J Lodhi ✔
J Lodhi ✔ May 22, 2022

+91 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 81 शेयर

कामेंट्स

J Lodhi ✔ May 22, 2022
🌸 🙏JAI SHREE RAM🙏🌸 🌹।।ॐ जय सूर्य भगवान...।।🌹 🌹🌸 जय श्री गणेश🌸🌹 🌷!!जय श्री राधे कृष्णा!!🌷 🙏🙏🙏🙏

Ravi Kumar Taneja May 22, 2022
🙏🌞शुभ दोपहर वंदना जी🌞🙏 आपका दिन मंगलमय हो !!!🙏 🌼ॐ भास्कराय नमः🙏 🌼ॐ आदित्याय नमः🙏 🌼ॐ भानवे नमः🙏 🌼ॐ प्रभाकराय नमः🙏 🌼ॐ दिवाकराय नमः🙏 🌼ॐ सुर्याय नमः🙏 🌼ॐ दिनेशाय नमः🙏 🌼ॐ अर्काय नमः🙏 🌼ॐ सुर्यदैवाय नमः🙏 🌼ॐ सविताय नमः🙏 रविवर की हार्दिक शुभकामनाये🙏🌻🙏 *🌻रख लो आईने हजार तसल्ली के लिए ,* *पर* *🌻सच के लिए तो ,आँखें ही मिलानी प़डेगी ,खुद से भी और भगवान से भी* *🌻जिस समय हमारा मन दूसरों के लिए शुभ सोचना प्रारंभ कर देता है* *🌻सुख और शान्ति उसी समय से हमारे जीवन में प्रविष्ट हो जाती है।* प्रभु सूर्य देव की कृपा से आप स्वस्थ रहे, मस्त रहे, मुस्कुराते रहें, तथा प्रसन्न: रहे🕉🌞🙏🌻🙏🌻🙏🌞🕉

ILA SINHA May 22, 2022
🌴💥 Jai Suryadev💥🌴 🌴💥 Good afternoon💥🌴 🌴💥 Happy Sunday💥🌴

Runa Sinha May 22, 2022
सारे जगत को प्रकाशित करने वाले भगवान सूर्य देव की कृपा आप पर सदैव बनी रहे🙏🙏

Manoj Gupta AGRA May 22, 2022
jai shree radhe krishna ji 🙏🙏🌷🌸💐 shubh dopher vandan ji 🙏🙏🌷🌸

Saumya sharma May 22, 2022
ॐ घृणिः सूर्याय नमः 🙏शुभ संध्या वंदन भैया जी 🙏🌹☺सूर्य देव की कृपा से आपका स्वास्थ्य सदैव उत्तम रहे और आपके जीवन में खुशी रूपी प्रकाश फैला रहे 🙏🌹☺आप समृद्ध रहें, भक्तिमय रहें और अपनों के साथ हँसते मुस्कुराते रहें 🙏🌹☺

gks May 22, 2022
Jai shree siya ram laxman Jai mahaveer Jai hanuman ji

+33 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 91 शेयर
Sudha Mishra Jun 29, 2022

+53 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 78 शेयर
Babbu Malhotra Jun 29, 2022

+44 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 38 शेयर
Kanta Jun 29, 2022

+51 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 66 शेयर

. "राम और श्याम" आपने राम और श्याम, सीता और गीता, कृष्ण कन्हैया जैसे फिल्में तो अवश्य देखी होंगी। इस सबमें एक समानता है कि एक ही शक्ल के दो लोग हैं। एक सीधा सरल है और दूसरा टेढ़ा नटखट है। और एक बार दोनों आपस में जगह भी बदल लेते हैं, अर्थात सीधे सरल की जगह टेढ़ा नटखट। बिलकुल बैसे ही जैसे हमारे प्रभु राम और कृष्ण हैं एक ही शक्ल, एक सीधे सरल और दूसरे टेढ़े नटखट। यदि ये दोनों भी अपना स्थान बदल लें तो, नजारा देखने में कुछ ऐसा होगा। एक बार गोलोक धाम में यशोदा मैया के मन में साकेत विचरण करने एवं कौशल्या दीदी से मिलने की अभिलाषा जागृत हुई। वह अपने नन्हे कन्हैया को लेकर चल पड़ी। उसी समय कौशल्या माँ के हृदय में भी यशोदा और उसके लाला से मिलने की तीव्र अभिलाषा जागृत हुई और वह भी चल पड़ी अपने राम लला को लेकर। दोनों की मार्ग में ही भेट हो गई। दोनों एक दूसरे को देख कर अति प्रसन्न हुई आपस में सत्संग रूपी ही वार्तालाप में मग्न हों गई। दोनों लाला भी आपस में क्रीड़ा करने लगे। दोनों एक दूसरे के प्रतिबिम्ब प्रतीत हो रहे थे, क्योंकि- राम कृष्ण दोउ एक हैं, अंतर नहीं निमेश। एक के नयन गंभीर हैं, एक के चपल विशेष।। जब माताओं का सत्संग समाप्त हुआ, तब दोनों अपने-अपने लालाओं को लेकर अपने अपने धाम चलीं गईं। साकेत धाम में जब अगले दिन सुबह हुई तो राम लला को उठाने के लिए अयोध्या वासी राग अलापने लगे– "भोर भई उठऊं मेरे राघव" किन्तु आज तो राम लला उठ के ही ना दे। तो माता कौशल्या बोली- "आज मेरा राघव अधिक ही थका हुआ लगता है सोने दो।" तनिक समय पश्चात राम जी के सखा आये - "हे रघुकुल कमल दिवाकर आपके क्रीडा करने का समय हो गया है।" राम लला आँखे मलते हुए उठे और बोले - "सब द्वार पर ही खड़े रहोगे या बिछोने पर भी आओगे।" सारे सखा दंग रह गए की आज राघव जू कैसा बर्ताव कर रहे हैं। जब खेलने गए तो सारे सखा राम जी की परछाई से भी दूर चल रहे थे तभी राम लला भाग के एक सखा के पद्दी चढ़ गए, किसी को पानी में गिरा दिया किसी को अडंगी दे दी। सखा बहुत खुश भी और हैरान भी की आज राम लला को क्या हो गया? और जब महल में आये तो महल में प्रातः से ही तोड़ फोड़ की आवाजें आने लगी, कभी बर्तन तोड़े कभी झूमर गिराया। राजा दसरथ जी और तीनों रानियाँ हैरान और आनंदित भी की आज हमारे राम ने पहली बार शरारत की है। इधर गोलोक का हाल इससे बिलकुल विपरीत है। सुबह-सुबह लाला उठा के आये माँ यशोदा के पास और बोले - "मईया नहला दो" माँ बोली - क्या? आज तू इतनी जल्दी कैसे उठ गया, रोज तो सूरज देवता सर पर आ जाने तक भी नहीं उठता।" कुछ ही देर बाद सब सखा आ गये और बोले -"ओये नन्द के, चल खेलबे की ताइ" तब लाला अपनी मैया से कहते हैं -"माता क्या हम कुछ देर खेलने अपने सखाओं के साथ जाएँ।" सुनते ही माता के तो होश ही उड़ गए और जितने भी ग्वाल थे सब हतप्रभ औचक- "बाबा रे तू कबसे इतना आज्ञाकारी हो गया।" जब खेलने जा रहे थे तो सब सखा लाला को छेड़ने लगे कोई उनकी पीठ पे चढ़ जाता तो कोई उनको अडंगी देके गिरा देता। लाला बार-बार कहते हमें परेशान मत करिए। ग्वाले हैरान व परेशान। भूचाल तो तब आया जब लाला गोपियों के हाथ लगे। गोपियों ने जैसे ही लाला को देखा वो उनकी गाल खीचने लगीं, प्यार करने लगीं। अब लाला तनिक से रोष में बोले - "देखो हम किसी स्त्री का स्पर्श नहीं करते कृपया आप दूर ही रहिये हमसे।" गोपियाँ खिलखिला उठी आज इस लबार को क्या हो गया। जब एक गोपी ने लाला को बंशी दी कि लाला बंशी की धुन तो सुना, तब लाला बोले देखिये हमें बंशी-वंशी नहीं बजानी आती हम तो धनुष चलाना जानते हैं। अब गोपियों को कुछ संदेह हुआ, उन्होंने सारी बात यशोदा मैया को बताई। मैया यशोदा तुरन्त सब समझ गई और लाला को लेके चली साकेत धाम। उधर से माँ कौशल्या भी ले आई अपने लाला को। माँ कौशल्या ने कहा -"यशोदा तेरा लाला बड़ा ही नटखट है ले पकड़ इसको।" और मैया यशोदा बोली - "आपका राघव भी बड़ा ही प्यारा और मनमोहक है किन्तु दीदी मन अपने नटखट कन्हैया में ही रमता है।" ----------:::×:::-------- "जय जय श्री राधे" " कुमार रौनक कश्यप " ************************************************

+15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Babbu Malhotra Jun 29, 2022

+20 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 8 शेयर

*आत्मबोध* एक बार एक लड़के ने एक सांप पाला, वह लड़का सांप से बहुत प्यार करता था... उस सांप के साथ ही खेलता खाता और साथ में ही सोता भी था .. एक बार वह सांप बीमार जैसा रहने लगा... उसने खाना खाना भी छोड़ दिया, यहाँ तक कई दिनों तक उसने कुछ नहीं खाया तो लड़का परेशान हुआ और उसे वेटरिनरी डॉक्टर के यहाँ लेकर गया .... डॉक्टर ने सांप का पूरा चैक अप करने के बाद उस लड़के से पूछा, "क्या यह सांप आपके साथ ही सोता है ?" उस लड़के ने कहा, "हाँ" डॉक्टर ने पूछा, "आपसे बहुत सट के सोता है" लड़का ने कहा, " जीहाँ, मुझसे लिपट कर सोता है" डॉक्टर ने पूछा, "क्या रात को सांप अपनी पूरी बॉडी को स्ट्रेच करता है ...?" ये सुन कर लड़का चौंका उसने कहा, "हाँ डॉक्टर साहब .. ये रात को अपनी बॉडी को बहुत बुरी तरह स्ट्रेच करता है और मुझसे इसकी इतनी बुरी हालत देखी नहीं जाती और मैं किसी भी तरह से इसका दुःख दूर नहीं कर पाता ........" डॉक्टर ने कहा, ...." इस सांप को कोई बीमारी नहीं है ... और ये जो रात को तुम्हारे बिल्कुल बगल में लेट कर अपनी बॉडी को स्ट्रेच करता है वो दरअसल तुम्हें निगलने के लिए अपने शरीर को तुम्हारे बराबर लम्बा करने की कोशिश करता है .... वो लगातार ये परख रहा है कि तुम्हारे पूरे शरीर को वो ठीक से निगल पायेगा या नहीं और निगल लिया तो पचा पायेगा या नहीं ..." लड़का अवाक रह गया ...! इस घटना से हमें यह शिक्षा मिलती है कि जो आपके साथ हर वक्त रहते हैं .... जिनके साथ आप खाते पीते उठते बैठते सोते हैं ...... जरुरी नहीं कि वो भी आपको उतना ही प्यार करते हो जितना आप उन्हें प्यार करते हैं ...... हो सकता है उनमें से कोई आपको निगलने के लिए अपना आकार धीरे-धीरे बढ़ा रहा हो ..... और आप निरे भावुक होकर उसकी दीन हीन दशा को देखकर द्रवित हो रहे हो..... इसलिए सावधान हो जाइए ... 🙏🙏 *जो प्राप्त है-पर्याप्त है* *जिसका मन मस्त है* *उसके पास समस्त है!!*

+113 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 106 शेयर
Babbu Malhotra Jun 29, 2022

+21 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+30 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB