Seemma Valluvar
Seemma Valluvar Sep 19, 2021

हिंदुओं के श्राद्ध (पितृपक्ष) मनाने के पीछे बहुत महत्वपूर्ण वैज्ञानिक कारण हैं... क्यों हमारे पूर्वज पितृपक्ष मे कौवों के लिए खीर बनाने को कहते थे ? क्यों पीपल ओर बरगद को सनातन धर्म मे पूर्वजों की संज्ञा दी गई है..? इन सब प्रश्नों का उत्तर बड़ा रोचक और वैज्ञानिक है, हम स्पष्ट कर दें कि श्राद्ध के नाम पर चल रही ढकोसलेबाजी(अनर्गल चढ़ावे, धर्म के नाम का सहारा लेकर अनायास लूट, कई अन्य अंधविश्वास) का हम बिल्कुल समर्थन नहीं करते, ना ही ऐसा कोई तर्क देते हैं कि आप यहां कौवों को तर्पण देंगे और वो वहां आपके पूर्वजों को प्राप्त होगा.. क्योंकि ये सब धर्म, शास्त्र, श्रीमद्भगवद्गीता और विज्ञान के विरुद्ध बातें मानी गई हैं, जो सेवा आप अपने माता-पिता, सास-ससुर, दादा-दादी की जीते जी कर सकते हैं वह कभी भी मृत्यु उपरांत नहीं कर पाएंगे अब बात करते हैं अपनी सर्वश्रेष्ठ सनातन परंपरा की वैज्ञानिकता की... आपने किस दिन पीपल और बरगद के पौधे लगाए हैं..? या कभी किसी को उनका बीज बोते हुए देखा है..? क्या पीपल या बरगद के बीज मिलते हैं..? इसका स्पष्ट जवाब है...... "नहीं" बरगद या पीपल की कलम जितनी चाहे उतनी रोपने की कोशिश करो परंतु नहीं लगेगी। कारण प्रकृति/कुदरत ने इन दोनों उपयोगी वृक्षों को लगाने के लिए अलग ही व्यवस्था कर रखी है। इन दोनों वृक्षों के फल कौवे खाते हैं और उनके पेट में ही बीज की प्रोसेसिंग होती है और तब जाकर बीज उगने लायक हो पाते हैं... उसके पश्चात कौवे जहां-जहां बींट करते हैं, वहां वहां पर ये दोनों वृक्ष उगते हैं। पीपल जगत का एकमात्र ऐसा वृक्ष है जो round-the-clock ऑक्सीजन छोड़ता है और बरगद के औषधीय गुण अपरम्पार है। देखो अगर इन दोनों वृक्षों को उगाना है तो बिना कौवे की मदद के संभव नहीं है... इसलिए कौवों को बचाना पड़ेगा... और ये होगा कैसे ? मादा कौआ भादो(भाद्रपद) महीने में अंडे देती है और नवजात बच्चा पैदा होता है, तो इस नयी पीढ़ी के बहुपयोगी पक्षी को पौष्टिक और भरपूर आहार मिलना जरूरी है इसलिए हमारे वैज्ञानिक ऋषि-मुनियों ने कौवों के नवजात बच्चों के लिए हर छत पर श्राद्ध के रूप मे पौष्टिक आहार की व्यवस्था कर दी जिससे कि कौवों के नवजात बच्चों का पालन पोषण हो जाये.... इसीलिए हमारा यह पर्व भी संपूर्ण वैज्ञानिक, प्रकृति अनुकूल, और हमारे महान पूर्वजों के पुण्य कर्मों को स्मरण करने के निमित्त एक बहुमूल्य आयोजन है सत्य सनातन 🚩 हर हर महादेव 🚩 जय श्री राम

हिंदुओं के श्राद्ध (पितृपक्ष) मनाने के पीछे बहुत महत्वपूर्ण वैज्ञानिक कारण हैं...
क्यों हमारे पूर्वज पितृपक्ष मे कौवों के लिए खीर बनाने को कहते थे ?
क्यों पीपल ओर बरगद को सनातन धर्म मे पूर्वजों की संज्ञा दी गई है..?

इन सब प्रश्नों का उत्तर बड़ा रोचक और वैज्ञानिक है, हम स्पष्ट कर दें कि श्राद्ध के नाम पर चल रही ढकोसलेबाजी(अनर्गल चढ़ावे, धर्म के नाम का सहारा लेकर अनायास लूट, कई अन्य अंधविश्वास) का हम बिल्कुल समर्थन नहीं करते, ना ही ऐसा कोई तर्क देते हैं कि आप यहां कौवों को तर्पण देंगे और वो वहां आपके पूर्वजों को प्राप्त होगा.. क्योंकि ये सब धर्म, शास्त्र, श्रीमद्भगवद्गीता और विज्ञान के विरुद्ध बातें मानी गई हैं, जो सेवा आप अपने माता-पिता, सास-ससुर, दादा-दादी की जीते जी कर सकते हैं वह कभी भी मृत्यु उपरांत नहीं कर पाएंगे

अब बात करते हैं अपनी सर्वश्रेष्ठ सनातन परंपरा की वैज्ञानिकता की...
आपने किस दिन पीपल और बरगद के पौधे लगाए हैं..?
या कभी किसी को उनका बीज बोते हुए देखा है..?
क्या पीपल या बरगद के बीज मिलते हैं..?
इसका स्पष्ट जवाब है...... "नहीं"
बरगद या पीपल की कलम जितनी चाहे उतनी रोपने की कोशिश करो परंतु नहीं लगेगी।
कारण प्रकृति/कुदरत ने इन दोनों उपयोगी वृक्षों को लगाने के लिए अलग ही व्यवस्था कर रखी है।
इन दोनों वृक्षों के फल कौवे खाते हैं और उनके पेट में ही बीज की प्रोसेसिंग होती है और तब जाकर बीज उगने लायक हो पाते हैं...
 उसके पश्चात कौवे जहां-जहां बींट करते हैं, वहां वहां पर ये दोनों वृक्ष उगते हैं।
पीपल जगत का एकमात्र ऐसा वृक्ष है जो round-the-clock ऑक्सीजन छोड़ता है और बरगद के औषधीय गुण अपरम्पार है।
देखो अगर इन दोनों वृक्षों को उगाना है तो बिना कौवे की मदद के संभव नहीं है... इसलिए कौवों को बचाना पड़ेगा...
और ये होगा कैसे ?
मादा कौआ भादो(भाद्रपद) महीने में अंडे देती है और नवजात बच्चा पैदा होता है,
तो इस नयी पीढ़ी के बहुपयोगी पक्षी को पौष्टिक और भरपूर आहार मिलना जरूरी है इसलिए हमारे वैज्ञानिक ऋषि-मुनियों ने
कौवों के नवजात बच्चों के लिए हर छत पर श्राद्ध के रूप मे पौष्टिक आहार की व्यवस्था कर दी जिससे कि कौवों के नवजात बच्चों का पालन पोषण हो जाये....

इसीलिए हमारा यह पर्व भी संपूर्ण वैज्ञानिक, प्रकृति अनुकूल, और हमारे महान पूर्वजों के पुण्य कर्मों को स्मरण करने के निमित्त एक बहुमूल्य आयोजन है

सत्य सनातन 🚩 हर हर महादेव 🚩 जय श्री राम

+372 प्रतिक्रिया 100 कॉमेंट्स • 1104 शेयर

कामेंट्स

manish...Soni... Sep 20, 2021
देवा दी देव महादेव की कृपा आप सब पर सदैव बनी रहे... ... जय भोलेनाथ.... 🙏🌹🙏

Poonam Aggarwal Sep 20, 2021
🕉️ पितृ श्राद्ध पक्ष 🕉️🙏 🕉️🔱🕉️🔱🕉️🔱🕉️ 🕉️ हर हर महादेव जय भोलेनाथ 🕉️🙏*जहां शिव वहां शक्ति, जहां प्रेम वहां भक्ति*🕉️🙏 शिवशक्ति का आशीर्वाद आप और आपकी फैमिली पर हमेशा बना रहे 🔱🚩 आप सभी खुश और स्वस्थ रहे 👣🐾 आपका हर पल खुशियों से भरा रहे शुभ मंगलमय शुभकामनाओं सहित राम राम जी 🌹 जय भोलेनाथ हरि ॐ 🙏🕉️🔱🕉️

parteek kaushik Sep 20, 2021
🌺🙏🌺🙏पितृ श्राद्ध पक्ष🙏🌺🙏🌺 ॐ नमः शिवाय 🌺🙏🌺 शुभ संध्या नमन 🌺🙏ईश्वर की असीम कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे जी। आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो बहना जी🙏🌺 🌺🙏जय-जय श्री राधेकृष्णा🙏🌺

Anup Kumar Sep 20, 2021
ऊँ नमः शिवाय 🙏🏻🙏🏻 शुभ रात्रि वंंदन ,बहना।आप हमेशा माता पार्वती एवं भगवान भोलेनाथ का कृपापात्र बने रहें।आप सदैव स्वस्थ एवं प्रसन्न रहें 🙏🏻🌹

Kamala Sevakoti Sep 20, 2021
जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ ज💖💖🌹💖🌹💖🌹🌹य भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय शिव भोलेनाथ जय🌹⚘💖🍁⚘🍁⚘⚘⚘⚘⚘ भोलेनाथ जय भोलेनाथ🙏🌷🙏🌷🙏🌺🌻🌻🙏

......j Sep 20, 2021
jai shree radhe Krishna ji beautiful good night ji my sweet sister

P.N. Sep 20, 2021
🙏good night ji 🙏 🌹om namah shivya 🌹 🌹aap ke pariwar par bhole nath ki krapa bani rahe 🌹

Saumya sharma Sep 20, 2021
ओम् नमः शिवाय 🙏शुभ रात्रि विश्राम प्यारी बहना जी 🙏जिस तरह हर रात के बाद सुबह जरूर आती है, उसी तरह हर परेशानी, हर तकलीफ के बाद सुख जरूर आता है, बस पूरी श्रृद्धा से ईश्वर पर भरोसा करें,वह अवश्य ही सुख रूपी सुबह का आगाज़ करते हैं ☺ईश्वर की कृपा से आपके जीवन में सपरिवार सुख रूपी सुबह बनी रहे ☺🌹🙏

🙋ANJALI😊MISHRA 🙏 Sep 20, 2021
*☘️श्री शिवाय नमस्तुभ्यं*☘️ॐ नमः शिवाय*🔱राम राम मेरी प्यारी बहना जी शुभ रात्रि वंदन🌹🙏भगवान् शंकर जी एवं माता पार्वती आपका सदा कल्याण करें🙏आप एवम् आप के परिवार को तन ,मन ,धन, से सदैव सुखी एवं स्वास्थ्य रखें.. काशी विश्वनाथ भगवान की कृपा सदा बनी रहे आप पर 🙌जय श्री राधे कृष्ण जी 🙏हर हर महादेव☆🌿 उमापति महादेव की जय 🙏🚩🌿🙏

dhruvwadhwani Sep 20, 2021
ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ नम

dhruvwadhwani Sep 20, 2021
हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव हर-हर महादेव

dhruvwadhwani Sep 20, 2021
जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल जय महाकाल

dhruvwadhwani Sep 20, 2021
जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ जय भोलेनाथ

🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼 Sep 22, 2021
🌷🌼🌷राम राम बहन 🌼जय श्री गणेश जी की 🌹जय श्री माता की बहन🏵️सादर प्रणाम करता हूँ बहन, आपका दिन मंगलमय हो,शुभप्रभात वन्दन बहना जी🌹🙏🏼🌹

+26 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 37 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ramesh agrawal Oct 25, 2021

+13 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 39 शेयर
Rama Devi Sahu Oct 25, 2021

+18 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 21 शेयर
Bindu Singh Oct 25, 2021

+121 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 57 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB