shiv charan bhulwana
shiv charan bhulwana Jul 30, 2022

ॐ आध्यात्मिक दर्शन ॐ श्रीमद्भगवद्गीता अध्याय 18 तच्च संस्मृत्य संस्मृत्य रूपमत्यद्भुतं हरे: ! विस्मयो मे महान् राजन्ह्रष्यामि च पुनः पुनः!! 77 !! हे राजन्! श्रीहरिके उस अत्यन्त विलक्षण रूप ( जिसका स्मरण करने से पापों का नाश होता है, उसका नाम 'हरि' है) को भी पुनः - पुनः स्मरण करके मेरे चित्त में महान आश्चर्य होता है और मैं बार- बार हर्षित हो रहा हूँ!! 77!! धन्यवाद जी शिवचरण परमार भुलवाना श्रीराधे जय श्री राधे राधे जी

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
dalipjotwani Jul 30, 2022

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 58 शेयर
Dnyaneshwar Nimkar Jul 30, 2022

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
dalipjotwani Jul 29, 2022

+16 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 72 शेयर
dalipjotwani Jul 28, 2022

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 19 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB