SURENDER THAKUR
SURENDER THAKUR Jun 6, 2021

+68 प्रतिक्रिया 79 कॉमेंट्स • 16 शेयर

कामेंट्स

Sudha Mishra Sep 27, 2021
jai shri radhey krishna ji good night ji🙏🏻🙏🏻🌹🌹

Archana Singh Sep 30, 2021
🙏🌹जय श्री राधे कृष्णा 🌹🙏शुभ रात्रि वंदन भाई जी 🙏🌹आने वाला माह् आपके लिए ढेरों खुशियां लेकर आए 🙏😊राधे रानी की कृपा आप सभी पर सदैव बनी रहे🙏🌹🌹🙏

Renu Singh Sep 30, 2021
Jai Shree Radhe Krishna 🙏 Shubh Ratri Vandan Bhai Ji Aapka Har Pal Shubh Avam Mangalmay ho Aap Hamesha Khush raho Bhai ji 🙏🌹

Mamta Chauhan Sep 30, 2021
Radhe radhe ji 🌹🙏Shubh ratri vandan bhai ji aapka har pal mangalmay ho khushion bhra ho aapki sabhi manokamna puri ho🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Renu Singh Oct 1, 2021
Jai Mata Di 🌹🙏 Good Morning Bhai Ji Maa Sheravali ki kripa Se Aàp aur Aapke Pariwar Ka Har Pal Shubh Sukhad Avam Mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 1, 2021
Radhe radhe ji🌹🙏Shubh ratri vandan bhai ji aapka har pal mangalmay ho khushion bhra ho aapki sabhi manokamna puri ho🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 2, 2021
Jai shri ram jai hanuman ji🌹🙏 Shubh ratri vandan bhai ji prabhu ram ji ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe aapka har pal mangalmay ho khushion bhra ho aapki sabhi manokamna puri ho🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 4, 2021
Har har mahadev ji 🌹🙏 Shubh sandhya vandan bhai ji mahadev ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe aapka har pal mangalmay ho khushion bhra ho aapki sabhi manokamna puri ho🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Renu Singh Oct 4, 2021
Har Har Mahadev 🌿🌹🙏 Shubh Ratri Vandan Bhai Ji Bhole Nath Aapki Har Manokamna Puri Karein Aapka Har Pal Shubh Avam Mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 4, 2021
Radhe radhe ji🌹🙏 Shubh ratri vandan bhai ji aapka har pal mangalmay ho khushion bhra ho aapki sabhi manokamna puri ho🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Renu Singh Oct 7, 2021
Jai Mata Di 🌹🙏 Shubh Ratri Vandan Bhai Ji Aapko aur Aàpke Samast Pariwar ko Navratri ki Hardik Shubh Kamnayein Ji Aàpka Har Pal Shubh Avam Mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 12, 2021
Jai mata di🌹🙏 Shubh ratri vandan bhai ji mata rani ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe aapka har pal mangalmay ho mata rani aapki sabhi manokamna puri kre 🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 15, 2021
Ram ram ji 🌹🙏 Shubh ratri vandan bhai ji prabhu ram ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe Vijaydashmi pavan parv ki hardik shubhkamnaye 🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 19, 2021
Jai shri radhe krishna Radhe radhe🌹🙏 Shubh ratri vandan bhai ji Sharad Purnima ki hardik shubhkamnaye thakur ji ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe aapki sbhi manokamna puri ho🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Renu Singh Oct 19, 2021
Happy Sharad Purnima 🌼 Shubh Ratri Vandan Bhai Ji Thakur ji ki kripa Se Aàp Sapriwar sda Khush aur Swasth rahein Bhai ji 🙏🌹

💞💞jeeawansingh sisodiya💞💞 Oct 19, 2021
jai mata di radhe radhe jai shiri Krishna ji good night 🌹🌹👌👌🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🌹🌹🌹🌹

dhruvwadhwani Oct 19, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा जय

GOVIND CHOUHAN Oct 20, 2021
Jai Shree Radhe Krishna Jiii 🌺🙏🙏 Good Night Jii 🙏🙏

myjbjvala Dec 3, 2021

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

जय जय श्री खाटू वाले श्याम की 🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏 शुभ संध्या वंदन मनको शान्त नहीं किया जा सकता है लेकिन मनपर दृष्टि अवश्य ही रखी जा सकती है और यह भी जाना जा सकता है कि यह मन हमें कुमार्गका रास्ता दिखा रहा है अथवा सन्मार्ग का, जैसे कि राजा जनकजी अपने विवेकके आश्रय से ही मनपर दृष्टि रखते थे - भए सब सुखी देखि दोउ भ्राता। बारि बिलोचन पुलकित गाता।। मूरति मधुर मनोहर देखी। भयउ बिदेहु बिदेहु बिसेषी।। दोनों भाइयोंको देखकर सभी सुखी हुए। सबके नेत्रोंमें जल भर आया (आनन्द और प्रेमके आँसू उमड़ पड़े) और शरीर रोमाञ्चित हो उठे। रामजीकी मधुर मनोहर मूर्तिको देखकर विदेह (जनक) विशेषरूपसे विदेह (देहकी सुध-बुधसे रहित) हो गये।। दो० - प्रेम मगन मनु जानि नृपु करि बिबेक धरि धीर। बोलेउ मुनि पद नाइ सिरु गदगद गिरा गभीर।। मनको प्रेममें मग्न जान राजा जनकने विवेकका आश्रय लेकर धीरज धारण किया और मुनिके चरणोंमें सिर नवाकर गद्गद (प्रेमभरी) गम्भीर वाणीसे कहा - ।। कहहु नाथ सुंदर दोउ बालक। मुनिकुल तिलक कि नृपकुल पालक।। ब्रह्म जो निगम नेति कहि गावा। उभय बेष धरि की सोइ आवा।। हे नाथ! कहिये, ये दोनों सुन्दर बालक मुनिकुलके आभूषण हैं या किसी राजवंशके पालक? अथवा जिसका वेदोंने 'नेति' कहकर गान किया है कहीं वह ब्रह्म तो युगलरूप धरकर नहीं आया है?।। सहज बिरागरूप मन मोरा। थकित होत जिमि चंद चकोरा।। ताते प्रभु पूछउँ सतिभाऊ। कहहु नाथ जनि करहु दुराऊ।। मेरा मन जो स्वभावसे ही वैराग्यरूप [बना हुआ] है, [इन्हें देखकर] इस तरह मुग्ध हो रहा है जैसे चन्द्रमाको देखकर चकोर। हे प्रभो! इसलिये मैं आपसे सत्य (निश्छल) भावसे पूछता हूँ। हे नाथ! बताइये, छिपाव न कीजिये।। इन्हहि बिलोकत अति अनुरागा। बरबस ब्रह्मसुखहि मन त्यागा।। इनको देखते ही अत्यन्त प्रेमके वश होकर मेरे मनने जबर्दस्ती ब्रह्मसुखको त्याग दिया है। ठीक इसी प्रकारसे भगवान् श्रीरामजी भी अपने मनपर दृष्टि रखते थे और अपने मनकी स्थितिको लक्ष्मणजी से कहते भी हैं - जासु बिलोकि अलौकिक सोभा। सहज पुनीत मोर मनु छोभा।। सो सबु कारन जान बिधाता। फरकहिं सुभद अंग सुनु भ्राता।। जिसकी अलौकिक सुन्दरता देखकर स्वभावसे ही पवित्र मेरा मन क्षुब्ध हो गया है। वह सब कारण (अथवा उसका सब कारण) तो विधाता जानें। किन्तु हे भाई! सुनो, मेरे मङ्गलदायक (दाहिने) अंग फड़क रहे हैं।। रघुबंसिन्ह कर सहज सुभाऊ। मनु कुपंथ पगु धरइ न काऊ।। मोहि अतिसय प्रतीति मन केरी। जेहिं सपनेहुँ परनारि न हेरी।। रघुवंशियोंका यह सहज (जन्मगत) स्वभाव है कि उनका मन कभी कुमार्गपर पैर नहीं रखता है। मुझे तो अपने मनका अत्यन्त ही विश्वास है कि जिसने [जाग्रत्की कौन कहे] स्वप्नमें भी परायी स्त्रीपर दृष्टि नहीं डाली है।।

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Som Dutt Sharma Dec 3, 2021

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
SK Gupta Dec 3, 2021

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Hiren Dec 3, 2021

+22 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB