Viney Sharma
Viney Sharma Nov 25, 2021

🙏प्रातः नमन 🙏 🚩☀️🚩🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️माता लक्ष्मी जी की कृपा आप व आपके परिवार पे हमेशा बनी रहे 🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️ 💐जय माता दी 💐

🙏प्रातः नमन 🙏
🚩☀️🚩🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️माता लक्ष्मी जी की कृपा आप व आपके परिवार पे हमेशा बनी रहे 🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️🚩☀️
💐जय माता दी 💐

+35 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 66 शेयर

कामेंट्स

Kailash Prasad Nov 25, 2021
🌷कृष्णम् सदा सहायते🌷 *जब पीछे मुड़ने में आपको रस न हो* *तो समझ जाओ आप सही रास्ते पर हो।* 🌷सोनेरी सुबह की सुंदर शुरूआत सुमधुर श्रीकृष्ण नाम के साथ🌷 🙏जयश्रीकृष्ण🙏 🌷आपका दिन शुभ रहे🌷

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Dheeraj Shukla Jan 20, 2022

+34 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 22 शेयर
Dheeraj Shukla Jan 19, 2022

+49 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Dheeraj Shukla Jan 18, 2022

+53 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Jasbir Singh nain Jan 21, 2022

संकष्टी चतुर्थी स्पेशल 21 जनवरी , 2022 (शुक्रवार) शुभ प्रभात जी 🌅🪔🙏🙏🙏🙏🙏🙏 संकष्टी चतुर्थी भगवान गणेश को समर्पित होती है। जिसका मतलब होता है ‘कठिन समय से मुक्ति पाना’। महीने में दो चतुर्थी आती है, लेकिन पूर्णिमा के बाद आने वाली चतुर्थी को अर्थात कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है। इसके अलावा इसे द्विजप्रिय संकष्टी के नाम से भी जाना जाता है। भारत के उत्तरी एवं दक्षिणी राज्यों में संकष्टी चतुर्थी का व्रत बड़े ही धूम धाम से किया जाता है। गणेश जी को प्रथम पूज्य माना गया है और हर शुभ कार्य से पहले उन्हें ही पूजा जाता है। इसीलिए इस दिन व्रत रखने वालों के गणेशजी हर दुख दर्द हर लेते हैं। इस दिन महिलाएं पूरे विधि-विधान से भगवान गणेशजी की पूजा-अर्चना की जाती है। मान्यता है कि इस दिन महिलाएं अपने बच्चों की लंबी आयु और खुशहाली के लिए भगवान गणेश का पूजन करती हैं और उपवास रखती हैं। आइए अब जानते है संकष्टी चतुर्थी के व्रत की पूजा विधि के बारे में। इस दिन सुबह स्नान करके साफ हल्के लाल या पीले रंग के कपड़े पहनें। उसके बाद भगवान गणपति के चित्र को लाल रंग का कपड़ा बिछाकर रखें। भगवान गणेश की पूजा करते समय पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुंह करें। अब भगवान गणपति के सामने दीया जलाएं और लाल गुलाब के फूलों से भगवान गणपति को सजाएं। पूजा में रोली, मोली, चावल, दुर्वा, चंदन, फूल और तांबे के लौटे में जल अर्पित करें। प्रसाद के रूप में तिल के लड्डू, गुड़, केला और मोदक चढ़ाए जा सकते हैं। भगवान गणपति के सामने धूप दीप जलाकर उनकी विधिवत पूजा करें और दिन भार व्रत का पालन करें। फिर शाम के समय भगवान गणेश की प्रतिमा को ताजे फूलों से सजाए और व्रत कथा पढ़ें। इसके बाद संकष्टी चतुर्थी व्रत पारण करें। इस विधि से पूजा करने से भगवान गणेशजी आपके सारे दु:ख दर्द हर देंगे। तो आइए अब जानते है कि संकष्टी चतुर्थी के क्या करें और क्या ना करें। इस दिन भगवान गणेश जी की पूजा करते समय गणेश जी की आरती, मंत्र और गणेश चालीसा का पाठ करें और भगवान श्री गणेश की पूजा के दौरान संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत की कथा अवश्य पढ़ें अथवा सुनें। इसी के साथ गणेश जी को शमी का पत्ता या बेलपत्र अर्पित करें। जिन व्यक्तियों का इस दिन व्रत होता है वे केवल फल, साबूदाना, मूंगफली और आलू ग्रहण करें। इसी के साथ अब जानेंगे कि व्रत के दौरान हमें किन-किन बातों का विशेष तौर से ध्यान रखना चाहिए। भगवान गणेशजी को तुलसी कभी नहीं चढ़ाई जाती है। इसलिए इस दिन भी आप गणेशजी को तुलसी ना चढ़ाएं। संकष्टी चतुर्थी के दिन किसी की बुराई ना करें, किसी स्त्री का अपमान ना करें। संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा एक बार की बात है माता पार्वती और भगवान शिव नदी के पास बैठे हुए थे, तभी अचानक माता पार्वती ने चौपड़ खेलने की अपनी इच्छा ज़ाहिर की। लेकिन समस्या की बात यह थी कि वहां उन दोनों के अलावा तीसरा कोई नहीं था जो खेल में निर्णायक की भूमिका निभाए। इस समस्या का समाधान निकालते हुए शिव और पार्वती ने मिलकर एक मिट्टी की मूर्ति बनाई और उसमें जान डाल दी। मिट्टी से बने बालक को दोनों ने यह आदेश दिया कि तुम खेल को अच्छी तरह से देखना और यह फैसला लेना कि कौन जीता और कौन हारा। खेल शुरू हुआ जिसमें माता पार्वती बार-बार भगवान शिव को मात देकर विजयी हो रही थीं। खेल चलते रहा लेकिन एक बार गलती से बालक ने माता पार्वती को हारा हुआ घोषित कर दिया। बालक की इस गलती ने माता पार्वती को बहुत क्रोधित कर दिया जिसकी वजह से गुस्से में आकर बालक को श्राप दे दिया और वह लंगड़ा हो गया। बालक ने अपनी भूल के लिए माता से बहुत क्षमा मांगी और उसे माफ़ कर देने को कहा। बालक के बार-बार निवेदन को देखते हुए माता ने कहा कि अब श्राप वापस तो नहीं हो सकता लेकिन वह एक उपाय बता सकती हैं जिससे वह श्राप से मुक्ति पा सकेगा। तभी माता ने कहा कि संकष्टी वाले दिन पूजा करना, जहां पर कुछ कन्याएं आती हो और तुम उनसे व्रत की विधि पूछना और उस व्रत को सच्चे मन से करना। बालक ने व्रत की विधि को जानकर पूरी श्रद्धापूर्वक और विधि अनुसार उसे किया। उसकी सच्ची आराधना से भगवान गणेश प्रसन्न हुए और उसकी इच्छा पूछी। तभी बालक ने माता पार्वती और भगवान शिव के पास जाने की अपनी इच्छा को ज़ाहिर किया। गणेश ने उस बालक की मांग को पूरा कर दिया और उसे शिवलोक पंहुचा दिया, लेकिन जब वह पहुंचा तो वहां उसे केवल भगवान शिव ही मिले। माता पार्वती भगवान शिव से नाराज़ होकर कैलाश छोड़कर चली गई होती हैं। जब शिवजी ने उस बच्चे को पूछा की तुम यहां कैसे आए तो उसने बताया कि गणेश की पूजा से उसे यह वरदान प्राप्त हुआ है। यह जानने के बाद भगवान शिव ने भी पार्वती को मनाने के लिए उस व्रत को किया जिसके बाद माता पार्वती भगवान शिव से प्रसन्न होकर वापस कैलाश लौट आती हैं। नमस्कार।

+225 प्रतिक्रिया 76 कॉमेंट्स • 1165 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Vijay Sharma Jan 20, 2022

+23 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 28 शेयर
PRABHAT KUMAR Jan 20, 2022

🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 🌻🌻🌻🌻🌻🌻 *#जय_श्री_कृष्णा* 🌻🌻🌻🌻🌻🌻 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘 *🌜 मधुर सपनों के साथ शुभ रात्रि प्रिय आदरणीय साथियों 🌛* 🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠🌘🌠 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *बड़े-बुजुर्गों को कहते सुना होगा कि गीता में जीवन का सार है। श्री कृष्ण ने महाभारत युद्ध में अर्जुन को कुछ उपदेश दिए थे, जिससे उस युद्ध को जीतना पार्थ के लिए आसान हो गया। यहां दिए गए गीता के कुछ उपदेशों को अपने ज़िन्दगी में शामिल करके आप भी अपने लक्ष्य को पाने में सक्षम होंगे* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#गुस्से_पर_काबू* *'क्रोध से भ्रम पैदा होता है. भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है. जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है. जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#देखने_का_नजरिया* *'जो ज्ञानी व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है, उसी का नजरिया सही है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#मन_पर_नियंत्रण* *'जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#खुद_का_आकलन* *'आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो. अनुशासित रहो, उठो.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#खुद_का_निर्माण* *'मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है. जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#हर_काम_का_फल_मिलता_है* *'इस जीवन में ना कुछ खोता है ना व्यर्थ होता है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#प्रैक्टिस_जरूरी* *'मन अशांत है और उसे नियंत्रित करना कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#विश्वास_के_साथ_विचार* *'व्यक्ति जो चाहे बन सकता है, यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर लगातार चिंतन करे.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#दूर_करें_तनाव* *'अप्राकृतिक कर्म बहुत तनाव पैदा करता है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#अपना_काम_पहले_करें* *'किसी और का काम पूर्णता से करने से कहीं अच्छा है कि अपना काम करें, भले ही उसे अपूर्णता से करना पड़े.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#इस_तरह_करें_काम* *'जो कार्य में निष्क्रियता और निष्क्रियता में कार्य देखता है वह एक बुद्धिमान व्यक्ति है.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#काम_में_ढूंढें_खुशी* *'जब वे अपने कार्य में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते हैं.'* 💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘 *#नोट : उक्त जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है।* 📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰 *( इस आलेख में दी गई जानकारियाँ धार्मिक आस्था और लौकिक मान्यताओं पर आधारित है जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )* 🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁🍁

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB