Raj Kumar Sharma
Raj Kumar Sharma Nov 26, 2021

+53 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 163 शेयर

कामेंट्स

Bhagat ram Nov 26, 2021
🌹🌹 जय श्री हनुमान जी जय श्री शनिदेव जी 🙏🙏💐🌿🌺🌹🌹 सुप्रभात वंदन जी 🙏🙏💐🌿🌺🌺🌿🌿🌹🌹

Kanta Agarwal Nov 26, 2021
बालाजी महाराज की जय शनि देव भगवान की जय जय श्रीराम जय श्रीराम

Pintu Teotia Nov 27, 2021
jai shree ram jai hanuman jai sani Dev 🙏🙏

Saroj Sharma Nov 27, 2021
जय जय जय बजरंग बली बाबा जय श्री राम

Janardan Mishra Nov 27, 2021
जै श्री शनिदेव जै बजरंगबली

Raj Kumar Sharma Dec 1, 2021
धन्यवाद जी सुप्रभात राधे राधे जी।

Radhe Krishna Jan 17, 2022

+31 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 70 शेयर

*🚩🌹🥀जय श्री मंगलमूर्ति गणेशाय नमः 🌺🌹💐🚩🌹🌺 शभु प्रभात वंदन🌺🌹 राम राम जी 🌺🚩🌹मंदिर के सभी भाई बहनों को राम राम जी परब्रह्म परमात्मा आप सभी की मनोकामना पूर्ण करें 🙏 🚩🔱🚩प्रभु भक्तो को सादर प्रणाम 🙏 🚩🔱 🕉️ त्रयंबकम यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम उर्वारुकमिव बंधनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् 🔱🌺ऊँ उमामहेश्वराभ्यां नमः ऊँ नमः शिवाय 🙏श्री रामचंद्राय नमः 🙏🌺जय बजरंगबली🌺🙏 जय हनुमान🌹ऊँ हं हनुमंते नमः ऊँ शं शनैश्चराय नमः🚩ऊँ नमःशिवाय 🌹जय श्री राधे कृष्णा जी🌹भगवान भोलेनाथ काशीविश्वनाथ उमाशंकर की कृपा दृष्टि आप सभी पर हमेशा बनी रहे 🌹 आप का हर पल मंगलमय हो 🚩🌺हर हर महादेव🚩राम राम जी 🥀शुभ प्रभात स्नेह वंदन🌺शुभ सोमवार🌺 हर हर महादेव🌹 हर हर महादेव 🌹जय भोलेनाथ 🔱🚩🔱🚩जय-जय श्रीराम 🚩जय माता दी जय श्री राम 👏 🚩हर हर नर्मदे🌹 हर हर नर्मदे🙏🌻🙏🌻🥀🌹🚩🚩🚩*

+20 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 23 शेयर
AMIT KUMAR INDORIA Jan 17, 2022

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 72 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Mamta Soni Jan 17, 2022

+13 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Shuchi Singhal Jan 17, 2022

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर

*🚩🌹🥀जय श्री मंगलमूर्ति गणेशाय नमः 🌺🌹💐🚩🌹🌺 शभु प्रभात वंदन🌺🌹 राम राम जी 🌺🚩🌹मंदिर के सभी भाई बहनों को राम राम जी परब्रह्म परमात्मा आप सभी की मनोकामना पूर्ण करें 🙏 🚩🔱🚩प्रभु भक्तो को सादर प्रणाम 🙏 🚩🔱 🕉️ त्रयंबकम यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम उर्वारुकमिव बंधनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् 🔱🌺ऊँ उमामहेश्वराभ्यां नमः ऊँ नमः शिवाय 🙏श्री रामचंद्राय नमः 🙏🌺जय बजरंगबली🌺🙏 जय हनुमान🌹ऊँ हं हनुमंते नमः ऊँ शं शनैश्चराय नमः🚩ऊँ नमःशिवाय 🌹जय श्री राधे कृष्णा जी🌹भगवान भोलेनाथ काशीविश्वनाथ उमाशंकर की कृपा दृष्टि आप सभी पर हमेशा बनी रहे 🌹 आप का हर पल मंगलमय हो 🚩🌺हर हर महादेव🚩राम राम जी 🥀शुभ प्रभात स्नेह वंदन🌺शुभ सोमवार🌺 हर हर महादेव🌹 हर हर महादेव 🌹जय भोलेनाथ 🔱🚩🔱🚩जय-जय श्रीराम 🚩जय माता दी जय श्री राम 👏 🚩हर हर नर्मदे🌹 हर हर नर्मदे🙏🌻🙏🌻🥀🌹🚩🚩🚩*

+7 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर
X7skr🇮🇳 Jan 17, 2022

🕉️ namah shivay 🙏 @🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक - 17 जनवरी 2022* ⛅ *दिन - सोमवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078* ⛅ *शक संवत -1943* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - शिशिर* ⛅ *मास - पौस* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - पूर्णिमा 18 जनवरी प्रातः 05:17 तक तत्पश्चात प्रतिपदा* ⛅ *नक्षत्र - पुनर्वसु 18 जनवरी प्रातः 04:37 तक तत्पश्चात पुष्य* ⛅ *योग - वैधृति शाम 03:53 तक तत्पश्चात विषकंभ* ⛅ *राहुकाल - सुबह 08:41 से सुबह 10:04 तक* ⛅ *सूर्योदय - 07:19* ⛅ *सूर्यास्त - 18:17* ⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - व्रत पूर्णिमा,पौषी पूर्णिमा, माघ स्नान आरंभ* 💥 *विशेष - पूर्णिमा और व्रत के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *माघ मास* 🌷 🙏🏻 *17 जनवरी से लेकर 16 फरवरी तक (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार माघ मास दिनांक 02 फरवरी से) माघ महिना रहेगा | माघ स्नान से बढ़कर पवित्र पाप नाशक दूसरा कोई व्रत नही है | एकादशी के व्रत की महिमा है, गंगा स्नान की महिमा है, लेकिन माघ मास में सभी तिथियाँ पर्व हैं, सभी तिथियाँ पूनम हैं | और माघ मास में सूर्योदय से थोड़ी देर पहले स्नान करना पाप नाशक और आरोग्य प्रद और प्रभाव बढ़ाने वाला है | पाप नाशनी उर्जा मिलने से बुद्धि शुद्ध होती है, इरादे सुंदर होते हैं |* 🙏🏻 *पद्म पुराण में ब्रह्म ऋषि भृगु कहते हैं की तप परम ध्यानं त्रेता याम जन्म तथाह | द्वापरे व् कलो दानं | माघ सर्व युगे शुच ||* 🙏🏻 *सत युग में तपस्या से उत्तम पद की प्राप्ति होती है, त्रेता में ज्ञान, द्वापर में भगवत पूजा से और कलियुग में दान सर्वोपरी माना गया है | दानं केवलं कलियुगे || परन्तु माघ स्नान तो सभी युगों में श्रेष्ठ माना गया है |* 🙏🏻 *सतयुग में सत्य की प्रधानता थी, त्रेता में तप की, द्वापर में यज्ञकी, कलियुग में दान की लेकिन माघ मास में स्नान की चारो युग में बड़ी भारी महिमा है | सभी दिन माघ मास में स्नान कर सकें तो बहुत अच्छा नहीं तो ३ दिन तो लगातार करना चाहिए | बीच में तो करें लेकिन आखरी ३ दिन तो जरूर करना चाहिए | माघ मास का इतना प्रभाव है कि सभी जल गंगा जल के तीर्थ पर्व के समान हैं |* 🙏🏻 *पुष्कर, कुरुक्षेत्र, काशी, प्रयाग में १० वर्ष पवित्र शौच, संतोष आदि नियम पालने से जो फल मिलता है माघ मास में ३ दिन स्नान करने से वो मिल जाता है, खाली ३ दिन | माघ मास प्रात: स्नान सब कुछ देता है | आयु, आरोग्य, रूप, बल, सौभाग्य, सदाचरण देता है |* 🙏🏻 *जिनके बच्चे सदाचरण से गिर गए हैं उनको भी पुचकारके, इनाम देकर भी बच्चो को स्नान कराओ तो बच्चों को समझाने से, मारने-पीटने से या और कुछ करने से उतना नहीं सुधर सकते हैं, घर से निकाल देने से भी इतना नहीं सुधरेंगे जितना माघ मास के स्नान से |* 🙏🏻 *तो सदआचरण, संतान वृद्धि, सत्संग, सत्य और उदार भाव आदि का प्रादितय होता है | व्यक्ति की सुदंरता उत्तम गुण* *समझ, उतम गुण से सम्पन होती है | नर्क का डर उसके लिए सदा के लिए खत्म हो जाता है | मरने के बाद फिर वो नर्क में नही जायेगा |* 🙏🏻 *दरिद्रता और पाप दूर हो जायेंगे | दुर्भाग्य का कीचड नाश हो जायेगा | यत्न पूर्वक माघ स्नान, माघ प्रात: स्नान से विद्या निर्मल होती है | मलिन विद्या क्या है ? कि पढ़-लिख के दूसरों को ठगों | दारू पियो, क्लबों में जाओ, बॉयफ्रेंड, गर्लफ्रेंड करो ये मलिन विद्या है | लेकिन निर्मल विद्या होगी तो ये पापाचरण में रूचि नही होगी |* 🙏🏻 *माघ प्रात: स्नान से विद्या निर्मल, कीर्ति बढ़ती है, आरोग्य और आयुष्य, अक्षय धन की प्राप्ति होती है | जो धन कभी नष्ट ना हो, वह अक्षय धन की भी प्राप्ति होती है | रुपये-पैसे तो छोड़के मरना पड़ता है, दूसरा अक्षय धन वो भी प्राप्त होता है | समस्त पापों से मुक्ति और इंद्र लोक की प्राप्ति सहज में हो जाती है अर्थात स्वर्ग लोक की प्राप्ति |* 🙏🏻 *पद्म पुराण में वशिष्टजी भगवान कहते हैं, भगवान के गुरु, भगवान वशिष्टजी कहते हैं वैशाख में जल, अन्न दान उत्तम हैं | कार्तिक में तपस्या और पूजा, माघ में जप और होम दान उत्तम है |* 🙏🏻 *प्रिय वस्तु अर्थात रूचिकर वस्तु का त्याग करने से व्यक्ति वासनाओं की गुलामी के जंजाल को काटने का बल ले आता है | नियम पालन, पवित्र नियम पालने से अधर्म की जड़े कटती हैं | जो लोग तत्वज्ञान सुनते हैं लेकिन अधर्म करते रहते हैं तो तत्वज्ञान में रूचि नहीं होती, तत्वज्ञान उनको पचता नहीं है |* 🙏🏻 *मूर्ख हृदय न चेतिए यदपि गुरु मिले विरंची सम || ब्रह्माजी जैसा गुरु मिले लेकिन जिसको अधर्म में रूचि है वह फिर फिसल जाता है | मैं मिलियनर, बिलियनर, तिलियनर बनू | लेकिन वो सुसाईड करके मर गए कई मिलियनर, कई तिलियनर, बड़े-बड़े | तो बड़े धनाढ़्य थे, और उनकी बड़ी दुर्गति हुई | तो जिस वस्तु में आसक्ति है उस वस्तु को बल

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB