह्यस्य साक्षिणः।।* ★श्रीमद्भागवत 6.1.42 *भावार्थ👉* कोई भी अपराध या अपराधी इनसे छिप नहीं सकता- सूर्य, अग्नि, आकाश, वायु, इन्द्रियाँ, चन्द्रमा, सन्ध्या, दिन, रात्रि, दिशाएं, पृथ्वी, जल, काल-समय और धर्म । ये हर देहधारी के सभी कर्म-कुकर्मों के साक्षी हैं। 🌹 *26 नवंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1527 – पोप क्लीमेंस सातवें ने सम्राट कैरल पहले के साथ समझौता किया। 1688 – फ्रांस के राजा लुईस चौदहवें ने नीदरलैंड के खिलाफ युद्ध की घोषणा की। 1703 – भयानक तूफान में ब्रिटिश नौसेना के करीब 1500 नौसैनिक मारे गए। 1716 - पहला शेर अमेरिका में बोस्टन में दिखाया गया 1741 - फ्रैंको-बवेरियन सैनिकों ने मौरिस ऑफ सैक्सनी तूफान प्राग का आदेश दिया। 1759 – विनाशकारी भूकंप में बेरूत और दमिश्क शहर तबाह हो गए, करीब 40,000 लोग मारे गए। 1764 - फ्रांस ने जेसुइट एनोर्ड को प्रतिबंधित किया। 1784 - संयुक्त राज्य में रोमन कैथोलिक अपोस्टोलिक प्रीफेक्चर की स्थापना की गई। 1805 - वेल्स में पोंटसीसिल्ले एक्वाडक्ट खोला गया, यह 1,007 फीट (307 मीटर) ऊँचा और 126 फीट (38 मीटर) लंबा है। 1825 - प्रथम कॉलेज बिरादरी की स्थापना (कप्पा अल्फा (यूनियन कॉलेज, न्यूयोर्क ) में की गयी। 1842 - नोट्रे डेम विश्वविद्यालय स्थापना की गयी। इस पंचांग को सीधे हमसे प्राप्त करने एवं विविध तथा शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट / HARIYANA EDUCATIONAL UPDATE " फेसबुक पेज ज्वाइन करें। 1851 - लंदन-पेरिस के बीच टेलीग्राफ कनेक्शन शुरू किया गया। 1867 - डेट्रॉइट के जेबी सदरलैंड द्वारा प्रथम अनुकूलित वातावरण रेल कार पेटेंट कराई गई। 1885 - पहली बार उल्कापिंड की तस्वीर ली गयी ( 27 नवम्बर 1870 का भी वर्णन मिलता है इसलिए कन्फर्म कर लें )। 1932 - महान् क्रिकेटर डॉन ब्रैडमैन ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दस हजार रन बनाये। 1948 – विश्व का पहला पोलराइड कैमरा बॉस्टन, अमेरिका में बेचा गया। 1948 - नेशनल कैडेट कोर की स्थापना हुई (कन्फर्म नहीं है)। *ये पंचांग डायरेक्ट प्राप्त करें👇* https://www.facebook.com/groups/1677111972387804/ *शिक्षक समाज हरियाणा टेलीग्राम👇* http://t.me//sikshahsamajharyana 1949 - आजाद भारत के संविधान पर संविधान सभा के अध्यक्ष ने हस्ताक्षर किया। 1953 – ब्रिटेन के ऊपरी सदन हाउस ऑफ़ लॉर्डस ने देश में व्यावसायिक टेलीविज़न चैनल शुरू करने के लिए पेश किए गए प्रस्ताव को मंज़ूरी दी। 1960 - भारत में पहली बार कानपुर एवं लखनऊ के बीच एसटीडी सेवा शुरु हुई। 1966 – फ्रांस की रेंस नदी के मुहाने पर विश्व के पहले ज्वारीय ऊर्जा संयत्र ने काम करना शुरू किया। 1967 - लिस्बन में बादल फटने से करीब 450 लोग मरे। 1974 – नेपाल में सस्पेंशन ब्रिज के ध्वस्त होने से करीब 140 लोग मारे गए। 1983 – ब्रिटेन में सबसे बड़ी डकैती हुई। हथियारबंद डकैतों ने लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट पर ढाई करोड़ पाउंड के सोने की लूट की थी। 1984 - इराक एवं अमेरिका ने कूटनीतिक संबंधों को पुन: स्थापित किया। 1990 – ब्रिटेन की प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर ने ब्रिटेन की महारानी को अपना इस्तीफा सौंपा। 1992 – ब्रिटेन की संसद ने एक ऐतिहासिक फ़ैसले में ये तय किया कि ब्रिटेन की महारानी एलिज़ाबेथ को अपनी आय पर कर देना होगा। 1996 - संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इराक के संदर्भ में 'आयल फ़ॉर फ़ुड डील' प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया। 1997 - पाक सुप्रीम कोर्ट के दो जजों ने मुख्य न्यायाधीश को निलम्बित किया। 1998 - तुर्की के प्रधानमंत्री मेसुत यिल्माज ने संसद में अपनी सरकार के विश्वासमत हासिल नहीं कर पाने के बाद इस्तीफ़ा दिया। 1998 - कंबोडिया के वर्तमान प्रधानमंत्री हुनसेन को औपचारिक रूप से पुन: देश का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया । 1998 - माहे (सेशल्स) में इस्रायल की 'लीनोर अबार्गिल' 1998 की 'मिस वर्ल्ड' चुनी गईं। 1998 - टोनी ब्लेयर आॅयरलैंड की संसद को संबोधित करने वाले पहले ब्रिटिश प्रधानमंत्री बने। 2001 - नेपाल में 200 माओवादी विद्रोही मारे गये; देश में आपातकाल लागू। 2002 - बीबीसी के सर्वेक्षण में विंस्टन चर्चिल महानतम ब्रिटिश नागरिक चुने गये। 2006 - इराक बम धमाके में 202 लोगों की जान गई। 2008 - भारत के मुंबई नगर में आत्मघाती आतंकवादी हमला हुआ। आतंकवादियों ने ताज होटल में घुसकर अनेक अतिथियों को बंधक बना लिया। इसे भारतीय सेना ने तीन दिनों की कार्यवाई के पश्चात् मुक्त करा लिया। मुंबई में हुए इस आतंकवादी हमले में 164 लोग मरे, 250 से अधिक घायल। 2012 - सीरिया में हवाई हमले में दस बच्चों की मौत, 15 घायल। 2012 - अरविंद केजरीवाल ने एक नये राजनैतिक दल आम आदमी पार्टी का गठन किया। 2019 - इंडियन रेलवे इंस्टीट्यूट ऑफ फाइनेंशियल मैनेजमेंट (IRIFM) की स्थापना हैदराबाद, तेलंगाना में की गई। 2019 - अल्‍बानिया में सवेरे छह दशमलव चार तीव्रता का शक्तिशाली भूकम्‍प आया। 2019 - पाकिस्तान के दक्षिणी बलूचिस्तान प्रांत में एक बस के खाई में गिरने से नौसेना के 9 जवान मारे गए और 29 अन्य घायल हो गए। 2020 - प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने तीसरे वैश्विक नवीकरणीय ऊर्जा निवेश बैठक और प्रदर्शनी (री-इन्वेस्ट 2020) का वर्चुअल माध्यम से उद्घाटन किया। 2020 - भारत और फिनलैंड ने पर्यावरण संरक्षण और जैव विविधता संरक्षण के क्षेत्र में सहयोग विकसित करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। *26 नवंबर को जन्मे व्यक्ति👉* 1477 – इटली के विख्यात नाविक सेबैस्टियन कैबो का फलोरंस नगर में जन्म हुआ। 1754 – प्रसिद्ध जर्मन लेखक जॉर्ज फॉस्टर का जन्म हुआ। 1881 - नाथूराम प्रेमी - प्रसिद्ध लेखक, कवि, भाषाविद और सम्पादक। 1917 - बीरेन मित्रा- भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ व उड़ीसा के पूर्व मुख्यमंत्री थे। 1919 - राम शरण शर्मा - भारत के प्रसिद्ध इतिहासकार और शिक्षाविद। 1921 – देश के श्वेत क्रांति के जनक माने-जाने वाले व प्रसिद्ध उद्योगपति वर्गीज कुरियन का जन्म में हुआ। 1923 - वी. के. मूर्ति - हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध सिनेमेटोग्राफ़र । 1926 - यशपाल - भारत के मशहूर वैज्ञानिक और शिक्षाविद थे , का जन्म हरियाणा में हुआ था।। 1926- रवि राय, प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष । *26 नवंबर को हुए निधन👉* 1855 – एडम मिसकिए विच नामक पोलैंड के कवि और लेखक का उसमानी शासन की राजधानी इस्तांबूल में निधन हुआ। 1894 – जर्मनी के गणितज्ञ और भौतिकशास्त्री हेनरी रोडल्क हर्टज़ का 37 वर्ष की आयु में निधन हुआ। 1976 - श्री यशपाल- हिन्दी साहित्य के प्रेमचंदोत्तर युगीन कथाकार। 2008 - हेमंत करकरे - 1982 बैच के आईपीएस अधिकारी और मुम्बई के आतंक विरोधी दस्ते के प्रमुख थे। 2008 - विजय सालस्कर - मुंबई पुलिस में सेवारत एक वरिष्ठ पुलिस इंस्पेक्टर और एनकाउंटर स्पेशलिस्ट थे। 2011 - बिहार की विद्वत्परंपरा कड़ी के महत्वपूर्ण स्तंभ लेखक कुमार विमल। 2014 - तपन राय चौधरी - प्रसिद्ध इतिहासकार। 2019 - जानेमाने कार्टूनिस्‍ट सुधीर डार का निधन हो गया, वे 87 वर्ष के थे। 2020 - फकीरचंद कोहली -भारत सरकार द्वारा विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित टीसीएस के संस्थापक का 96 साल की उम्र में निधन । *26 नवंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 26/11 की 13वीं बरसी ( मुंबई आतंकवादी हमला )। 🔅 श्री बीरेन मित्रा जयन्ती। 🔅 वैज्ञानिक श्री यशपाल जयन्ती । 🔅 राष्ट्रीय दुग्ध दिवस (डॉ. वर्गीस कुरियन जयन्ती)। 🔅 राष्ट्रीय विधि / कानून / लॉ / संविधान दिवस । 🔅 विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस । *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB