Naresh Narwal
Naresh Narwal Nov 26, 2021

कालभैरव जयंती मार्गशीर्ष माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालभैरव अष्टमी के रूप में मनाई जाती है। काल भैरव को काशी का कोतवाल माना जाता है। भैरव जी के 108 नामों को प्रतिदिन, रविवार या शनिवार को पढ़ना चाहिए, साथ ही भैरव जी को सरसों के तेल का दीप व लड्डू अर्पण करना चाहिए।   इनका वाहन कुत्ता माना जाता है, अत: कुत्ते को दूध आदि पिलाते रहना चाहिए। साधकों की सुविधा के लिए ह्रीं बीजयुक्त 108 नाम दिए जा रहे हैं। यदि आप शक्ति-साधना की दीक्षा लेकर इन नामों का पाठ करते हैं तो और भी अत्यधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

कालभैरव जयंती मार्गशीर्ष माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालभैरव अष्टमी के रूप में मनाई जाती है। काल भैरव को काशी का कोतवाल माना जाता है। भैरव जी के 108 नामों को प्रतिदिन, रविवार या शनिवार को पढ़ना चाहिए, साथ ही भैरव जी को सरसों के तेल का दीप व लड्डू अर्पण करना चाहिए।
 
इनका वाहन कुत्ता माना जाता है, अत: कुत्ते को दूध आदि पिलाते रहना चाहिए। साधकों की सुविधा के लिए ह्रीं बीजयुक्त 108 नाम दिए जा रहे हैं। यदि आप शक्ति-साधना की दीक्षा लेकर इन नामों का पाठ करते हैं तो और भी अत्यधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 32 शेयर

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 14 शेयर
SUREKHA RANA Jan 27, 2022

+202 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 85 शेयर
SUJATA Jan 27, 2022

+145 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 72 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर
RANJNA Jan 27, 2022

+200 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 55 शेयर

+26 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 142 शेयर

+39 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 103 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB