🎎सोलह श्रृंगार का महत्व🎎 ❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️ 🌹सीता जी ने पूछा मैया से बताओ ---- माँ एक सार ! विवाहोपरांत --- हर नारी क्यों करती सोलह श्रृंगार!! 🌺मैया ने -----मीठी वाणी में समझाई ------- हर बात ! सोलह श्रृंगार से पूर्ण होती धरा पर ------- नारी जात !! 💐मेंहदी ---को हर समय अपने हाथों में रचाना ! कर्मो की लालिमा से सारा जग -- महकाना !! 🌺आँखों में प्रेम बसा कर काजल उनमें लगाना ! भलै सम्पति खो जाये पर , शील जल बचाना!! 🌞सूर्य की भाँति प्रकाशवान हो छोड़ देना -- शरारत -- जिद्दी ! इसिलिए तो ---- नारी लगाये अपने माँथे पर ------- बिन्दी !! 🎎मन को काबू में करके लगा देना उस पर लगाम ! नारी की नाक की नथनी देती है - यह सुंदर पैगाम !! 🎭बूरे कर्म से परहेज करना यश कमाना ---- भरपूर ! पतिव्रत धर्म का पालन यह सिखलाता है -सिंदूर !! 👏खुद की प्रशंसा सुनने की मत करना तुम ---- भूल ! हर हाल में खुश रहना शिक्षा यह देता कर्णफूल !! 🥀सबके मन को मोहने वाले कर्म करना तू ------ बाला ! सुख - दुख में --सम रहना यह सीख देती मोहन माला !! ❤️सीघा-सादा जीवन रखना मत करना तुम ----- फंद ! इसिलिए तो -- नारी बाँधे अपने हाथ में -- बाजूबंद !! 🎭कभी किसी में छल न करना रुपया हो या -------- गल्ला ! कमर में --- लटकाये रखना अपना --------- सुंदर छल्ला !! 🎎बड़े - बूढ़ो की सेवा करके कर देना उनको --- कायल ! घर-आँगन छनकाती रहना अपने पैरों की ----- पायल !! 🙏छोटो को आशीष देना खबरदार-जो उनसे रुठी ! हाथों की --अँगुलियों में पहने रखना ---- अँगूठी !! 💐परिवार को बिछड़ने न देना रखना सबको ------- साथ ! पैरों की बिछिया --- प्यारी बतलाती ------- यह बात !! 🎎कठोर वाणी का त्याग कर करना सबका ---- मंगल ! जीवन को - रंगो से भरना पहने रखना ------ कंगन !! 💫कमरबंद की भाँति तुम सेवा में ------- बँध जाना ! पति के संग - --संग तुम पूरे परिवार को अपनाना !! 🌹🌿जय श्री राम 🌿🌹 💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫

🎎सोलह श्रृंगार का महत्व🎎
❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️

  🌹सीता जी ने पूछा मैया से
                     बताओ ---- माँ एक सार !
      विवाहोपरांत --- हर नारी
                      क्यों करती सोलह श्रृंगार!!

      🌺मैया ने -----मीठी वाणी में 
                       समझाई ------- हर बात !
                    सोलह श्रृंगार से पूर्ण होती
                 धरा पर ------- नारी जात !!

         💐मेंहदी ---को हर समय
                     अपने हाथों में रचाना !
              कर्मो  की  लालिमा से
               सारा जग -- महकाना !!

           🌺आँखों में प्रेम बसा कर
                      काजल  उनमें लगाना !
               भलै सम्पति खो जाये
                     पर , शील जल बचाना!!

       🌞सूर्य की भाँति प्रकाशवान हो
                     छोड़ देना -- शरारत -- जिद्दी !
                इसिलिए तो ---- नारी लगाये 
अपने माँथे पर ------- बिन्दी !!

          🎎मन को  काबू में  करके 
            लगा देना उस पर लगाम !
              नारी की नाक की नथनी
                   देती है - यह सुंदर पैगाम !!

              🎭बूरे कर्म से परहेज करना
                      यश कमाना ---- भरपूर !
                  पतिव्रत धर्म का  पालन 
                  यह सिखलाता है -सिंदूर !!

           👏खुद की प्रशंसा सुनने की
                    मत करना तुम ---- भूल !
                हर  हाल  में खुश  रहना 
                     शिक्षा यह देता कर्णफूल !!

               🥀सबके मन को मोहने वाले
                      कर्म करना तू ------ बाला !
                सुख - दुख में --सम रहना 
                     यह सीख देती मोहन माला !!

               ❤️सीघा-सादा जीवन रखना
                     मत करना तुम ----- फंद !
                      इसिलिए तो -- नारी बाँधे
                       अपने हाथ में -- बाजूबंद !!

             🎭कभी किसी में छल न करना
                      रुपया हो या -------- गल्ला !
                कमर में --- लटकाये रखना
                   अपना --------- सुंदर छल्ला !!

               🎎बड़े - बूढ़ो की सेवा करके
                        कर देना उनको --- कायल !
                  घर-आँगन छनकाती रहना 
                        अपने पैरों की ----- पायल !!

                🙏छोटो को  आशीष  देना
                         खबरदार-जो उनसे रुठी !
                     हाथों की --अँगुलियों में 
                        पहने रखना ---- अँगूठी !!

               💐परिवार को बिछड़ने न देना
                         रखना सबको ------- साथ !
                 पैरों की बिछिया --- प्यारी
                  बतलाती ------- यह बात !!

              🎎कठोर वाणी का त्याग कर
                         करना सबका ---- मंगल !
             जीवन को - रंगो से भरना 
                       पहने रखना ------ कंगन !!

            💫कमरबंद की  भाँति तुम
                       सेवा में ------- बँध जाना !
               पति के संग - --संग तुम
                      पूरे परिवार को अपनाना !!
        🌹🌿जय श्री राम 🌿🌹
💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫💫

+241 प्रतिक्रिया 91 कॉमेंट्स • 167 शेयर

कामेंट्स

Brajesh Sharma Sep 9, 2021
👌🚩🙏🔔🇮🇳💥💕🔔🙏🚩🇮🇳 ॐ नमों भगवते वासुदेवाय ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव विष्णु भगवान की कृपा दृष्टि हमेशा बनी रहे राम राम जी🙏 🚩🇮🇳💥🔔🎋🙏💕🇮🇳🎋💥🔔🙏 आप हर पल खुश रहें मस्त रहें स्वस्थ रहें 🎋🇮🇳💥🔔🙏🚩🇮🇳💥💐🌴🔔🙏 जय जय श्री राधे कृष्णा जी

Runa Sinha Sep 9, 2021
Om Namo Bhagwate Vasudevay Namah 🌹🙏🏻🌹 Good morning. Hartalika Teej Vrata ki hardik shubhkamnayen.Aapka din shubh ho, bhai 🙏🏻

Anup Kumar Sinha Sep 9, 2021
ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नमः 🙏🏻🙏🏻 सुप्रभात वंंदन,भाई जी । हरतालिका तीज व्रत की हार्दिक शुभकामनाएं । माता लक्ष्मी एवं भगवान विष्णु आप पर सदैव प्रसन्न रहें 🙏🏻🌹

Vineeta Tripathi Sep 9, 2021
Om namo bhagwate vasudevay namah 🙏🙏 gad bless you and your family 🌹🌹 have a great day 🌹☘️🌹

Munesh Tyagi Sep 9, 2021
जयश्री राम जय सीता माता की शुभ प्रभात वंदन जी

Sanjay Rastogi Sep 9, 2021
om Namah shivay jai mata ki subh prabhat vandan bhai ji ap ka har pal subh aur mangalmay ho

Manoj manu Sep 9, 2021
🚩🔔ऊँ नमःशिवाय आप सभी के सुख,शाँति एवं समृद्धि की मंगल कामनाओं के साथ में हरितालिका तीज की हार्दिक शुभकामनाएँ जी शुभ दिन मधुर मंगल भाई जी 🌹🌿🙏

Gd Bansal Sep 9, 2021
जय श्री हरि विष्णु

Kailash Chandra Vyas Sep 9, 2021
अति रोचक.पोस्ट भैयाजी।हर गहने को परिभाषित करती बडी़ हृदयस्पर्शी हैं जी।आपका हर पल मंगलमय व आनंददायक हो। जय शिव शंकरजी।

Sharmila singh Sep 9, 2021
हर हर महादेव मैया पार्वती का आशीर्वाद सदैव बना रहे हरितालिका तीज की हार्दिक शुभकामनाएं

R H BHAtt Sep 9, 2021
Om namah Bhagvat Vasudeva namah aapko happy Hartalika Teej ki Hardik Shubh Kamna ji Vandana ji Jai Shri Krishna

Poonam Aggarwal Sep 9, 2021
🔱🐚🔱🐚🔱🐚🔱 ❤️ हैप्पी हरतालिका तीज ❤️ 🌷 ॐ नमः शिवाय ॐ नमो नारायण 🌷 अखंड सौभाग्य का प्रतीक हरतालिका तीज की हार्दिक शुभकामनाएं 🌹🙏 भोलेनाथ और श्री हरि विष्णुजी की कृपा आप सपरिवार पर सदैव बनी रहे 🙌 शुभ गुरूवार राम राम सा राधे राधे जी 🌹🙏 ‼️ हरि ॐ हरि ॐ हरि ॐ ‼️ 🔱🐚🔱🐚🔱🐚🔱

Runa Sinha Sep 9, 2021
Om Namo Bhagwate Vasudevay Namah 🌹🙏🏻🌹 Good afternoon. Hartalika Teej Vrata ki hardik shubhkamnayen.Aapka din shubh ho, bhai 🙏🏻

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Sep 9, 2021
जय श्री लक्ष्मी नारायण जी शुभ संध्या नमस्कार मेरे प्यारे आदरणीय भाई जी 🙏🌼🙏श्री हरि विष्णु जी की कृपा और आशीर्वाद से आपका घर संसार सदैव सुखी व स्वस्थ रहे खुशियोंभरा रहे आप का सदा मगंल हो मेरे प्यारे भाई जी 🙏🙌🌴🪴🌴🪴🌴🪴🌴

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Sep 9, 2021
आप को सहपरिवार हरितालिका तीज की हार्दिक शुभकामनाएं भाई जी 🙏🌼🙏🌼

sita Sep 9, 2021
Shri Krishna Govind Hare Murari he Nath Narayan Vasudeva 👏🌷🍀Jay Shri Krishna Radhe Radhe bhaiya Beautiful lines and post Jay Mata Di aapka Har Pal khushiyon se Bhara Rahe bhaiya 🙏🌷🙏🌷🙏🌷🙏🌷🌷🌷🌷👌👌👌👌👌👌👌

Alka Devgan Sep 9, 2021
Om Ganeshay namah 🙏 Om Namo Narayan ji 🙏 God bless you and your family aapka har pal mangalmay n shubh ho bhai ji Shri Hari ji aap sabhi ko kushiyan pradhan karein bhai ji aap sabhi par sada kirpa karein shubh sandhya vandan bhai ji Jai Shri Hari ji 🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

my mandir Nov 27, 2021

+597 प्रतिक्रिया 108 कॉमेंट्स • 179 शेयर
Jasbir Singh nain Nov 26, 2021

काल भैरव जयंती 27 नवम्बर, 2021 (शनिवार) शुभ प्रभात जी 🪔🪔🪴🙏🙏 भगवान काल भैरव को भगवान शिव का रुद्र रुप बताया गया है। वैसे तो हर माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन मासिक कालाष्टमी व्रत किया जाता है। लेकिन मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को काल भैरव जंयती के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि इस दिन काल भैरव भगवान का अवतरण हुआ था। इस साल काल भैरव जंयती 27 नवंबर, शनिवार के दिन पड़ रही है। भगवान शिव का रुद्र रुप कहे जाने वाले काल भैरव भगवान की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है। इस दिन प्रातः काल उठकर स्नान आदि करने के बाद व्रत का संकल्प लिया जाता है। रात्रि के समय काल भैरव की पूजा की जाती है। बता दें कि भगवान काल भैरव को दंडापणि (जिसके हाथों में दंड हो) कहा जाता है। काल भैरव दयालु, कल्याण करने वाले और अतिशीघ्र प्रसन्न होने वाले देव कहे जाते हैं, वहीं अनैतिक कार्य करने वालों के लिए ये दंडनायक भी हैं। इतना ही नहीं, काल भैरव भगवान को लेकर ये मान्यता भी है कि भगवान कैल भैरव के भक्तों के साथ कोई अहित करता है तो उसे तीनों लोकों में कहीं भी शरण नहीं मिलती। कालभैरभ जयंती शुभ मुहूर्त- मार्गशीर्ष मास कृष्ण पक्ष अष्टमी आरंभ- 27 नवंबर 2021, शनिवार को प्रातः 05 बजकर 43 मिनट से मार्गशीर्ष मास कृष्ण पक्ष अष्टमी समापन- 28 नवंबर 2021, रविवार को प्रातः 06:00 बजे पूजा विधि इस दिन सुबह उठ जाएं। इसके बाद सभी नित्यकर्मों से निवृत्त होकर स्नानादि कर लें। स्नानादि के बाद स्वच्छ वस्त्र पहन लें। इसके बाद घर के मंदिर में या किसी शुभ स्थान पर कालभैरव की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें। अब इसके चारों तरफ गंगाजल छिड़क लें। फिर उन्हें फूल अर्पित करें। फिर नारियल, इमरती, पान, मदिरा, गेरुआ आदि चीजें अर्पित करें। फिर कालभैरव के समक्ष चौमुखी दीपक जलाएं और धूप-दीप करें। फिर भैरव चालीसा का पाठ करें। फिर भैरव मंत्रों का 108 बार जाप करें। इसके बाद आरती करें और पूजा संपन्न करें। व्रत कथा पौराणिक कथा के अनुसार एक बार की बात है कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश इन तीनों में श्रेष्ठता की लड़ाई चली। इस बात पर बहस बढ़ गई, तो सभी देवताओं को बुलाकर बैठक की गई। सबसे यही पूछा गया कि श्रेष्ठ कौन है? सभी ने अपने-अपने विचार व्यक्त किए और उत्तर खोजा लेकिन उस बात का समर्थन शिवजी और विष्णु ने तो किया, परंतु ब्रह्माजी ने शिवजी को अपशब्द कह दिए। इस बात पर शिवजी को क्रोध आ गया और शिवजी ने अपना अपमान समझा। शिवजी ने उस क्रोध में अपने रूप से भैरव को जन्म दिया। इस भैरव अवतार का वाहन काला कुत्ता है। इनके एक हाथ में छड़ी है। इस अवतार को ‘महाकालेश्वर’ के नाम से भी जाना जाता है इसलिए ही इन्हें दंडाधिपति कहा गया है। शिवजी के इस रूप को देखकर सभी देवता घबरा गए। भैरव ने क्रोध में ब्रह्माजी के 5 मुखों में से 1 मुख को काट दिया, तब से ब्रह्माजी के पास 4 मुख ही हैं। इस प्रकार ब्रह्माजी के सिर को काटने के कारण भैरवजी पर ब्रह्महत्या का पाप आ गया। ब्रह्माजी ने भैरव बाबा से माफी मांगी तब जाकर शिवजी अपने असली रूप में आए। भैरव बाबा को उनके पापों के कारण दंड मिला इसीलिए भैरव को कई दिनों तक भिखारी की तरह रहना पड़ा। इस प्रकार कई वर्षों बाद वाराणसी में इनका दंड समाप्त होता है। इसका एक नाम ‘दंडपाणी’ पड़ा था। इसी के साथ काल भैरव अवतार से जुड़ी एक प्रसिद्ध कथा है।  काल भैरव जयंती पर किए जाने वाले उपाय काल भैरव जयंती के दिन भगवान शिव की पूजा करने से भगवान भैरव का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इस दिन 21 बिल्वपत्रों पर चंदन से ‘ॐ नम: शिवाय’ लिखकर शिवलिंग पर अर्पित करें और साथ ही मन में अपनी मनोकामना कहें। मान्यता है कि इससे आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। मान्यता है कि इस दिन ऐसे मंदिर में जाकर पूजन करें जहां बहुत कम लोग जाते हो या फिर कई दिनों से किसी ने पूजा न की हो। ऐसा माना जाता है कि जो भैरव बहुत कम पूजे जाते हैं उनका पूजन करने से भगवान भैरव शीघ्र प्रसन्न होते हैं। इस दिन मंदिर जाकर दीपक प्रज्वलित करें और भगवान भैरव को नारियल, जलेबी का भोग लगाएं। भगवान भैरव का वाहन श्वान यानी कुत्ता माना गया है। इस दिन भगवान भैरव की पूजा करने के साथ ही कुत्ते को भोजन अवश्य करवाएं। खासतौर पर काले कुत्ते को भोजन कराएं। इससे काल भैरव के साथ शनिदेव की कृपा भी प्राप्त होती है। ऐसा करने से सभी बाधाओं से मुक्ति मिलती है।

+275 प्रतिक्रिया 106 कॉमेंट्स • 1038 शेयर
Bhawna Gupta Nov 27, 2021

+39 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 84 शेयर
Bhawna Gupta Nov 27, 2021

+43 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 48 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 33 शेयर
Ravi Mishra 82796 Nov 27, 2021

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर
my mandir Nov 26, 2021

+670 प्रतिक्रिया 124 कॉमेंट्स • 219 शेयर
my mandir Nov 25, 2021

+907 प्रतिक्रिया 180 कॉमेंट्स • 498 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB