Bhawna Gupta
Bhawna Gupta Nov 28, 2021

JAI SHREE RADHE KRISHNA JI.. 🙏🙏🙏🙏🙏

JAI SHREE RADHE KRISHNA JI.. 🙏🙏🙏🙏🙏
JAI SHREE RADHE KRISHNA JI.. 🙏🙏🙏🙏🙏

+35 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 8 शेयर

कामेंट्स

Gajendrasingh kaviya Nov 28, 2021
Radhe Radhe good afternoon my sweet sis 🌹🌷🌹🌹 happy Sunday 🍡🍡🌼🍒🫒

🌹Arjun. No, 9879770109 Nov 28, 2021
🌹 jai shree Radhey Radhey ji. 👌jai shree Krishna 🙏very very nice post ji, Shubh Sandhaya vandan ji 🙏🙏🙏

Rama Devi Sahu Nov 28, 2021
Radhe Radhe 🌹 Subha Ratri Vandan Pyari Behen Jii 🙏🌹🌹

Bhagat ram Nov 28, 2021
🌹🌹 जय श्री कृष्णा राधे राधे जी 🙏🙏🌿🌺💐🌹🌹 शुभ रात्रि वंदन जी 🙏🙏🌿🌺💐🌹🌹

🔹🌼🇮🇳हरि प्रिय पाठक🇮🇳🌼🔹 Nov 29, 2021
⛳🏵️⛳**जय महादेव**⛳🏵️⛳ 🥀🌚शुभ रात्रि वंदनजी🌚🥀 **जिंदगी में सबसे बड़ा धनवान* **वो इंसान होता है,जो दूसरों को* **अपनी मुस्कुराहट देकर....... * **दिल जीत लेता है.............. !! 🦋😊🦋😊🦋😊🦋😊🦋😊 🌿🍍🌿आप की रात्रि सकूँन भरा कृष्णमय हो,आने वाला कल सकल मनोरथ पूर्णदायक हो,शुभ रात्रि वंदन बहन जी🌿🍍🌿 ❣️🌼‼️🙏‼️🌼❣️

Neha Sharma Jan 22, 2022

li.▭▬▭▬▭▬--।।ॐ।।▭▬▭▬▭▬▭.li *🌺🤗 सखियों के श्याम 🤗🌺* □ मन धावत मग छोर....□ ~~~~~□-pøšț-० ५ -□~~~~~ li.▭▬▭▬▭▬--।।ॐ।।▭▬▭▬▭▬▭.li *🙏🌹Զเधे* *Զเधे*... *Զเधे* *Զเधे*🌹🙏 *.....🌹 जय श्री राधेकृष्ण🌹.....* 👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣 मैया री मैया! यह पड़िया है कि महिषासुरकी नानी, कैसी घोड़े-सी दौड़ लगाती है दयीमारी। मैं तो दौड़ते-दौड़ते थक गयी। इस मालती-कुंजमें थोड़ा विश्राम कर लूँ, फिर ढूँढने जाऊँगी। अहा, कैसी ठंडक है यहाँ और यह सुचिक्कण-शिला तो मानो विश्रामके लिये बुला ही रही हो, तनिक लेट जाऊँ। हो-न-हो पड़िया अपनी मैयाके पास ही गयी होगी। तब तो और अच्छी बात होगी, वहाँ एक पंथ दो काज सिद्ध हो जायेंगे मेरे । पड़िया-कीपड़िया ढूंढ लाऊँगी और श्यामसुंदरके दर्शन भी हो जायेंगे। कितना सुंदर रूप है उनका! किंतु कैसा दुर्भाग्य है हमारा कि दर्शनको यही प्रातः-सांय दो सखियों के श्याम समय; और उस समय भी मूरख विधाताकी दी हुई पलकें उठ-गिरकर बाधा देती रहती हैं। कैसा भोला स्वभाव, बोलना, चलना, निहारना, हँसना, सब कुछ कितना मनोहारी। जी करता है आठों पहर आँखोंके आगे रहें। हृदय उमड़-उमड़ पड़ता है पर किससे कहें ? कौन सुने ? और सुनकर क्या करेगा भला? हँसेगा और क्या! हमसे तो ये पशु-पक्षी भले, यह यमुना और यमुना पुलिन भले, वृक्ष भले, फिर यह भगवती वसुन्धरा तो भूरिभागा है, जो उनके चरण-कमल नित्य-प्रति अपने वक्षपर धारण करती है। हमारा ऐसा भाग्य कहाँ कि ......... 6 - ) 'अरे कौन है भाई? मेरी आँखें छोड़ो। मेरी पड़िया भाग गयी, उसीको ढूंढ़ने आयी तो आँखमें धूल पड़ गयी। तनिक ठहरकर विश्राम कर रही हूँ कौन सखी है-विद्या, कमला, पद्मा, पाटला, राका, उषा, माधवी, हेमा कौन है री? अच्छा सखी! मैं हारी तुम जीती।' 'अरे कन्हाई! कहाँसे आ गये तुम?' 'क्यों सखी! मेरा आना अच्छा नहीं लगा तुझे ?' 'इस बातका क्या उत्तर दूँ ?' 'क्या बात है, बोली नहीं तू! चला जाऊँ?' > 'श्याम......'-मेरे मुखसे निकला, नयन भर आये और कंठ रुद्ध हो गया, भला इतना भोला भी कोई होता है ? 'मेरा साथ तुझे अच्छा नहीं लगता?' मेरे समीप बैठते हुए वे बोले'मुझसे कुछ अपराध बन गया?' - मैंने 'नहीं' में सिर हिला दिया। 'अरी इतना बड़ा-सा सिर हिलायेगी पर दो अंगुलकी जीभ नहीं हिला सकती?' 6 'क्या कहूँ?' 4 'क्या कहनेको कुछ भी नहीं रह गया है ?' 'श्याम......।' 'श्याम-ही-श्याम कहेगी। मैं श्याम हूँ सखी! पर तू तो उजरी है, फिर क्या चिंता है ! यहाँ क्यों बैठी है?' 6 'पड़िया खो गयी है।' मन धावत मग छोर मैं - हँस पड़े कान्ह–'तो इस कुंजमें ढूँढ रही है उसे? चल मैं ढूंढ़वा दूँ। उस दिन संदेश पहुँचा दिया उसका आभारी हूँ।' 'आभारको मैं क्या करूँगी! न ओढ़नेके काम आये, न बिछानेके।' 'तो तेरा क्या प्रिय करूँ इला?' 'मेरा प्रिय! क्या कहूं, कुछ कहते नहीं बनता।'-नयन झर-झर बरस उठे। 1 - 'यह क्या सखी! क्या दुःख है तुझे?'-कान्ह घबरा कर बोल उठे। 'कहनेसे क्या होगा? मेरा दुःख किसी प्रकार नहीं मिट सकता।' 'मुझसे कह इला! कैसा ही दुःख हो, मैं मिटा दूँगा उसे।'- मेरा मुख अंजलीमें भर व्याकुल स्वरमें बोल उठे वे। 'मन निरन्तर तुम्हें देखते रहना चाहता है ! कोई ऐसी औषध दे दो कि तुम्हें भूल जाऊँ।'–हिलकियोंके मध्य अटक-अटक कर मैंने बात पूरी की। 'इला......।' 'तुम्हें छोड़ मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता, मैं क्या करूँ, किससे कहूँ, कहाँ जाऊँ?' वाणी रुद्ध हो गयी, मैंने हाथोंसे मुँह छिपा लिया। 'क्या करूँ इला! जिससे तू सुखी हो।' 6 'किसी प्रकार तुम्हें भूल जाऊँ, किंतु यह संभव नहीं लगता ! यह नासपिटा मन मानेगा नहीं। अच्छा कान्ह ! कोई ऐसा उपाय है जिससे लगे कि तुम सदा मेरे समीप हो।' 'तुझे ऐसा नहीं लगता सखी?'-वे हँस पड़े। 'लगता तो है, पर ऐसा लगता है समीप होने पर भी दूर हो।' 'और कुछ चाहिये? ' 'और है क्या तुम्हारे पास?" 'सच कहती है, महा असमर्थ हूँ मैं।' 'ये साधु-महात्मा जोर-जोरसे माथा झुकाते हैं; कहते हैं-तुम बड़े बली हो, काल-के-काल, देवों-के-देव और भी न जाने क्याक्या कहते रहते हैं, सो?' '- > तूने कहाँ सुनी?' 'महर्षि शाण्डिल्यके और भगवती पौर्णमासीके यहाँ बहुत महात्मा इकट्ठे होते हैं । आते-जाते उन्हीं लोगोंसे सुना है।' 'उनकी बात रहने दे सखी! सो सब व्रजमें नहीं चलता।' मैं पछताने लगी; व्यर्थ मनका दुःख इन्हें बताया, इनका कोई वश नहीं। 'अच्छा सखी! मुझे भूल कर तू सुख पायेगी?' 'कैसे कहूँ? पर स्मरणकी सीमा नहीं, वह जैसे विरमित होना नहीं जानता।' 'ठीक है, मैं कुछ उपाय करूँगा।' 'किसका? 'जिससे तू मुझे भूल सके।' 'नहीं! नहीं!! तुम्हारा स्मरण ही तो हमारा जीवन है, तुम्हें भूलकर और क्या करूँगी?'-प्राणोंकी व्याकुलता स्वरमें फूट पड़ी। 'यह क्या! क्षणमें इधर और क्षणमें उधर; तेरी बातका कोई ठौर ठिकाना है?' 'मुझे भी कुछ समझमें नहीं आता। रहने दो, जैसी हूँ वैसी ही भली!' 'इला.....।'-इस भावभरे सम्बोधनके साथ ही उनके नयनपद्म मेरे मुखपर टिक गये। कितने समयतक हम जड़ हुए बैठे रहे, ज्ञात नहीं। > 'उठ इला! सखा मुझे ढूँढ रहे होंगे, चल तेरी पड़िया ढूँढ !' मेरा हाथ थाम वे उठ खड़े हुए। 👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣 🍁💦🙏Զเधे👣Զเधे🙏🏻💦🍁 जो लोग ठाकुर जी से प्रेम करते हैं.....🌸🌺 प्रेम से लिखे श्री राधे राधे..🍂🌺🍂

+52 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 45 शेयर
Mahendra prajapati Jan 22, 2022

+18 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 31 शेयर
gopal gajjar Jan 22, 2022

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+13 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 10 शेयर
myjbjvala Jan 22, 2022

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
ritu saini Jan 22, 2022

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 29 शेयर

+42 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 36 शेयर

꧁🦚🦚🦚🦚🦚🦚🦚🦚꧂ ꧁💥श्रीसिद्धिविनायक पंचांग💥꧂ 🌷🍂🍃☘️🌷☘🌹🌻🌸🌺. ━❀꧁ 卐卐卐卐卐 ꧂❀┅ 🔔°•🔔•°🔔°•🌄•°🔔°•🔔•°🔔 🦚🦚🦚🦚 ॐ सूर्याय नम:, ॐ मित्राय नम:,ॐ रवये नम:,ॐ भानवे नम:, ॐ खगाय नम:,ॐ पूष्णे नम:, ॐ हिरण्यगर्भाय नम:,ॐ मारीचाय नम:, ॐ आदित्याय नम:, ॐ सावित्रे नम:, ॐ अर्काय नम:,ॐ भास्कराय नमः प्रातः स्मरामि खलु तत्सवितुर्वरेण्यं रूपं हि मण्डलमृचोऽथ तनुर्यजूंषि सामानि यस्य किरणाः प्रभवादिहेतुं ब्रह्माहरात्मकमलक्ष्यमचिन्त्यरूपम् । सुप्रभातम् ॐ श्रीगणेशाय नमः अथ् पंचांगम् दिनाँक 23-01-2022 रविवार, अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80" अम्बाला शहर, हरियाणा, पिन कोड 134 007 🙏🙏🙏 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ━❀꧁🌳🌳🌳🌳꧂❀━ -समाप्तिकाल- 📒 तिथि पंचमी 09:14:52 ☄️ नक्षत्र उत्तरा फाल्गुनी 11:09:38 🛑 करण : 🛑तैतिल 09:14:52 🛑गर 21:04:04 🔒 पक्ष कृष्ण 🛑 योग अतिगंड 12:47:48 🗝️ वार रविवार 🌄 सूर्योदय 07:18:15 🌃 चन्द्रोदय 22:56:59 🌙 चन्द्र राशि कन्या 👩🏻‍🦱 🌌 सूर्यास्त 17:51:00 🌑 चन्द्रास्त 10:37:00 ☃️ ऋतु शिशिर 🛑 शक सम्वत 1943 प्लव 🛑 कलि सम्वत 5123 🛑 दिन काल 10:32:44 🛑 विक्रम सम्वत 2078 🛑 मास अमांत पौष 🛑 मास पूर्णिमांत माघ 🎺शुभ समय 🥁 अभिजित 12:13:33 - 12:55:44 ⚫ दुष्टमुहूर्त 16:26:39 - 17:08:50 ⚫ कंटक 10:49:11 - 11:31:22 ⚫ यमघण्ट 13:37:55 - 14:20:06 👿 राहु काल 16:31:55 - 17:51:00 ⚫ कुलिक 16:26:39 - 17:08:50 ⚫ कालवेला 12:13:33 - 12:55:44 ⚫ यमगण्ड 12:34:38 - 13:53:44 ⚫ गुलिक 15:12:49 - 16:31:55 🛑 दिशा शूल पश्चिम 🔥🔥🔥🔥🔥🔥 सर्व कार्य सिद्धि के लिए होरा मुहूर्त श्रेयस्कर है । होरा मुहूर्त के अनुसार कार्य आरंभ करके प्रत्येक मनुष्य अशुभ समय में से होरा के अनुसार अपना कार्य सिद्ध कर सकता है । 7 ग्रहों के सात होरे हैं । 👉सूर्य की होरा टेंडर देने व नौकरी व राज्य कार्य के चार्ज लेने देने के लिए अच्छी होती है । 👉चंद्रमा की होरा सब कार्यों के लिए अच्छी होती है । 👉मंगल की होरा युद्ध, यात्रा, कर्ज़ देने, सभा सोसाइटी में आना-जाना और मुकदमा के कार्य में अच्छी होती है । 👉 बुध की होरा में विद्यारंभ, कोष संग्रह करना, नवीन व्यापार, नवीन लेख, पुस्तक प्रकाशन, प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करने के लिए अच्छी होती है । 👉गुरु की होरा विवाह संबंधी कार्यक्रम, बड़ों से मिलना, कोष संग्रह, नवीन काव्य लेखन, आदि के लिए शुभ है । 👉शुक्र की होरा यात्रा भूषण नवीन वस्त्र धारण, प्रवास, सौभाग्य वर्धक कार्य के लिए शुभ है । 👉शनि की होरा भूमि मकान की नींव नूतन गृह आरंभ, मशीनरी, मिल्स कार्य आरंभ, समस्त स्थिर कार्य शुभ होते हैं। 💥💥💥💥 होरा 🛑सूर्य 07:18:15 - 08:10:59 🛑शुक्र 08:10:59 - 09:03:43 🛑बुध 09:03:43 - 09:56:27 🛑चन्द्रमा 09:56:27 - 10:49:10 🛑शनि 10:49:10 - 11:41:54 🛑बृहस्पति 11:41:54 - 12:34:38 🛑मंगल 12:34:38 - 13:27:22 🛑सूर्य 13:27:22 - 14:20:05 🛑शुक्र 14:20:05 - 15:12:49 🛑बुध 15:12:49 - 16:05:33 🛑चन्द्रमा 16:05:33 - 16:58:17 🛑शनि 16:58:17 - 17:51:00 🛑बृहस्पति 17:51:00 - 18:58:15 🛑मंगल 18:58:15 - 20:05:29 🛑सूर्य 20:05:29 - 21:12:44 👉नोट- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 🛑चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । ⛩️शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ ☘️रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । ⛩️अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- 👉चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । 👉उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । 👉शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । 👉लाभ में व्यापार करें । 👉रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । 👉काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । 👉अमृत में सभी शुभ कार्य करें । 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 💥💥💥💥 चोघड़िया ⚫उद्वेग 07:18:15 - 08:37:21 🛑चल 08:37:21 - 09:56:27 ⛩️लाभ 09:56:27 - 11:15:32 ⛩️अमृत 11:15:32 - 12:34:38 ⚫काल 12:34:38 - 13:53:44 ⛩️शुभ 13:53:44 - 15:12:49 ☘️रोग 15:12:49 - 16:31:55 👿उद्वेग 16:31:55 - 17:51:00 ⛩️शुभ 17:51:00 - 19:31:52 ⛩️अमृत 19:31:52 - 21:12:44 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ꧁ दैनिक ग्रह गोचर ꧂ 🌞 सूर्य - मकर 🐊 🌙 चन्द्र - कन्या 👩🏻‍🦱 🛑 मंगल - धनु 🏹 🛑 बुध - धनु 🏹 🛑 बृहस्पति - कुम्भ 🏺 🛑 शुक्र - धनु 🏹 🛑 शनि - मकर 🐊 😈 राहु - वृष 🐂 👖 केतु - वृश्चिक 🦂 --------------------------------------------------- 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 व्रत-त्यौहार 31 जनवरी तक ┉┅━❀꧁🐀🐀🐀꧂❀━┅ 🛑 रविवार 23 जनवरी सुभाष चंद्र बोस जयंती 🛑 सोमवार 24 जनवरी भद्रा 8:44 से 20:17तक 💥सूर्य श्रवण में 10:19 🛑 मंगलवार 25 जनवरी अष्टमी तिथि का क्षय॰॰ ॰॰ 🛑 बुधवार 26 जनवरी 👉 भारत गणतंत्र दिवस (73वां) 🛑 गुरुवार 27 जनवरी भद्रा 15:26 से 26:17 तक 🛑 शुक्रवार 28 जनवरी षटतिला एकादशी व्रत 👉वक्री बुध पूर्व में उदय 29:42 गंड मूल 7:10 से 🛑 शनिवार 29 जनवरी तिल द्वादशी 👉 शुक्र मार्गी 14:17 गंड मूल 26:49 तक 🛑 रविवार 30 जनवरी भद्रा 17:29 से 27:54 तक प्रदोष व्रत 👉मास शिवरात्रि व्रत 🛑 सोमवार 31 जनवरी पितृ कार्येषु अमावस 14:19 बाद तीर्थ स्थान व तर्पण आदि का महात्म्य 2 दिन हरिद्वार प्रयाग राज आदि। 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ┉┅━❀꧁🐀🐀🐀꧂❀━┅ दैनिक भविष्यफल 👩‍❤️‍👨🦀🦁👩🏻‍🦱⚖️🏹🐬 ✒️ नोटः प्रस्तुत भविष्यफल में और आपकी कुंडली व राशि के ग्रहों के आधार पर आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में कुछ भिन्नता हो सकती है । पूरी जानकारी के लिए किसी देवेज्ञ या भविष्यवक्ता से मिल सकते हैं। 🤷🏻‍♀ आज जिन भाई-बहनों /मित्रों का 🎂जन्मदिन या विवाह की वर्षगांठ 🥁📯 है , उन सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ तथा शुभ आशीर्वाद । प्रभु आपकी जीवन यात्रा सफल करें । 🐐मेष नवीन वस्त्राभूषण पर व्यय होगा। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। भाग्य का साथ मिलेगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। नौकरी में प्रमोशन के योग हैं। उत्साह व प्रसन्नता में वृद्धि होगी। समय पर निर्णय लेने से काम बनेंगे। आलस्य त्यागकर काम पर ध्यान दें। 🐂वृष कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। किसी भी अपरिचित पर अंधविश्वास न करें। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। दूसरे आपसे अधिक अपेक्षा करेंगे। काम में विलंब होगा। आय बनी रहेगी। बाहरी सहयोग मिलेगा। कुसंगति से बचें। फालतू खर्च होगा। अतिरिक्त सावधानी की आवश्यकता है। 👩‍❤️‍👨मिथुन स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। अपरिचित व्यक्ति पर अंधविश्वास न करें। लेन-देन में जल्दबाजी से हानि संभव है। कोई भी बड़ा निर्णय सोच-समझकर करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। नौकरी में कार्यभार रहेगा। विवाद न करें। शोक समाचार मिल सकता है, धैर्य रखें। भागदौड़ अधिक होगी। 🦀कर्क प्रभावशाली व्यक्तियों से परिचय होगा। व्यवसाय लाभदायक रहेगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। वाणी पर नियंत्रण रखें। उत्तेजना से समस्या बढ़ सकती है। राजकीय कोप का भाजन बन सकते हैं। जल्दबाजी न करें। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। घर में अतिथियों का आगमन होगा। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। 🦁सिंह मेहनत सफल रहेगी। सामाजिक प्रति‍ष्ठा में वृद्धि होगी। समाज के वरिष्ठजनों से मेलजोल बढ़ेगा। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। व्यवसाय लाभदायक रहेगा। नए कार्य प्रारंभ करने की योजना बनेगी। घर-परिवार का सहयोग प्राप्त होगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। मनोरंजन के साधन प्राप्त होंगे। 👩🏻‍🦱कन्या मनपसंद भोजन का आनंद मिलेगा। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। पठन-पाठन व लेखन आदि के काम सफल रहेंगे। आय में वृद्धि होगी। पार्टी व पिकनिक का कार्यक्रम बन सकता है। किसी विशेष व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त हो सकता है। आशंका-कुशंका हो सकती है। काम पर ध्यान दें। प्रसन्नता रहेगी। ⚖️तुला जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। मनोरंजन का अवसर प्राप्त होगा। शत्रु शांत रहेंगे। किसी प्रभावशाली व्यक्ति के सहयोग से कार्य की बाधा दूर होगी। व्ययवृद्धि होगी। नए काम मिल सकते हैं। परिवार का सहयोग प्राप्त होगा। प्रसन्नता रहेगी। विवाद न करें। जोखिम न उठाएं। 🦂वृश्चिक प्रभावशाली व्यक्ति का मार्गदर्शन व सहयोग प्राप्त होगा। शत्रु सक्रिय रहेंगे। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। तीर्थयात्रा का आनंद मिलेगा। दुष्टजनों से दूर रहें, हानि पहुंचा सकते हैं। व्यवसाय लाभदायक रहेगा। परिवार के साथ जीवन सुखमय रहेगा। प्रसन्नता बनी रहेगी। 🏹धनु यात्रा मनोरंजक रहेगी। मेहनत का फल मिलेगा। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। स्वयं की देनदारी समय पर चुका पाएंगे। भाइयों से सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता तथा संतुष्टि होगी। शत्रु शांत रहेंगे। आय में वृद्धि होगी। ऐश्वर्य के साधनों पर खर्च होगा। जल्दबाजी न करें। 🐊मकर बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। बाहरी व्यक्ति की बातों में न आएं। बड़ा काम करने का मन बनेगा। उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे। जीवन सुखमय गुजरेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। भूमि, भवन, दुकान, फैक्टरी व शोरूम आदि की खरीद-फरोख्त की योजना बनेगी। संपत्ति से लाभ होगा। 🏺कुंभ मान-सम्मान मिलेगा। मनोरंजन के अवसर मिलेंगे। नए काम मिल सकते हैं। अवसर का लाभ लें। पार्टनरों से मतभेद दूर होकर सहयोग मिलेगा। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। विवेक से कार्य करें। लाभ में वृद्धि होगी। प्रसन्नता बनी रहेगी। समाज के वरिष्ठजनों से मेलजोल बढ़ेगा। 🦈मीन जरा सी लापरवाही हानि दे सकती है, विशेषकर गृहिणियां सावधानी रखें। किसी के उकसावे को नजरअंदाज करें। बात बढ़ सकती है। काम में मन नहीं लगेगा। नौकरी में मातहतों से कहासुनी हो सकती है। आय बनी रहेगी। जोखिम उठाने व जल्दबाजी करने से बचें। आपका दिन शुभ हो । ACHARYA ANIL PARASHAR, VADIC,KP ASTROLOGER.

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB