Sharda Dubey
Sharda Dubey Nov 23, 2021

🪔🛕जय माता दी 🙏🙏 जय माता दी 🔔🌄🔔 जय माता दी ⚛️🚩⚛️ जय माता दी 🌺🌹🌺 जय माता दी 🌳🌳🌳जय माता दी 🌾🌾🌾🌾जय माता दी 🌿🏵️🌿 जय माता दी 🌴🍀🌴जय माता दी 🥀🌼🥀जय माता दी 🌷✡️🌷🕉️ जय मां भगवती पार्वती 🤱करणी मां 🤱 अंबे मां के चरणों में कोटिशःबारंबारप्रणाम 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏⚛️🕉️✡️ अपनी असीम आशीर्वाद और कृपा सभी भक्तों पर सदा बनाए रखें मां 🙌🙌🙌अभी का शुभ रात्रि विश्राम 🌼🌼 सभी बहनों व सभी बंधुओं को 🌼🌼 कल प्रातः कालीन मंगलमय मंगलकामना के साथ शुभ बुधवार का दिन शुभकारी हों 💐💐💐💐💐💐 सुबह सबेरे सुप्रभातम 🌹 भोर वेला नमन 👏🥀👏👏🕉️

🪔🛕जय माता दी 🙏🙏                   जय माता दी 🔔🌄🔔 जय माता दी   ⚛️🚩⚛️ जय माता दी 🌺🌹🌺       जय माता दी 🌳🌳🌳जय माता दी     🌾🌾🌾🌾जय माता दी 🌿🏵️🌿  जय माता दी 🌴🍀🌴जय माता दी     🥀🌼🥀जय माता दी 🌷✡️🌷🕉️  जय मां भगवती पार्वती 🤱करणी मां 🤱 अंबे मां के चरणों में कोटिशःबारंबारप्रणाम 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏⚛️🕉️✡️ अपनी असीम आशीर्वाद और कृपा सभी भक्तों पर सदा बनाए रखें मां 🙌🙌🙌अभी का शुभ रात्रि विश्राम 🌼🌼 सभी बहनों व सभी बंधुओं को 🌼🌼 कल प्रातः कालीन मंगलमय मंगलकामना के साथ शुभ बुधवार का दिन शुभकारी हों 💐💐💐💐💐💐 सुबह सबेरे सुप्रभातम 🌹 भोर वेला नमन 👏🥀👏👏🕉️
🪔🛕जय माता दी 🙏🙏                   जय माता दी 🔔🌄🔔 जय माता दी   ⚛️🚩⚛️ जय माता दी 🌺🌹🌺       जय माता दी 🌳🌳🌳जय माता दी     🌾🌾🌾🌾जय माता दी 🌿🏵️🌿  जय माता दी 🌴🍀🌴जय माता दी     🥀🌼🥀जय माता दी 🌷✡️🌷🕉️  जय मां भगवती पार्वती 🤱करणी मां 🤱 अंबे मां के चरणों में कोटिशःबारंबारप्रणाम 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏⚛️🕉️✡️ अपनी असीम आशीर्वाद और कृपा सभी भक्तों पर सदा बनाए रखें मां 🙌🙌🙌अभी का शुभ रात्रि विश्राम 🌼🌼 सभी बहनों व सभी बंधुओं को 🌼🌼 कल प्रातः कालीन मंगलमय मंगलकामना के साथ शुभ बुधवार का दिन शुभकारी हों 💐💐💐💐💐💐 सुबह सबेरे सुप्रभातम 🌹 भोर वेला नमन 👏🥀👏👏🕉️

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

कामेंट्स

GOVIND CHOUHAN Nov 23, 2021
Jai Mata Di 🌷 Jai Maa Aadhyashakthi Nav Durga Devi Mata 🌷 Jai Maa Karni Maiya Ji 🌷🙏🙏 Shubh Raatri Vishram Jii 🙏🙏 Ati Sunder Post 🙏🙏

Sharda Dubey Nov 23, 2021
थैंक्स बंधु 🤱जय श्री कृष्ण बंधु जी शुभ रात्रि विश्राम 🌼🌼

*━━━━━━━ꕥ❈ꕥ❈ꕥ━━━━━━━* ┌──────────────────┐ █▓░ *༺श्रीगणेशाय नम:༻*░▓█ └──────────────────┘ *━━━━━━━ꕥ❈ꕥ❈ꕥ━━━━━━* *༺⚜❝दैनिक-पंचांग ❞⚜༻* *━━━━━━━ꕥ❈ꕥ❈ꕥ━━━━━━* _*🌷ꕥ❈दिनांक:-20-01-2022❈ꕥ🌷*_ *ꕥ श्रीमाधोपुर-पंचांग ꕥ* 🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐 🥎 तिथि द्वितीया 08:07:42 🥎 नक्षत्र आश्लेषा 08:24:44 🥎 करण : गर 08:07:42 वणिज 20:34:15 🥎 पक्ष कृष्ण 🥎 योग आयुष्मान 15:42:58 🥎 वार गुरूवार *🏀 सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ* 🥎 सूर्योदय 07:18:36 🥎 चन्द्रोदय 20:10:00 🥎 चन्द्र राशि कर्क - 08:24:44 तक 🥎 सूर्यास्त 17:58:49 🥎 चन्द्रास्त 09:01:59 🥎 ऋतु शिशिर *🏀 हिन्दू मास एवं वर्ष* 🥎 शक सम्वत 1943 प्लव 🥎 कलि सम्वत 5123 🥎 दिन काल 10:40:12 🥎 विक्रम सम्वत 2078 🥎 मास अमांत पौष 🥎 मास पूर्णिमांत माघ *🏀 शुभ समय* 🥎 अभिजित 12:17:22 - 13:00:03 *🏀 अशुभ समय* 🥎 दुष्टमुहूर्त : 10:52:01 - 11:34:41 15:08:05 - 15:50:46 🥎 कंटक 15:08:05 - 15:50:46 🥎 यमघण्ट 08:01:17 - 08:43:58 🥎 राहु काल 13:58:44 - 15:18:46 🥎 कुलिक 10:52:01 - 11:34:41 🥎 कालवेला या अर्द्धयाम 16:33:27 - 17:16:08 🥎 यमगण्ड 07:18:36 - 08:38:38 🥎 गुलिक काल 09:58:40 - 11:18:41 *🏀 दिशा शूल दक्षिण* *🏀 चौघड़िया मुहूर्त* 🥎शुभ 07:18:36 - 08:38:38 🥎रोग 08:38:38 - 09:58:40 🥎उद्वेग 09:58:40 - 11:18:41 🥎चल 11:18:41 - 12:38:43 🥎लाभ 12:38:43 - 13:58:44 🥎अमृत 13:58:44 - 15:18:46 🥎काल 15:18:46 - 16:38:47 🥎शुभ 16:38:47 - 17:58:49 🥎अमृत 17:58:49 - 19:38:45 🥎चल 19:38:45 - 21:18:42 🥎रोग 21:18:42 - 22:58:39 🥎काल 22:58:39 - 24:38:36 🥎लाभ 24:38:36 - 26:18:32 🥎उद्वेग 26:18:32 - 27:58:29 🥎शुभ 27:58:29 - 29:38:26 🥎अमृत 29:38:26 - 31:18:23 🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐 *पंचांग को फॉरवर्ड नहीं, शेयर करें।* 🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴 li.▬▭▬▭▬--▭▬▭▬▭▬.li 2️⃣0️⃣🕋0️⃣1️⃣🕋2️⃣2️⃣ li.▬▭▬▭▬--▭▬▭▬▭▬.li 🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐 ━━━━━━━ꕥ❈ꕥ❈ꕥ━━━━━━━ _*🪴🎀 📿जयश्री कृष्णा📿🎀🪴*_ ━━━━━━━ꕥ❈ꕥ❈ꕥ━━━━━━━ *ज्योतिषशास्त्री-सुरेन्द्र कुमार चेजारा व्याख्याता राउमावि होल्याकाबास निवास-श्रीमाधोपुर* 🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐🫐 *━━━━━━━ꕥ❈ꕥ❈ꕥ━━━━━━━*

+24 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 62 शेयर
PRABHAT KUMAR Jan 19, 2022

✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ ✡️✡️✡️✡️✡️ *#ऊँ__गं__गणपते__नमः* ✡️✡️✡️✡️✡️ ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *#सभी_आदरणीय_साथियों_को_नमस्कार_शुभ_रात्री* 🙏 ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *हिन्दू संस्कृति में हर शुभ कार्य गणेशजी की पूजा के साथ प्रारम्भ होता है। इसके पीछे वास्तु भी काम करता है। क्योंकि कई वास्तु दोषों का ईलाज गणपति पूजा से ही हो जाता है ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *वास्तु पुरुष की प्रार्थना पर ब्रह्मजी ने वास्तुशास्त्र के नियमों की रचना की थी। यह मानव कल्याण के लिए बनाया गया था, इसलिए इनकी अनदेखी करने पर घर के सदस्यों को शारीरिक, मानसिक, आर्थिक हानि भी उठानी पड़ती है ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *अत: वास्तु देवता की संतुष्टि के लिए भगवान गणेश जी को पूजना बेहतर लाभ देगा। इनकी आराधना के बिना वास्तुदेवता को संतुष्ट नहीं किया जा सकता। बिना तोड़-फोड़ अगर वास्तु दोष को दूर करना चाहते हैं तो इन्हें आजमाएं ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *गणपति जी का वंदन कर वास्तुदोषों को शांत किए जाने में किसी प्रकार का संदेह नहीं होता है। मान्यता यह है कि नियमित गणेश जी की आराधना से वास्तु दोष उत्पन्न होने की संभावना बहुत कम होती है। इससे घर में खुशहाली आती है और तरक्की होती है ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *यदि घर के मुख्य द्वार पर एकदंत की प्रतिमा या चित्र लगाया गया हो तो उसके दूसरी तरफ ठीक उसी जगह पर गणेश जी की प्रतिमा इस प्रकार लगाए कि दोनों गणेशजी की पीठ मिली रहे। इस प्रकार से दूसरी प्रतिमा या चित्र लगाने से वास्तु दोषों का शमन होता है. भवन के जिस भाग में वास्तु दोष हो उस स्थान पर घी मिश्रित सिंदूर से स्वास्तिक दीवार पर बनाने से वास्तु दोष का प्रभाव कम होता है ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *घर या कार्यस्थल के किसी भी भाग में वक्रतुण्ड की प्रतिमा अथवा चित्र लगाए जा सकते हैं। किंतु प्रतिमा लगाते समय यह ध्यान अवश्य रखना चाहिए कि किसी भी स्थिति में इनका मुंह दक्षिण दिशा या नैर्ऋ त्य कोण में नहीं हो। इसका विपरीत प्रभाव होता है ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *घर में बैठे हुए गणेश जी तथा कार्यस्थल पर खड़े गणपति जी का चित्र लगाना चाहिए, किंतु यह ध्यान रखें कि खड़े गणेश जी के दोनों पैर जमीन का स्पर्श करते हुए हों। इससे कार्य में स्थिरता आने की संभावना रहती है ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *भवन के ब्रह्म स्थान अर्थात् केंद्र में, ईशान कोण एवं पूर्व दिशा में सुखकर्ता की मूर्ति अथवा चित्र लगाना शुभ रहता है। किंतु टॉयलेट अथवा ऐसे स्थान पर गणेशजी का चित्र नहीं लगाना चाहिए जहां लोगों को थूकने आदि से रोकना हो। यह गणेशजी के चित्र का अपमान होगा। सुख, शांति, समृद्धि की चाह रखने वालों के लिए घर में सफेद रंग के विनायक की मूर्ति, चित्र लगाना चाहिए ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *सर्व मंगल की कामना करने वालों के लिए सिंदूरी रंग के गणपति की आराधना अनुकूल रहती है। इससे शीघ्र फल की प्राप्ति होती है। विघ्नहर्ता की मूर्ति अथवा चित्र में उनके बाएं हाथ की ओर सूंड घुमी हुई हो इस बात का ध्यान रखना चाहिए। दाएं हाथ की ओर घुमी हुई सूंड वाले गणेश जी हठी होते हैं तथा उनकी साधना-आराधना कठिन होती है। शास्त्रों में कहा गाया है कि दाएं सूंड वाले गणपति देर से भक्तों पर प्रसन्न होते हैं ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *मंगल मूर्ति भगवान को मोदक एवं उनका वाहन मूषक अतिप्रिय है। अत: घर में चित्र लगाते समय ध्यान रखें कि चित्र में मोदक या लड्डू और चूहा अवश्य होना चाहिए। इससे घर में बरकत होती है। इस तरह आप भी बिना तोड़-फोड़ के गणपति पूजन के द्वारा से घर के वास्तुदोष को दूर कर सकते हैं ।* ✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️✡️ *#नोट : उक्त जानकारी सोशल मीडिया से ली गई है ।* 📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰 *( इस आलेख में दी गई जानकारियाँ धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित है, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )* 🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈🎈

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Deepak Jan 19, 2022

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Ramesh agrawal Jan 19, 2022

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 32 शेयर

👍जीने की राह पुस्तक बिल्कुल निशुल्क मंगवाने के लिए नाम:- ...... पता, पिनकोड:- ....... मोबाइल नम्बर :-....... पुस्तक किस भाषा में चाहिए...... comment box में दें या इस whatsaap no. पर दीजिये 7509250415 कोई चार्ज नहीं है बिल्कुल #फ्री पुस्तक प्राप्त करें. नाम पता मोबाइल नंबर अगर आपका सही है तो इस पुस्तक को हम आप तक पहुंचाने की गारंटी लेते हैं. इस पुस्तक की डिलीवरी 30 दिन के अंदर अंदर कर दी जाती है, 1 से ज्यादा बार ओर्डर डालने वालों का ओर्डर केंसल हो जाता है हमको जन्म देने व मारने में किस प्रभु का स्वार्थ? हम सभी देवी- देवताओं की इतनी भक्ति करते हैं फिर भी दुखी क्यों हैं इन अनसुलझे सवालों का जवाब पाने के लिए पढ़िए पुस्तक "जीने की राह" यह धार्मिक पुस्तक 100% निशुल्क है कोई डिलीवरी चार्ज भी नहीं लगेगा । क्यों जिंदगी में दुख आता है?? हम न चाह कर में नशे में लिप्त रहते है।??? क्यों हमे नशे की लत लगती है?? क्यों परेशानी आती है हँसते खेलते परिवार में?? और भी बहुत से प्रश्नों को उत्तर जानना चाहोगे तो पढिये संत रामपाल जी महाराज जी द्वारा लिखित पुस्तक "जीने की राह" जिसमे है हर समस्या का समाधान तो देर किस बात की जल्दी अपना आर्डर कीजिये यदि आप अपना नाम पता मोबाइल नंबर गुप्त रखना चाहते हैं तो इस व्हाट्सएप नंबर- 7509250415 पर पुस्तक आर्डर करें. Free book with free Home dilevry

+4 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Dheeraj Shukla Jan 19, 2022

+46 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Jasbir Singh nain Jan 17, 2022

पौष पूर्णिमा व्रत 17 जनवरी, 2022 (सोमवार) शुभ प्रभात जी 🪔🪴🙏🙏 हर माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि के अगले दिन पूर्णिमा मनाई जाती है। इस प्रकार पौष माह की पूर्णिमा 17 जनवरी 2022 को मनाई जाएगी। पूर्णिमा के दिन चन्द्रदेव पूर्ण आकार में होते हैं। इस दिन पूजा, जप, तप, स्नान, सूर्य अर्घ्य और दान से न केवल चंद्रदेव ही नहीं बल्कि भगवान श्रीहरि की भी कृपा बरसती है। पूर्णिमा और अमावस्या को पूजा और दान करने से व्यक्ति के समस्त पाप कट जाते हैं। सनातन शास्त्रों में पूर्णिमा के दिन पूर्णिमा व्रत और सत्यनारायण पूजा का विधान है। इस दिन साधक पवित्र नदियों में स्नान कर तिल तर्पण करते हैं, इससे पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दिन काशी, प्रयागराज और हरिद्वार में गंगा स्नान करना बेहद शुभ बताया जाता है। आइए अब जानते है पूर्णिमा तिथि का शुभ समय पौष पूर्णिमा तिथि - 17 जनवरी, 2022 पौष पूर्णिमा तिथि आरंभ - 17 जनवरी को रात 3:18 मिनट से। पौष पूर्णिमा तिथि समाप्त - 18 जनवरी सुबह 5:17 मिनट तक। उदया तिथि मान्य होती है, इसलिए पौष पूर्णिमा 17 जनवरी को ही मनाई जाएगी। वैदिक मान्यताओं अनुसार, पौष सूर्य देव का माह कहलाता है और इस मास सूर्य देव की आराधना करने से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है और पूर्णिमा चंद्रमा की तिथि है। अतः सूर्य और चंद्रमा का यह अद्भूत संगम पौष पूर्णिमा की तिथि को होता है। इस दिन सूर्य और चंद्रमा दोनों के पूजन से मनोकामनाएं पूर्ण होती है और जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होती है। ऐसा कहा जाता है कि पौष मास के समय में किए जाने वाले धार्मिक कर्मकांड की पूर्णता पूर्णिमा पर स्नान करने से सार्थक होती है। आइए अब जानते है पौष पूर्णिमा के दिन की जाने वाली पूजा विधि के बारे में इस दिन प्रात: जल्दी उठकर घर की साफ़-सफाई करें। उसके बाद स्नान आदि करके व्रत का संकल्प लें। सर्वप्रथम भगवान सूर्य को ॐ नमो नारायणाय मंत्र का जाप करते हुए अर्घ्य और तिलांजलि दें। इसके लिए सूर्य के सामने खड़े होकर जल में तिल डालकर उसका तर्पण करें। फिर ठाकुर और नारायण जी की पूजा करें। भगवान को भोग में चरणामृत, पान, तिल, मोली, रोली, कुमकुम, फल, फूल, पंचगव्य, सुपारी, दूर्वा आदि अर्पित करें। अंत में आरती-प्रार्थना कर पूजा संपन्न करें। इसके बाद जरूरतमंदों और ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा दें। दान में तिल, गुड़, कंबल और ऊनी वस्त्र विशेष रूप से देने चाहिए। तो दोस्तो ये थी पूर्णिमा के दिन की जाने वाली पूजा विधि, आइए अब जानते है इस दिन किए जाने वाले धार्मिक आयोजन के बारे में संपूर्ण जानकारी। पौष पूर्णिमा पर देश के विभिन्न तीर्थ स्थलों पर स्नान और धार्मिक आयोजन होते हैं। पौष पूर्णिमा से तीर्थराज प्रयाग में माघ मेले का आयोजन शुरू होता है। इस धार्मिक उत्सव में स्नान का विशेष महत्व बताया गया है। धार्मिक विद्वानों के अनुसार माघ माह के स्नान का संकल्प पौष पूर्णिमा पर लेना चाहिए। आइए जानते है कि इस दिन क्या करें और क्या नहीं पूर्णिमा के दिन चावल का दान करना शुभ होता है। चावल का संबंध चंद्रमा से होता है और पूर्णिमा के दिन चावल का दान करने से चंद्रमा की स्थिति कुंडली में मजबूत होती है। पूर्णिमा के दिन सफेद रंग की चीजों का दान करना चाहिए। इस दिन सत्यनारायण की कथा सुननी चाहिए और भगवान शिव की पूजा करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। आज के दिन महालक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए। कहते हैं कि पीपल में मां लक्ष्मी का वास होता है। इसी के साथ इस दिन लहसुन, प्याज, मांस-मदिरा आदि का सेवन नहीं ना करें। इस दिन परिवार में सुख-शांति बनाकर रखें और घर पर आने वाले गरीब या जरुरतमंद को दान दें।

+241 प्रतिक्रिया 75 कॉमेंट्स • 1001 शेयर

+42 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB