Shanti pathak
Shanti pathak Oct 10, 2021

🌷🙏🌷जय माता दी ,जय मां स्कंदमाता 🌷🙏🌷 🌷🙏🌷शुभ रविवार ,सुप्रभातम 🌷🙏🌷 🌷🙏🌷आप एवं आपके परिवार को शारदीय नवरात्रि के पांचवे दिन की हार्दिक शुभकामनाएं 🌷🙏🌷 🌷🙏🌷मां स्कंदमाता की कृपा आप एवं आपके परिवार पर सदैव बनी रहे🌷🙏🌷

+136 प्रतिक्रिया 59 कॉमेंट्स • 131 शेयर

कामेंट्स

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 Oct 10, 2021
Good Night My Sweet Sister ji 🙏🙏 Jay Mata di 🙏🙏🌹🌹💐🌹God Bless you and your Family Always Be Happy My Sister ji 🙏 Aapka Har Din Shub Mangalmay Ho ji 🙏🙏🌹💐 Aap Hamesha Khush Rahe ji 🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌷🌷💐💐💐🥀🥀💐💐💐.

🔴 Suresh Kumar 🔴 Oct 10, 2021
जय माता दी 🙏 शुभ रात्रि वंदन मेरी बहन। 🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀

Anup Kumar Oct 10, 2021
जय माता दी 🙏🏻🙏🏻 शुभ रात्रि वंंदन, बहना 🙏🏻🌹

Saumya sharma Oct 10, 2021
जय माता दी प्यारी बहना जी🙏शुभ रात्रि विश्राम🌹अति सुंदर प्रस्तुति के लिए धन्यवाद 🙏☺इस मृत्युलोक में सभी जीवों को बुद्धि, परम शांति और सुख देने वाली माँ स्कंदमाता की कृपा आप पर बनी रहे 🙏🌹आप सपरिवार खुश रहें, हँसते मुस्कुराते रहें 😊🌹

🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼 Oct 11, 2021
🌷🌹जय श्रीमाता स्कंदमाता की🌷राम राम बहन जय श्री माता की बहन🌸🌼🌸 चरण छूकर सादर प्रणाम करता हूँ मेरी प्यारी बहना,🌹🌼🌹 श्रीमात की कृपा आप पर सदैव बनी रहे बहन,🌹 हमेशा हँसती मुस्कराती रहो,हम प्रार्थना करते हैं हे जगतजननी माँ मेरी बहन को सदैव निरोग रखना दीर्घायु करना🙏🏼🙏🏼🙏🏼🌿खुशियों रूपी फूल सदा आपको महकाते रहें बहारें कभी आपका दामन ना छोड़ें🌿🌾🌹आपके माँथे की बिंदिया सदा चमकती रहे, हाँथों में चूड़ियां सजती रहें🌹शुभदिन शुभ नवरात्रि वन्दन बहन🌹🌹🙏🏼

R.K.SONI (Ganesh Mandir Oct 11, 2021
jai mata di🙏her her mahadav ji🙏aapko hmesha khush rkhe jiv.beautiful post👌👌👌💐💐💐💐🙏🙏

🔹🌼🇮🇳हरि प्रिय पाठक🇮🇳🌼🔹 Oct 11, 2021
🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸 ⛳❇️।।जय माँ स्कन्दमाता❇️⛳ 🥀🕉️।।जय माँ कात्यायनी।।🕉️🥀 🌹👣🌹👣🌹👣🌹👣🌹 सर्व मंगलं मांगल्ये शिवे सर्वाथ साधिके। शरण्येत्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुऽते॥ 💠〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️💠 🎋🌄सुप्रभात बहनजी🌄🎋 🌀सुबह सबेरे का स्प्रेम नमस्कार🌀 💜💙🌼‼️🙏‼️🌼💙💜

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 Oct 11, 2021
Good Morning My Sweet Sister ji 🙏🙏 Jay Mata di 🙏🙏🌹🌹💐🌹🌹Mata Rani 🙏🙏🌹🌹🌹 Ki Kripa Dristi Aap Our Aapke Priwar Per Hamesha Sada Bhni Rahe ji 🙏 Aapka Har Din Shub Mangalmay Ho ji 🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌷🌷🥀🥀💐💐💐🌹🌹.

Anup Kumar Oct 11, 2021
ऊँ नमः शिवाय🙏🏻🙏🏻 जय माता दी 🙏🏻🙏🏻 शुभ प्रभात वंंदन । माता कात्यायनी का आशीर्वाद आप सपरिवार को प्राप्त हो । आप सदा सुखी एवं प्रसन्न रहें🙏🏻🌷

@mahaveer1698 Oct 11, 2021
*🌻 आज का विचार* ✍️ *जीवन हमेशा बीतता वक़्त है।लेकिन ख़र्च हम हो जाते हैं।कैसे नादान है हम दुःख आता है। तो अटक जाते है।औऱ सुख आता है तो हमेशा भटक जाते हैं* 🌹🙏जय श्री राधे कृष्णा जी 🙏🌹 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Suman Lata Oct 11, 2021
🙏🙏Jai Mata di 🌷 🙏 shubh parbhaat vandan meri piyari behena ji aap ka harpal mangalmai v khushiyon bhara ho Mata rani ki kirpa aap v aapki family par sda bani rahe aapki sab mnokamna purn kare piyari behena ji 🌷 🙏

🏝️kavita sharma🏝️ Oct 11, 2021
🌺👣🌺👣🌺👣🌺 या देवी सर्वभूतेषु माँ कात्यायिनी रूपेण संस्थिता!! नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:!! जय कात्यायिनी माँ🌺🌺 जय माता दी 🌺👣👣🌺

Runa Sinha Oct 11, 2021
Om Namah Shivay 🌹🙏🌹 Good afternoon. Bhagwan Bholenath ki kripa aap sapariwar par bani rahe,bahan 🙏

Ansouya M 🍁 Oct 11, 2021
सर्व मंगल मागल्ये शिवे सर्वाथ साघिके शरणये त्रयमबके गौरी नारायणी नमोस्तुते सप्रेम शुभ संद्या प्यारी बहना जी 🌷 कात्यायनी माता की जय हो 🙏🏻 🙏 आप का दिन शुभ और मंगलमय हो 🙏 माता रानी की कृपा आप और आपके परिवार पर हमेशा बना रहे बहना जी 🙏🏻 हर हर महादेव 🙏🌹 भोले बाबा और माता पार्वती सदा कृपा बनाए रखें प्यारी बहना जी 🌷🙏🌷🙏 जय भोले नाथ की 🙏🌹

Anup Kumar Oct 11, 2021
जय श्री राधे कृष्ण 🙏🏻🙏🏻 शुभ रात्रि वंंदन, बहना 🙏🏻🌷

🔹🌼🇮🇳हरि प्रिय पाठक🇮🇳🌼🔹 Oct 11, 2021
🥀💙🥀💚🥀💜🥀💛🥀💙 ⛳🏵️⛳।।जय माता जी⛳🏵️⛳ 🔸🌀शुभ रात्रि बहन जी🌀🔸 🌹नवरात्र में कन्या पूजन क्यों, आप भी करें इस विधि से बेटियों का सत्कार!!!!! ❇️🌺❇️🌺❇️🌺❇️🌺❇️🌺 नवरात्र के दौरान कन्या पूजन का विशेष महत्व है। नौ कन्याओं को नौ देवियों के रूप में पूजन के बाद ही भक्त व्रत पूरा करते हैं। भक्त अपने सामर्थ्य के मुताबिक भोग लगाकर दक्षिणा देते हैं। इससे माता प्रसन्न होती हैं। नवरात्र की सप्‍तमी से कन्‍या पूजन शुरू हो जाता है। सप्तमी, अष्टमी और नवमी के दिन इन कन्याओं को नौ देवी का रूप मानकर पूजा जाता है। कन्याओं के पैरों को धोया जाता है और उन्हें आदर-सत्कार के साथ भोजन कराया जाता है। ऐसा करने वाले भक्तों को माता सुख-समृद्धि का वरदान देती है। नवरात्र के दौरान कन्या पूजन का विशेष महत्व है। नौ कन्याओं को नौ देवियों के रूप में पूजन के बाद ही भक्त व्रत पूरा करते हैं। भक्त अपने सामर्थ्य के मुताबिक भोग लगाकर दक्षिणा देते हैं। इससे माता प्रसन्न होती हैं। इस दिन जरूर करें कन्या पूजन सप्‍तमी से ही कन्‍या पूजन का महत्व है। लेकिन, जो भकग्त पूरे नौ दिन का व्रत करते हैं वे तिथियों के मुताबिक नवमी और दशमी को कन्‍या पूजन करने के बाद ही प्रसाद ग्रहण कर व्रत खत्म करते हैं। शास्‍त्रों में भी बताया गया है कि कन्‍या पूजन के लिए दुर्गाष्टमी के दिन को सबसे अहम और शुभ माना गया है। ऐसे करें कन्या पूजन??????🌹 1. कन्या पूजन के लिए कन्‍याओं को एक दिन पहले सम्मान के साथ आमंत्रित करें। 2. खासकर कन्या पूजन के दिवस ही कन्याओं को यहां-वहां से एकत्र करके लाना उचित नहीं होता है। 3. गृह प्रवेश पर कन्याओं का पूरे परिवार के साथ पुष्प वर्षा से स्वागत करना चाहिए। नव दुर्गा के सभी नौ नामों के जयकारे लगाना चाहिए। 4. कन्याओं को आरामदायक और स्वच्छ स्थान पर बैठाकर सभी के पैरों को स्वच्छ पानी या दूध से भरे थाल में पैर रखवाकर अपने हाथों से उनके पैर धोना चाहिए। पैर छूकर आशीष लेना चाहिए और कन्याओं के पैर धुलाने वाले जल या दूध को अपने मस्तिष्क पर लगाना चाहिए। 5. कन्याओं को स्वच्छ और कोमल आसन पर बैठाकर पैर छूकर आशीर्वाद लेना चाहिए। 6. उसके बाद कन्याओं को माथे पर अक्षत, फूल और कुमकुम लगाना चाहिए। 7. इसके बाद मां भगवती का ध्यान करने के बाद इन देवी स्वरूप कन्याओं को इच्छा अनुसार भोजन कराएं। 8. कन्याओं को अपने हाथों से थाल सजाकर भोजन कराएं और अपने सामर्थ्य के अनुसार दक्षिणा, उपहार दें और दोबारा से पैर छूकर आशीष लें। दो से 10 साल तक होना चाहिए कन्या!!!!!!!!🌹 1.अपने घर में बुलाई जाने वाली कन्याओं की आयु दो वर्ष से 10 वर्ष के भीतर होना चाहिए। 2. कम से कम 9 कन्याओं को पूजन के लिए बुलाना चाहिए, जिसमें से एक बालक भी होना अनिवार्य है। जिसे हनुमानजी का रूप माना गया है। जिस प्रकार मां की पूजा भैरव के बिना पूरी नहीं पूर्ण नहीं होती , उसी प्रकार कन्या पूजन भी एक बालक के बगैर पूरा नहीं माना जाता। यदि 9 से ज्यादा कन्या भोज पर आ रही है तो कोई आपत्ति नहीं, उनका स्वागत करना चाहिए। हर उम्र की कन्या का है अलग रूप!!!!!!🌹 1. नवरात्र के दौरान सभी दिन एक कन्या का पूजन होता है, जबकि अष्टमी और नवमी पर नौ कन्याओं का पूजन किया जाता है। 2. दो वर्ष की कन्या का पूजन करने से घर में दुख और दरिद्रता दूर हो जाती है। 3.तीन वर्ष की कन्या त्रिमूर्ति का रूप मानी गई हैं। त्रिमूर्ति के पूजन से घर में धन-धान्‍य की भरमार रहती है, वहीं परिवार में सुख और समृद्धि जरूर रहती है। 4.चार साल की कन्या को कल्याणी माना गया है। इनकी पूजा से परिवार का कल्याण होता है, वहीं पांच वर्ष की कन्या रोहिणी होती हैं। रोहिणी का पूजन करने से व्यक्ति रोगमुक्त रहता है। 5. छह साल की कन्या को कालिका रूप माना गया है। कालिका रूप से विजय, विद्या और राजयोग मिलता है। 7 साल की कन्या चंडिका होती है। चंडिका रूप को पूजने से घर में ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। 6. 8 वर्ष की कन्याएं शाम्‍भवी कहलाती हैं। इनको पूजने से सारे विवाद में विजयी मिलती है। 9साल की की कन्याएं दुर्गा का रूप होती हैं। इनका पूजन करने से शत्रुओं का नाश हो जाता है और असाध्य कार्य भी पूरे हो जाते हैं। 7. दस साल की कन्या सुभद्रा कहलाती हैं। सुभद्रा अपने भक्तों के सारे मनोरथ पूरा करती हैं। कन्या का सम्मान सिर्फ 9 दिन नहीं जीवनभर करें!!!!!!!!🌹 नवरात्र के दौरान भारत में कन्याओं को देवी का रूप मानकर पूजा जाता है। लेकिन, कुछ लोग नवरात्र के बाद यह सबकुछ भूल जाते हैं। बहूत-सी जगह कन्याएं शोषण का शिकार होती हैं और उनका अपमान हो रहा है। ऐसे में भारत में बहूत सारे गांवों में कन्या के जन्म पर लोग दुखी हो जाते हैं। जरा सोचिए...। क्या आप ऐसा करके देवी मां के इन रूपों का अपमान नहीं कर रहे। कन्या और महिलाओं के प्रति हमें सोच बदलनी होगी। देवी तुल्य इन कन्‍याओं और महिलाओं का सम्मान करें। इनका आदर कर आप ईश्वर की पूजा के बराबर पुण्‍य प्राप्त करते हैं। शास्‍त्रों में भी बताया गया है कि जिस घर में औरत का सम्‍मान होता है, वहां खुद ईश्वर वास करते हैं। कन्या पूजन की यह है प्राचीन परंपरा!!!!!!!🌹 ऐसी मान्यता है कि एक बार माता वैष्णो देवी ने अपने परम भक्त पंडित श्रीधर की भक्ति से प्रसन्न होकर उसकी न सिर्फ लाज बचाई और पूरी सृष्टि को अपने अस्तित्व का प्रमाण भी दे दिया। आज जम्मू-कश्मीर के कटरा कस्बे से 2 किमी की दूरी पर स्थित हंसाली गांव में माता के भक्त श्रीधर रहते थे। वे नि:संतान थे एवं दुखी थे। एक दिन उन्होंने नवरात्र पूजन के लिए कुँवारी कन्याओं को अपने घर बुलवाया। माता वैष्णो कन्या के रूप में उन्हीं के बीच आकर बैठ गई। पूजन के बाद सभी कन्याएं लौट गईं, लेकिन माता नहीं गईं। बालरूप में आई देवी पं. श्रीधर से बोलीं- सबको भंडारे का निमंत्रण दे आओ। श्रीधर ने उस दिव्य कन्या की बात मान ली और आस–पास के गांवों में भंडारे का संदेशा भिजवा दिया। भंडारे में तमाम लोग आए। कई कन्याएं भी आई। इसी के बाद श्रीधर के घर संतान की उत्पत्ति हुई। तब से आज तक कन्या पूजन और कन्या भोजन करा कर लोग माता से आशीर्वाद मांगते हैं---! 🌹💥।।जय गरूदेव जी।।💥🌹 🎋🦃सादर प्रणाम जी🦃🎋 🌼‼️🙏‼️🌼 💠〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️💠

laltesh kumar sharma Oct 11, 2021
🌹🌿🌹 jai mata di 🌹 🌿🌹 Subh ratri vandan ji 🌹🌿🌹🙏🙏

Ansouya M 🍁 Oct 11, 2021
सर्व मंगल मागल्ये शिवे सर्वाथ साघिके शरणये त्रयमबके गौरी नारायणी नमोस्तुते जय माता दी 🙏🌹 जय माता दी 🙏🌹 सप्रेम शुभ रात्री प्यारी बहना जी 🌷🙏🌷🙏 जय भोले नाथ की 🙏🌹 भोले बाबा और माता पार्वती की कृपा आप और आपके परिवार पर हमेशा बना रहे बहना जी 🌷🙏🌷🙏 भोले बाबा सुख समृद्धि से निहाल रक्खे बहना जी 🌷🙏🌷🙏 जय भोले नाथ की 🙏🌹

Sudhir Sharma Oct 25, 2021

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 30 शेयर

+130 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 262 शेयर
Jai Mata Di Oct 25, 2021

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Jai Mata Di Oct 24, 2021

+20 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 28 शेयर

+66 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 32 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB