🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩💥💥💥💥💥💥🔔🔔🔔🔔💥💥💥💥💥🌻🌻🌻🌻 Jai Ganesh ji Maharaj ki 🌻🌻🎈🎈 Sharad Purnima Aur Maharshi Valmiki ji ki jayanti ki Hardik Shubhkamnaye 🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🌺🌺🌺🌺 Jai mata Laxmi ki 🌺🌺🌺🌺 🌹🌹🌹🌹 Happy Wednesday 🌹🌹🌹🌹

+123 प्रतिक्रिया 50 कॉमेंट्स • 138 शेयर

कामेंट्स

kamala Maheshwari Oct 20, 2021
जयश्री मां लक्ष्मी जयगणेशायनम 🚩💥🚩 जयश्री बाकैविहरीकी कान्हा जी की कृपादृष्टि सदैव आपके उपर बनी रहे जय श्री कृष्णा जी 💠🙏💠🙏💠🙏💠🙏💠🙏💠🙏💠

R.K.SONI (Ganesh Mandir) Oct 20, 2021
जय श्री गणेश जी🙏 राधे राघे जी💐आप हमेशा खुश व स्वस्थ २हे 👌👌👌💐💐💐💐🙏

Anup Kumar Sinha Oct 20, 2021
श्री गणेशाय नमः 🙏🏻🙏🏻 शुभ संध्या वंंदन ।भगवान गणेश की असीम कृपा आप सपरिवार पर बनी रहे ।आपको वाल्मीकि जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🏻🌹

Runa Sinha Oct 20, 2021
Jai Shri Radhe Radhe🙏🙏 Good night 🌺🙏🌺

सुनील Oct 20, 2021
शुभ संध्या वंदन श्री गणेशाय नमः

Saumya sharma Oct 20, 2021
Jai shri ganeshay namah🙏Good night bhai g, sweet dreams☺thankyou for this beautiful post 🙏🌹may new morning bring all the happiness in your life☺🙏 🌹Happy Sharad poornima, Valmiki jayanti and Mirabai Jayanti 🙏☺🌹

...... Oct 20, 2021
जय श्री कृष्णा भाई जी🙏🙏

Bindu Singh Oct 20, 2021
Jai shree ganesh ji Har Har mhadev ji good night ji bhai ji pranam ji 🌷🙏🏼👌

Anup Kumar Sinha Oct 20, 2021
जय श्री राधे कृष्ण🙏🏻🙏🏻 शुभ रात्रि वंंदन, भाई जी । कान्हा जी की कृपा आप पर सदैव बनी रहे।आपका हर पल शुभ हो 🙏🏻🍁

Ragni Dhiwer Oct 20, 2021
🥀जय श्री कृष्ण 🌼 शुभ रात्रि स्नेह वंदन भैया जी 🥀आपका हर पल मंगलमय हो 🥀 राधे राधे 🥀🙏🥀

Mamta Chauhan Oct 20, 2021
Jai shri ganesh ji🌹🙏 Shubh ratri vandan mere bade bhaiya ji ganesh ji aap or aapke priwar ko hmesha khush rkhe aapka har pal mangalmay ho 🌹 Radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Mamta Chauhan Oct 20, 2021
Jai shri krishna Radhe radhe bhaiya ji 🙏🌹🙏🌹🙏🌹

ILA SINHA Oct 20, 2021
💥🌺 Jai Shree Krishna 🌺💥 💥🌺 Good night 🌺💥

Renu Singh Oct 20, 2021
Jai Shree Radhe Krishna 🙏🌹 Shubh Ratri Vandan Pyari Bahana Ji 🙏 Aàpka Har Pal Shubh Avam Mangalmay ho 🌸🙏🌸

Renu Singh Oct 20, 2021
Jai Shree Radhe Krishna 🙏🌹 Shubh Ratri Vandan Bhai Ji Thakur ji ki kripa Se Aàpka Har Pal Shubh Avam Mangalmay ho 🌸🙏

Archana Singh Oct 20, 2021
jai Shree radhe Krishna subh ratri vandan Bhai ji 🙏🌹 bankebihari ji aapki har manokamna puri kare 🙏🌹🌹🙏

🏝️kavita sharma🏝️ Oct 20, 2021
𝗥𝗮𝗱𝗵𝗲 𝗥𝗮𝗱𝗵𝗲 𝗝𝗶 𝗦𝗵𝘂𝗯𝗵 𝗥𝗮𝘁𝗿𝗶 𝗩𝗮𝗻𝗱𝗮𝗻 𝗝𝗶 🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
X7skr🇮🇳 Dec 1, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sanjeev Adhoya Dec 1, 2021

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🙏💐जय श्री महाकाल की💐🙏 🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻🌹🌻 शुभ संध्या वंदन शिव खोड़ी की गुफाएं। 〰️〰️🌼🌼🌼〰️〰️ शिव खोड़ी शिवालिक पर्वत शृंखला में एक प्राकृतिक गुफा है, जिसमें प्रकृति-निर्मित शिव-लिंग विद्यमान है। शिव खोड़ी तीर्थ स्थल पर महाशिवरात्रि के दिन बहुत बड़ा मेला आयोजित होता है जिसमें हजारों की संख्या में लोग दूर-दूर से यहां आकर अपनी श्रद्धा प्रकट करते हैं और आयोजित इस मेले में शामिल होते हैं। शिव खोड़ी की यात्रा बारह महीने चलती है। अति प्राचीन मंदिरों के कई अवशेष अब भी इस क्षेत्र में बिखरे पड़े हैं। शिव खोड़ी शिवभक्तों के लिए एक महान तीर्थ स्थल है। शिव खोड़ी शिव तीर्थ का कोई प्रामाणिक इतिहास आज तक उपलब्ध नहीं हो पाया है। लोक श्रुतियों में कहा गया है कि स्यालकोट (वर्तमान में यह स्थान पाकिस्तान में है) के राजा सालवाहन ने शिव खोड़ी में शिवलिंग के दर्शन किए थे और इस क्षेत्र में कई मंदिर भी निर्माण करवाए थे, जो बाद में सालवाहन मंदिर के नाम से प्रसिद्ध हुए। इस गुफा में दो कक्ष हैं। बाहरी कक्ष कुछ बड़ा है, लेकिन भीतरी कक्ष छोटा है। बाहर वाले कक्ष से भीतरी कक्ष में जाने का रास्ता कुछ तंग और कम ऊंचाई वाला है जहां से झुक कर गुजरना पड़ता है। आगे चलकर यह रास्ता दो हिस्सों में बंट जाता है, जिसमें से एक के विषय में ऐसा विश्वास है कि यह कश्मीर जाता है। यह रास्ता अब बंद कर दिया गया है। दूसरा मार्ग गुफा की ओर जाता है, जहां स्वयंभू शिव की मूर्ति है। गुफा की छत पर सर्पाकृति चित्रकला है, जहां से दूध युक्त जल शिवलिंग पर टपकता रहता है। इस गुफा में दो कक्ष हैं। बाहरी कक्ष कुछ बड़ा है, लेकिन भीतरी कक्ष छोटा है। बाहर वाले कक्ष से भीतरी कक्ष में जाने का रास्ता कुछ तंग और कम ऊंचाई वाला है जहां से झुक कर गुजरना पड़ता है। आगे चलकर यह रास्ता दो हिस्सों में बंट जाता है, जिसमें से एक के विषय में ऐसा विश्वास है कि यह कश्मीर जाता है। यह रास्ता अब बंद कर दिया गया है। दूसरा मार्ग गुफा की ओर जाता है, जहां स्वयंभू शिव की मूर्ति है। गुफा की छत पर सर्पाकृति चित्रकला है, जहां से दूध युक्त जल शिवलिंग पर टपकता रहता है। यह स्थान रियासी-राजोरी सड़कमार्ग पर है, जो पौनी गांव से दस मील की दूरी पर स्थित है। शिवालिक पर्वत शृंखलाओं में अनेक गुफाएं हैं। ये गुफाएं प्राकृतिक हैं। कई गुफाओं के भीतर अनेक देवी-देवताओं के नाम की प्रतिमाएं अथवा पिंडियां हैं। उनमें कई प्रतिमाएं अथवा पिंडियां प्राकृतिक भी हैं। देव पिंडियों से संबंधित होने के कारण ये गुफाएं भी पवित्र मानी जाती हैं। डुग्गर प्रांत की पवित्र गुफाओं में शिव खोड़ी का नाम अत्यंत प्रसिद्ध है। यह गुफा तहसील रियासी के अंतर्गत पौनी भारख क्षेत्र के रणसू स्थान के नजदीक स्थित है। जम्मू से रणसू नामक स्थान लगभग एक सौ किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यहां पहुंचने के लिए जम्मू से बस मिल जाती है। यहां के लोग कटरा, रियासी, अखनूर, कालाकोट से भी बस द्वारा रणसू पहुंचते रहते हैं। रणसू से शिव खोड़ी छह किलोमीटर दूरी पर है। यह एक छोटा-सा पर्वतीय आंचलिक गांव है। इस गांव की आबादी तीन सौ के करीब है। यहां कई जलकुंड भी हैं। यात्री जलकुंडों में स्नान के बाद देव स्थान की ओर आगे बढ़ते हैं। देव स्थान तक सड़क बनाने की परियोजना चल रही है। रणसू से दो किलोमीटर सड़क मार्ग तैयार है। यात्री सड़क को छोड़ कर आगे पर्वतीय पगडंडी की ओर बढ़ते हैं। पर्वतीय यात्रा तो बड़ी ही हृदयाकर्षक होती है। यहां का मार्ग समृद्ध प्राकृतिक दृश्यों से भरपूर है। सहजगति से बहते जलस्त्रोत, छायादार वृक्ष, बहुरंगी पक्षी समूह पर्यटक यात्रियों का मन बरबस अपनी ओर खींच लेते हैं। चार किलोमीटर टेढ़ी-मेढ़ी पर्वतीय पगडंडी पर चलते हुए यात्री गुफा के बाहरी भाग में पहुंचते हैं। गुफा का बाह्‌य भाग बड़ा ही विस्तृत है। इस भाग में हजारों यात्री एक साथ खड़े हो सकते हैं। बाह्‌य भाग के बाद गुफा का भीतरी भाग आरंभ होता है। यह बड़ा ही संकीर्ण है। यात्री सरक-सरक कर आगे बढ़ते जाते हैं। कई स्थानों पर घुटनों के बल भी चलना पड़ता है। गुफा के भीतर भी गुफाएं हैं, इसलिए पथ प्रदर्शक के बिना गुफा के भीतर प्रवेश करना उचित नहीं है। गुफा के भीतर दिन के समय भी अंधकार रहता है। अत: यात्री अपने साथ टॉर्च या मोमबत्ती जलाकर ले जाते हैं। गुफा के भीतर एक स्थान पर सीढ़ियां भी चढ़नी पड़ती हैं, तदुपरांत थोड़ी सी चढ़ाई के बाद शिवलिंग के दर्शन होते हैं। शिवलिंग गुफा की प्राचीर के साथ ही बना है। यह प्राकृतिक लिंग है। इसकी ऊंचाई लगभग एक मीटर है। शिवलिंग के आसपास गुफा की छत से पानी टपकता रहता है। यह पानी दुधिया रंग का है। उस दुधिया पानी के जम जाने से गुफा के भीतर तथा बाहर सर्पाकार कई छोटी-मोटी रेखाएं बनी हुई हैं, जो बड़ी ही विलक्षण किंतु बेहद आकर्षक लगती हैं। गुफा की छत पर एक स्थान पर गाय के स्तन जैसे बने हैं, जिनसे दुधिया पानी टपक कर शिवलिंग पर गिरता है। शिवलिंग के आगे एक और भी गुफा है। यह गुफा बड़ी लंबी है। इसके मार्ग में कई अवरोधक हैं। लोक श्रुति है कि यह गुफा अमरनाथ स्वामी तक जाती है। 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB