Prabhat Kumar
Prabhat Kumar Aug 15, 2022

💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 🔥🔥🔥🔥 *#हर_हर_महादेव_ऊँ_नमः_शिवाय* 🔥🔥🔥🔥 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *🌜 मधुर सपनों के साथ शुभ रात्रि प्रिय आदरणीय साथियों 🌛* 🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂 *सभी देवी-देवताओं में भगवान शिव को कल्याणकारी माना गया है। भगवान शिव अपने भक्तों पर आने वाले कष्टों का हरण कर लेते हैं। 'ॐ नमः शिवाय' एक ऐसा मंत्र है जिसके नाम मात्र से सभी बाधाएं खत्म हो जाती हैं। इसकी महिमा का गुणगान हमारे पुराणों में किया गया है। प्रणव मंत्र 'ॐ' के साथ 'नमः शिवाय' (पंचाक्षर मंत्र) का मेल करने से षडक्षर मंत्र का निर्माण होता है इसलिए इसे षडक्षर मंत्र के नाम से भी जाना जाता है।* 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *धन प्राप्ति के लिए शिवलिंग पर बेल पत्र अर्पित करते हुए ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करें। इसके बाद भोलेनाथ की विधिवत आरती करें। ऐसा करने से मनचाहे धन की प्राप्ति होगी।* 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *सुबह नित्यक्रम करने के बाद स्वच्छ श्वेत वस्त्र धारण करके शिवलिंग पर महादेवाय नमः मंत्र का जाप करते हुए कमल के फूल अर्पित करें। इस उपाय से भगवान शिव के साथ देवी लक्ष्मी भी प्रसन्न हाेती हैं और अपने भक्तों को धन-धान्य से परिपूर्ण करती हैं।* 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *शिवलिंग पर दूध, गंगाजल, दुर्वा और बिल्वपत्र चढा़कर शिव मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप करने से आयु में वृद्धि होती है।* 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *भोलेनाथ की अराधना करने वाले जातक अंत समय में शिवलोक जाते हैं। भगवान शिव की पूजा करते समय ऊं नमो भगवते रुद्राय मंत्र का जाप करने से भक्त को मोक्ष की प्राप्ति होती है।* 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *सुबह स्नानादि कार्यों से निवृत्त होकर भोलेनाथ के स्वरूप पर अगस्त्य फूलों को चढ़ाते हुए ऊं नमः रुद्राय मंत्र का जाप करें। इससे हर क्षेत्र में सम्मान मिलेगा अौर जीवन ऐश्वर्य से परिपूर्ण हाेगा।* 💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧 *#नोट : उक्त जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है।* 📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰

💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
🔥🔥🔥🔥  *#हर_हर_महादेव_ऊँ_नमः_शिवाय*  🔥🔥🔥🔥
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*🌜 मधुर सपनों के साथ शुभ रात्रि प्रिय आदरणीय साथियों 🌛*
🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂
*सभी देवी-देवताओं में भगवान शिव को कल्याणकारी माना गया है। भगवान शिव अपने भक्तों पर आने वाले कष्टों का हरण कर लेते हैं। 'ॐ नमः शिवाय' एक ऐसा मंत्र है जिसके नाम मात्र से सभी बाधाएं खत्म हो जाती हैं। इसकी महिमा का गुणगान हमारे पुराणों में किया गया है। प्रणव मंत्र 'ॐ' के साथ 'नमः शिवाय' (पंचाक्षर मंत्र) का मेल करने से षडक्षर मंत्र का निर्माण होता है इसलिए इसे षडक्षर मंत्र के नाम से भी जाना जाता है।* 
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*धन प्राप्ति के लिए शिवलिंग पर बेल पत्र अर्पित करते हुए ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करें। इसके बाद भोलेनाथ की विधिवत आरती करें। ऐसा करने से मनचाहे धन की प्राप्ति होगी।* 
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*सुबह नित्यक्रम करने के बाद स्वच्छ श्वेत वस्त्र धारण करके शिवलिंग पर महादेवाय नमः मंत्र का जाप करते हुए कमल के फूल अर्पित करें। इस उपाय से भगवान शिव के साथ देवी लक्ष्मी भी प्रसन्न हाेती हैं और अपने भक्तों को धन-धान्य से परिपूर्ण करती हैं।*
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*शिवलिंग पर दूध, गंगाजल, दुर्वा और बिल्वपत्र चढा़कर शिव मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप करने से आयु में वृद्धि होती है।*
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*भोलेनाथ की अराधना करने वाले जातक अंत समय में शिवलोक जाते हैं। भगवान शिव की पूजा करते समय ऊं नमो भगवते रुद्राय मंत्र का जाप करने से भक्त को मोक्ष की प्राप्ति होती है।*
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*सुबह स्नानादि कार्यों से निवृत्त होकर भोलेनाथ के स्वरूप पर अगस्त्य फूलों को चढ़ाते हुए ऊं नमः रुद्राय मंत्र  का जाप करें। इससे हर क्षेत्र में सम्मान मिलेगा अौर जीवन ऐश्वर्य से परिपूर्ण हाेगा।*
💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧💧
*#नोट :  उक्त जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है।*
📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 8 शेयर

कामेंट्स

Prabhat Kumar Aug 15, 2022
हर हर महादेव ऊँ नमः शिवाय

Shuchi Singhal Jul 30, 2022

+26 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 44 शेयर
Prabhat Kumar Jul 30, 2022

✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ ✡️✡️✡️✡️✡️ *#जय_श्री_शनिदेव_महाराज* ✡️✡️✡️✡️✡️ ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *मंगलमय शुभकामनाओं के साथ शुभ रात्रि प्रिय आदरणीय साथियों * 💫☄️💫☄️💫☄️💫☄️💫☄️💫☄️💫☄️💫☄️💫☄️💫 ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *पौराणिक कथा के अनुसार सूर्यदेवता का विवाह राजा दक्ष की कन्या संज्ञा के साथ हुआ था।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *शास्त्रों में शनि देव को न्याय का देवता कहा जाता है तो वहीं ज्योतिषियों ने शनि देव को मारक ग्रह कहा है। शनि देव के जन्म के बारे में कई पौराणिक कथाएं सामने आती है। लेकिन शनिदेव के बारे में स्ंकंदपुराण के काशीखंड के मुताबिक शनि देव का जन्म सूर्यदेव और संवर्णा के मिलन से हुआ था। पौराणिक कथा के अनुसार सूर्यदेवता का विवाह राजा दक्ष की कन्या संज्ञा के साथ हुआ था। संज्ञा हमेशा सूर्य देव के तप से परेशान रहती थी। वो हमेशा यही सोचती थी कि सूर्य देव के तप को कैसे कम किया जाए। समय बीतने के साथ संज्ञा के गर्भ से यमराज, यमुना और वैवस्वत ने जन्म लिया। लेकिन संज्ञा अब भी सूर्य देव के तप से परेशान थी।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *संज्ञा ने सूर्य देव के तप को कम करने के लिए तपस्या करने का फैसला किया। लेकिन बच्चों को छोड़कर जाना संभव नहीं था। इसके लिए उन्होंने एक तरीका निकाला। सूर्यदेव को भनक भी ना लगे और काम भी हो जाए इसके लिए उन्होंने अपने तप से छाया नाम की संवर्णा को पैदा किया। सूर्यदेव और अपने बच्चों की जिम्मेदारी संवर्णा को देकर वो अपने पिता के घर चली गईं।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *जब संज्ञा ने अपनी परेशानी अपने पिता को बताई तो वो बहुत गुस्सा हुए और संज्ञा का डांटकर वापस भेज दिया। लेकिन अपने पति के घर वापस न आकर वो जंगल में चली गई। जंगल में जाकर घोड़ी का रूप धारण कर लिया और तपस्या करने लगी। इन सब बातों का सूर्य देव को आभास भी नहीं हुआ। सूर्य देव के साथ रहने वाली सुवर्णा का छाया रूप होने के कारण सूर्यदेव के तप से उसे कोई परेशानी नहीं हुई और कुछ समय बाद संवर्णा और सूर्यदेव के मिलन से शनिदेव, मनु और भद्रा नाम की तीन संतानों ने जन्म लिया।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *वहीं शनि देव के बारे में एक अन्य कथा भी है जिसमें बताया गया है कि शनि देव का जन्म महर्षि कश्यप के अभिभावक्त में कश्यप के यज्ञ से हुआ था।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *#नोट : उक्त जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है।* 📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰 *( इस आलेख में दी गई जानकारियाँ धार्मिक आस्था और लौकिक मान्यताओं पर आधारित है जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Shani dev ki diwani Jul 30, 2022

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Ramesh Agrawal Jul 30, 2022

+14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 46 शेयर
mymandir Jul 28, 2022

+486 प्रतिक्रिया 109 कॉमेंट्स • 286 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB