*// श्री स्वामी समर्थ //* *// परमपुज्य गुरूमाऊली //* 👉 *आपली संगत आपले भविष्य घडवते !* 🙏 👉 *तांदुळ* जर *कुंकूवासोबत मिक्स* झाले तर ते *देवाच्या चरणांपर्यंत* पोहचतात , पण जर *डाळी सोबत मिक्स झाले तर त्याची खिचडी* बनते ! 🙏 👉 *आपण कोण* आहोत यापेक्षा *कोणाच्या संगतीत* आहोत *हे जास्त महत्वाचे* आहे ! 🙏 *// shree swami Samarth //*

+16 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 24 शेयर

कामेंट्स

Kalpana B R Nov 27, 2021

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Kalpana B R Nov 27, 2021

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Vinod from India. Nov 25, 2021

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Kalpana B R Nov 27, 2021

+16 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 36 शेयर

_*मीच कृष्ण,मीच कंस....*_ _अप्रतिम चित्रे काढणारा एक चित्रकार होता लोक त्याच्या चित्रकलेचे कौतुक करायचे.एके दिवशी कृष्ण मंदिरातील भक्तांनी त्यांच्याकडे कृष्ण आणि कंसाचे चित्र बनवण्याची इच्छा व्यक्त केली चित्रकाराने मान्य केले.शेवटी हे देवाचे काम आहे पण त्याने काही अटी घातल्या.तो म्हणाला;'कृष्णाच्या चित्रासाठी एका खोडकर मुलाला आणा आणि कंसासाठी एक क्रूर व्यक्ती आणा मला पात्र व्यक्ती हव्या आहेत त्या सापडल्या तर मी चित्र सहज काढेन.'एका भक्ताने एक सुंदर बालक आणले चित्रकाराने त्या मुलाला समोर बसवले बाल कृष्णाचे सुंदर चित्र काढले.आता कंसाची पाळी होती पण क्रूर भावना असलेली व्यक्ती शोधणे थोडे कठीण होते.जी व्यक्ती कृष्ण मंदिरातील लोकांना आवडली ती चित्रकाराला आवडली नाही.त्याला हवे ते भाव त्याच्या चेहऱ्यावर नव्हते.वेळ निघून गेली अखेरीस अनेक वर्षांनंतर ते त्या चित्रकाराला तुरुंगात घेऊन गेले जिथे जन्मठेपेची शिक्षा भोगणारे गुन्हेगार होते.त्यातील एक गुन्हेगार चित्रकाराला आवडला त्याला समोर बसवून त्याने कंसाचे चित्र काढले.कृष्ण आणि कंसाचे ते चित्र आज कित्येक वर्षांनंतर पूर्ण झाले.ते चित्र पाहून कृष्ण मंदिरातील भाविक मंत्रमुग्ध झाले.त्या गुन्हेगारानेही ते चित्र पाहण्याची इच्छा व्यक्त केली.जेव्हा त्या गुन्हेगाराने ते चित्र पाहिले तेव्हा तो ढस-ढसा रडू लागला ते पाहून सर्वांनाच आश्चर्य वाटले.चित्रकाराने त्याला याचे कारण विचारले तेव्हा तो गुन्हेगार म्हणाला;'कदाचित तूम्ही मला ओळखले नाही मी तोच मुलगा आहे जो तुम्हाला बऱ्याच वर्षापूर्वी बालकृष्णाच्या चित्रासाठी आवडला होता.आज मी माझ्या कुकर्मामुळे कंस झालो या चित्रात *मीच कृष्ण आहे,मीच कंस आहे.'*_ _*आपली कृतीच आपल्याला चांगली आणि वाईट व्यक्ती बनवते....*_ _*मिञांनो;काळजी घ्या.....*_

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
prakash patel Nov 27, 2021

☘️ *_वृषभासन: आकर्षक तन पाने के लिए करें योग जानिये इस योग क़ी विधि और फायदे_* https://www.facebook.com/groups/367351564605027/permalink/609021323771382/ वृषभ का अर्थ बैल से है। यह भगवान शिव का वाहन एवं प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ की मूर्ति के नीचे शिलापट्ट पर अंकित किया जाने वाला पहचान चिन्ह है। आकर्षक फिगर पाने के लिए योगासन से अच्छा कोई उपाय नहीं है। वृषभासन एक ऐसा ही आसन है जिसके नियमित अभ्यास से चेहरे की चमक बढ़ती है और फिगर आकर्षक बन जाता है। वृषभासन में जैसे बैल ज़मीन पर विश्राम की स्थिति में बैठता है वैसे ही इस आसन की स्थिति होती है। *वृषभासन के लाभ* इस आसन से हाथ,कंधे व बाजू वृष के समान शक्तिशाली एवं मज़बूत होते हैं। इस आसन से शारीरिक शक्ति बढ़ती है। जांघें और घुटने बलवान होते हैं।जाँघ, पैर, हाथ, बाहु, स्कंध, घुटने सभी पुष्ट एवं सुगठित होते हैं। पेट की दूषित वायु का विसर्जन होता है अतः व्यक्ति हल्कापन महसूस करता है। कई प्रकार के आंतरिक व बाह्य शारीरिक लाभ स्वतः प्राप्त हो जाते हैं। यह आसन चित को प्रसन्न करता है। यह आसन शिकारियों तथा बन्दूक चलाने वालों के लिए लाभकारी है। *वृषभासन योग विधि* सर्वप्रथम एक साफ शांत और समतल जगह पर आसन बिछाकर उस पर आप वज्रासन में बैठ जाए यानि दोनो पांव मोड़कर घुटने पास पास रखते हुए कूल्हों को पांव क़ी एड़ी पर टीका दे यदि बाईं जाँघ के बल बैठते हैं तो बाएँ पैर की एड़ी सीवनी-स्थान पर स्पर्श करें एवं दाहिने पैर को बाएँ पैर के ऊपर चित्रानुसार रखें। 💎 आपकी बिमारी-समस्या के एक्यूप्रेशर पॉइंट 🔑की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। 🌸 Face Book Page 🌸 એક્યુપ્રેશર પ્લેનેટ https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ अब दोनों हाथों को सामने इस प्रकार रखें जैसे बैल अपने सामने के पैरों को रखता है।जमीन पर बैठ जाइए। अपने दोनों घुटनों को मोड़िए। एक घुटना दूसरे घुटने से थोडा आगे रखिए। फिर दोनों पैरों को थोड़ी दूरी पर रखिए ताकि लेफ्ट पैर की ऐड़ी सीवनी नाड़ी को छुए| फिर अपने दोनों हाथों को आगे की ओर इस स्थिति में ले जाइए जैसे कि एक बैल अपने पैरों पर बैठता है। श्वासक्रम/समय: श्वास क्रिया सामान्य रखें और अब यही क्रिया पैरों को । बदलकर करें। 5 मिनट तक प्रतिदिन अभ्यास कर सकते हैं। ध्यान: आध्यात्मिक लाभ हेतु भगवान शिव, भगवान आदिनाथ का ध्यान करें। *वृषभासन में सावधानियां* तेज ज्वर य़ा हाल ही में सर्जरी कराए व्यक्ति इस आसन को विशेषज्ञ क़ी सलाह पर ही करें पैरो घुटनो य़ा जंघा में तीव्र दर्द य़ा चोट मोच इत्यादि होने पर ये आसन ना करें 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। 🌸 Face Book group 🌸 Acupressure Planet 🏡 स्वास्थ्य मंदिर 👉 https://www.facebook.com/groups/367351564605027/

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Kalpana B R Nov 26, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Kalpana B R Nov 25, 2021

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Pandit Salunke Nov 25, 2021

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB