+33 प्रतिक्रिया 62 कॉमेंट्स • 2 शेयर

कामेंट्स

Ragni Dhiwer Nov 27, 2021
🥀जय श्री कृष्ण 🙏 शुभ रात्रि स्नेह वंदन जी 🌼आपका हर पल मंगलमय हो 🥀 राधे राधे 🥀🙏🥀

varsha lohar Nov 28, 2021
shubh sandhya vandan jai shree krishna radhey radhey.🙏

Ragni Dhiwer Nov 28, 2021
🥀 शुभ मध्यान्ह स्नेह वंदन जी 🌼आपका हर पल मंगलमय हो 🥀 राधे राधे 🥀🙏🥀

varsha lohar Nov 28, 2021
shubh sandhya vandan jai shree krishna radhey radhey.🙏

varsha lohar Nov 29, 2021
shubh dopahar vandan jai shree krishna radhey radhey.🙏

santoshi thakur Nov 29, 2021
Good afternoon bhai sab🙏 om namah shivay 🙏🏵️ Jai shree mahakal 🏵️🙏 Har har Mahadev 🙏🏵️ Jai bholenath🏵️🙏aapka har pal mangalmay ho mahadev ji ki kripa aap par bani rahe God bless you 👍👍 Radhe Radhe krishna ji 🙏🏵️

Bindu Singh Nov 30, 2021
jai shree Krishna ji radhe radhe ji good morning ji 👌🙏🏼🌷

santoshi thakur Nov 30, 2021
Jai shree ram bhai sab 🙏🏵️ good afternoon Jii 🙏 Jai Shree Hanuman Ji 🙏 aapka har pal mangalmay ho hanuman jai bless you 👍👍 Radhe Radhe krishna ji 🙏🏵️

Runa Sinha Nov 30, 2021
Jai Shri Ram 🌹🙏🌹 Good evening. Bhagwan Shri Ram aur unke param bhakta Hanuman ji ki kripa aap sapariwar par bani rahe,bhai 🙏

Ravi Kumar Taneja Dec 1, 2021
🌲!! ॐ गं गणपतये नमो नमः !!🌲 *🕉"अंधेरा"* नहीं होता उसके *"जीवन"* में... जिसका *"सवेरा"* *"प्रभु सिद्धि विनायक"* के *"नाम"* से होता है 🙏💐🙏 🌼 !! वक्रतुंड महाकाय सुर्य कोटी समप्रभ !! !! निर्विघ्नं कुरुमदेव सर्व कार्येशु सर्वदा !!🌼 *🍁किसी का मन मत दुखाओ, क्योंकि तुम्हारे माफी माँगने के बाद भी दुखः जरूर रहेगा...* *🍁जैसे दीवार में से कील निकालने के बाद भी छेद रह जाता है…* *༺꧁स्नेहिल शुभ रात्री वंदन जी* 🙏🌻🙏꧂༻ * 🥀!!ॐ श्री सिद्धिविनायकाय नमो नमः !!🥀 *꧁🌹!! ॐ गं गणपतये नमो: नमः!!🌹꧂* *⚘हर कोई सुख की चाभी ढूँढ रहा है, लेकिन असली सवाल यह है कि, सुख को ताला लगाया किसने ⚘* ()(. = .)() <>’ ) )’<> (,,,)’ ‘(,,,) रिद्धि सिद्धि के दाता श्री गणपतिजी महाराज आपकी हर मनोकामना पूरी करें,आपके जीवन में हर पल आनंद ही आनंद हो 🙏🌸🙏 🕉🦋🙏🌲🙏🌲🙏🦋🕉

varsha lohar Dec 2, 2021
shubh sandhya vandan jai shree krishna radhey radhey.🙏

varsha lohar Dec 13, 2021
shubh dopahar vandan jai shree krishna radhey radhey.🙏

Beena Sharma Jan 25, 2022

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Rakesh Singh Jan 25, 2022

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Chahat Jan 25, 2022

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Mamta Chauhan Jan 25, 2022

+36 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 11 शेयर

जय श्री राधे 🌹🙏🏻🌹 🙏🏻🙏🏻माघ माह महात्यम अध्याय 6🙏🏻🙏🏻 🦚🦚🦚🦚🦚🌹🌹🌹🌹🌹🌹🦚🦚🦚🦚🦚 पूर्व समय में सतयुग के उत्तम निषेध नामक नगर में हेमकुंडल नाम वाला कुबेर के सदृश धनी वैश्य रहता था. जो कुलीन, अच्छे काम करने वाला, देवता, अग्नि और ब्राह्मण की पूजा करने वाला, खेती का काम करता था. वह गौ, घोड़े, भैंस आदि का पालन करता था. दूध, दही, छाछ, गोबर, घास, गुड़, चीनी आदि अनेक वस्तु बेचा करता था जिससे उसने बहुत सा धन इकठ्ठा कर लिया था. जब वह बूढ़ा हो गया तो मृत्यु को निकट समझकर उसने धर्म के कार्य करने प्रारंभ कर दिए. भगवान विष्णु का मंदिर बनवाया. कुंआ, तालाब, बावड़ी, आम, पीपल आदि वृक्ष के तथा सुंदर बाग-बगीचे लगवाए. सूर्योदय से सूर्यास्त तक वह दान करता, गाँव के चारों तरफ जल की प्याऊ लगवाई. उसने सारे जन्म भर जितने भी पाप किए थे उनका प्रायश्चित करता था. इस प्रकार उसके दो पुत्र उत्पन्न हुए जिनका नाम उसने कुंडल और विकुंडल रखा. जब दोनों लड़के युवावस्था के हुए तो हेमकुंडल वैश्य गृहस्थी का सब कार्य सौंपकर तपस्या के निमित्त वन में चला गया और वहाँ विष्णु की आराधना में शरीर को सुखाकर अंत में विष्णु लोक को प्राप्त हुआ. उसके दोनों पुत्र लक्ष्मी के मद को प्राप्त होकर बुरे कर्मों में लग गए. वेश्यागामी वीणा और बाजे लेकर वेश्याओं के साथ गाते-फिरते थे. अच्छे सुंदर वस्त्र पहनकर सुगंधित तेल आदि लगाकर, भांड और खुशामदियों से घिरे हुए हाथी की सवारी और सुंदर घरों में रहते थे. इस प्रकार ऊपर बोए बीज के सदृश वह अपने धन को बुरे कामों में नष्ट करते थे. कभी किसी सत पात्र को दान आदि नहीं करते थे न ही कभी हवन, देवता या ब्रह्माजी की सेवा तथा विष्णु का पूजन ही करते थे. थोड़े दिनों में उनका सब धन नष्ट हो गया और वह दरिद्रता को प्राप्त होकर अत्यंत दुखी हो गए. भाई, जन, सेवक, उपजीवी सब इनको छोड़कर चले गए तब इन्होंने चोरी आदि करना आरंभ कर दिया और राजा के भय से नगर को छोड़कर डाकुओं के साथ वन में रहने लगे और वहाँ अपने तीक्ष्ण बाणों से वन के पक्षी, हिरण आदि पशु तथा हिंसक जीवों को मारकर खाने लगे. एक समय इनमें से एक पर्वत पर गाय जिसको सिंह मारकर खा गया और दूसरा वन को गया जो काले सर्प के डसने से मर गया तब यमराज के दूत उन दोनों को बाँधकर यम के पास लाए और कहने लगे कि महाराज इन दोनों पापियों के लिए क्या आज्ञा है?

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Kailash Pandey Jan 25, 2022

+27 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 28 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB