सभी भाइयों और बहनों को सुबह की जय माता जी की सा 🙏🙏🙏🌹🌹🌹🌹🙏🙏🙏🙏🙏

+89 प्रतिक्रिया 75 कॉमेंट्स • 178 शेयर

कामेंट्स

कौशलेंद्र प्रताप सिंह राठौड़ Nov 26, 2021
@madhubenpatel1 राम राम बहन जी जय माता जी की शुभ रात्रि वंदन जी माता रानी की कृपा सदैव आप और आपके परिवार पर हमेशा बनी रहे आप की हर एक मनोकामना पूर्ण हो जय मां जानकी शुभ रात्रि बंधन बहन जी 🌹🌹🌷🙏🙏🙏🙏

कौशलेंद्र प्रताप सिंह राठौड़ Nov 26, 2021
@kailashpandey11 राम राम भैया जी जय माता जी की शुभ रात्रि वंदन जी माता रानी की कृपा सदैव आप पर आपके परिवार पर हमेशा बनी रहे सदा खुश रहो आपकी हर एक मनोकामना पूरी हो 🙏🌷🌷🌻🌻

Gopal Jalan Jan 19, 2022

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

' " *[१२१ - ज्वरनाशन सूक्त (११६)]* " [ *ऋषि* - अथर्वाङ्गिरा। *देवता* - चन्द्रमा। *छन्द* - परोष्णिक, २ एकावसाना द्विपदा आर्ची अनुष्टुप्।] *इस सूक्त में मलेरिया जैसे ज्वर के निवारण की प्रार्थना की गई है। इस ज्वर के अनेक रूप कहे गये हैं, जो वैद्यक शास्त्र के अनुरूप है-* "२०२७. नमो रूराय च्यवनाय नोदनाय धृष्णवे। नमः शीताय पूर्वकामकृत्वने॥१॥" "तपाने वाले, हिलाने वाले, भड़काने वाले, डराने वाले,शीत लगकर आने वाले एवं शरीर को तोड़ने (कृश करने) वाले ज्वर को नमस्कार है॥१॥ "२०२८. यो अन्येद्युरुभयद्युरभ्येतीमं मण्डूकमभ्ये त्वव्रतः॥२॥" "जो ज्वर एक दिन छोड़कर आते हैं, जो दो दिन छोड़कर आते हैं तथा जो बिना किसी निश्चित समय के आते हैं, वे इस मेढक (संकीर्ण या आलसी व्यक्ति) के पास जाएँ॥२॥" (क्रमशः) "अथर्ववेद संहिता [सरल हिन्दी भावार्थ सहित]" - वेदमूर्ति तपोनिष्ठ पं० श्रीराम शर्मा आचार्य" ----------:::×:::---------- " जय माता दी " " कुमार रौनक कश्यप " **********************************************

+15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 23 शेयर
Gopal Jalan Jan 18, 2022

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Gopal Jalan Jan 17, 2022

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर
NARENDR PATEL Jan 18, 2022

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Rameshannd Guruji Jan 17, 2022

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
krishna Rawal Jan 18, 2022

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

*माता सुरकंडा मंदिर, उत्तराखंड 🛕* देवभूमि उत्तराखंड के टिहरी क्षेत्र के सुरकुट पर्वत पर अवस्थित है आदि शक्ति माँ जगदंबा का मंदिर. यहाँ शक्ति की उपासना सुरकंडा माता के रूप की जाती है. सनातन संस्कृति की आस्था के अनुसार इस सिद्ध शक्तिपीठ में देवी सती का सिर गिरा था. इसीलिए यह पवित्रम देवी शक्तिपीठों में से एक है. इस मंदिर का उल्लेख केदारखंड एवं स्कन्द पुराण में भी मिलता है. इस मंदिर से बद्रीनाथ, केदारनाथ, तुंगनाथ, चौखंबा, गौरीशंकर, नीलकंठ आदि सहित कई पर्वत शृंखलाएं दिखाई देती हैं. नवरात्रि एवं गंगा दशहरा के अवसर पर यहाँ व्यापक स्तर पर श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं. *मेरी संस्कृति ..मेरा देश ..मेरा अभिमान 🚩*

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB