Anup Kumar Sinha
Anup Kumar Sinha Nov 26, 2021

🍁🍁🍁 जय श्री राधे कृष्ण 🍁🍁🍁 🍁🍁🍁 शुभ रात्रि 🍁🍁🍁

🍁🍁🍁 जय श्री राधे कृष्ण 🍁🍁🍁
            🍁🍁🍁  शुभ रात्रि  🍁🍁🍁

+170 प्रतिक्रिया 63 कॉमेंट्स • 67 शेयर

कामेंट्स

Seema Sharma (Himachal) Nov 26, 2021
जय माता दी 🌹🙏 *ईश्वर...* *सिर्फ मिलाने का* *काम करता हैं.....* *संबंधों में नजदीकियाँ या* *दूरियाँ बढ़ाने का काम* *व्यक्ति स्वयं करता है.....* शुभ रात्रि जी 😊🙏 *💐🙏🙏🙏🙏🙏💐*

Seema Sharma (Himachal) Nov 26, 2021
जय माता दी 🌹🙏 *ईश्वर...* *सिर्फ मिलाने का* *काम करता हैं.....* *संबंधों में नजदीकियाँ या* *दूरियाँ बढ़ाने का काम* *व्यक्ति स्वयं करता है.....* शुभ रात्रि जी 😊🙏 *💐🙏🙏🙏🙏🙏💐*

prem chand shami Nov 26, 2021
जय जय श्री राधे कृष्ण 🙏🙏 शुभ मंगलमय रात्रि की शुभकामनायें 💐💐 राधे राधे 🙏🙏

Mansing bhai Sumaniya Nov 26, 2021
जय श्री राधे कृषणा जी ।।।शिवमय रात्रि वंदन भाई जी ji शिव Shiv🔱

Mamta Chauhan Nov 26, 2021
Jai mata di🌹🙏 Shubh ratri vandan bhai ji mata rani ki kripa sda aap or aapke priwar pr bni rhe aapka har pal mangalmay ho aapki sbhi manokamna puri ho radhe radhe 🌹🙏🌹🙏🌹🙏

Radhe Krishna Nov 26, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जी 🙏🏻🌹🌹 शुभ रात्रि वंदन भाई जी 🙏🏻🌹🌹 आप का हर पल शुभ व मंगलमय हो 🌹🌹

🔴 Suresh Kumar 🔴 Nov 26, 2021
राधे राधे जी 🙏 शुभ रात्रि वंदन भाई जी। 🥀🥀💮🙏💮🥀🥀

💖Poonam Sharma💖 Nov 26, 2021
🌷🍃🌷🍃🌷Jay shree Krishna jii🌷 Radhe Radhe 🌷good night ji🙏🍃🌷🍃🌷🍃🌷

‼️kamlesh Goyal‼️ Nov 26, 2021
जय श्री कृष्णा भाई जी शुभ रात्रि वंदन जी🥀🙏🥀

Rama Devi Sahu Nov 26, 2021
Jai Shree Radhe Krishna jii 🙏 Subha Ratri Vandan jii 🙏🌹🌹

laltesh kumar sharma Nov 26, 2021
🌹🌿🌹 jai shree radhey krishan ji 🌹🌿🌹 Subh ratri vandan ji 🌹🌿🌹🙏🙏

Hemant Kasta Nov 26, 2021
Jai Shree Radhe Krishna Ji Namah, Radhe Radhe Ji, Beautiful Post, Anmol Ratri Pushp, Dhanywad Adaraniy Brother Ji Namaskar, Aapke Aanewala Har Pal Khushiya Bhara Ho, Aap Sada Swasth Raho, Khush Raho, Suraskhit Raho, Aap Par Sadaiv Khushiya Barasati Rahe. Shubh Ratri Vandan.

🌹🌹🙏🙏🌹🌹 Nov 26, 2021
श्री राधे राधे जी 🙏🙏 शुभ रात्रि वंदन

Anupama Shukla Nov 26, 2021
Shree radhe 🌹🙏🙏🌹 Good night bhai ji God bless you and your family 🙏🙏🌹🌹

Preeti Jain Nov 26, 2021
🍁🌹🍁🌹🍁🌹🙏 happy Friday 🌹 Jai mata di 🙏 mata rani ka kirpa said aap aur aap ke femli pe bana rahe aap ka har pal subh aur magal mey ho shubh ratri aane har pal bahut sari khushiyan lekar aaye jai jinendra 🙏 om shanti 💐🍮🍮🌹🙏🙏💐 bhaiya ji

Ashwinrchauhan Nov 26, 2021
जय श्री कृष्ण राधे राधे जी राधारानी की कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे मुरलीवाले कान्हा जी आप की हर मनोकामना पूरी करे आप का आने वाला दिन शुभ रहे गुड नाईट भाईजी

Archana Singh Jan 21, 2022

+68 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 104 शेयर
Sudha Mishra Jan 21, 2022

+57 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 89 शेयर

+96 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 132 शेयर
Neha Sharma Jan 21, 2022

🙇*जय श्री राधेकृष्णा*🙏*शुभ रात्रि नमन*🙇 li.▭▬▭▬▭▬--।।ॐ।।▭▬▭▬▭▬▭.li *🌺🤗 सखियों के श्याम 🤗🌺 □ कौन बुझावे इन प्रानन की प्यास....□* ~~~~~□-pøšț-० ४ -□~~~~~ li.▭▬▭▬▭▬--।।ॐ।।▭▬▭▬▭▬▭.li *🙏🌹Զเधे* *Զเधे*... *Զเधे* *Զเधे*🌹🙏 . *.....🌹 जय श्री राधेकृष्णा 🌹.....* 👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣 कौन बुझावे इन प्राननकी प्यास 'सखियों! मुझे जल पिला दो ! तृषासे कंठ सूखा जा रहा है।' चार-पाँच सखियाँ घाटपर जल भरने आयी थीं, घड़े धोकर रख दिये और सब मिलकर बातें करने लगीं। बातें भी क्या! व्रजमें कृष्ण-चर्चाके अतिरिक्त और चर्चा ही क्या होगी? तभी श्यामसुन्दरने आकर जल पिलानेका अनुरोध किया। सुनकर-देखकर सबके प्राण हरे हो गये। 'यमुनामें अथाह जल है कान्ह जू! पीलो न।'-एक सखी बोली। 'जल तो है सखी! किंतु मेरे पास पात्र जो नहीं! हाथसे लेकर जल पीऊँगा तो सारा जल झूठा हो जायेगा, इसीसे तुम्हारा निहोरा करता हूँ। अपने घड़ेसे जल पिला दोगी तो यश मानूँगा।' 'यशसे क्या बननेवाला है श्यामसुंदर! कामके बदले काम कर दो, तो कोई बात बने !' 'अच्छा सखी! बता कौन-सा कार्य कर दूँ तुम्हारा ? मेरा मुख प्याससे सूख रहा है।' 'तुम हमारे घड़े उठवा दो और जब तक हम घर न जाय, तब तक तुम यहीं हमारे पास रहो।' 'यह क्या कहती हो! मैं तुम्हारे समीप बैठा रहूँगा तो मेरी गायें कौन फेरेगा? वे इधर-उधर भाग गयीं तो साँझको मैया मारेगी मुझे।' 'तो फिर तुम जल अपने आप पी लो। हम जाकर तुम्हारी मैयासे कह देंगी कि कन्हैयाने जमना झूठी कर दी है। अब वह जल नारायणकी सेवापूजाके योग्य नहीं रहा।' 'अच्छी बात है सखियों! जो तुम कहोगी वही करूँगा; लाओ जल पिलाओ।' 'नंदा! तेरा घड़ा छोटा है, इससे अच्छी धार बँधेगी।'-सुमतिने नंदासे घड़ा लेकर श्यामकी अंजलीमें जल ढालना आरम्भ किया और अन्य सखियाँ अपनी छूटी हुई चर्चाका सुत्र पुनः थामने लगीं। 'क्या कह रही थी वसुधा! तू?'– इन्दूलेखा जीजीने पूछा। । 'कल मेरे बाबाके पास कोई साधु-महात्मा आये थे। वे बाबासे कहने लगे–यहाँ नंदग्राममें परात्पर-ब्रह्मने अवतार लिया है, मैं दर्शनके लिये आया हूँ। वे किसके घरमें अवतीर्ण हुए हैं, कृपा करके मुझे दर्शन करा दो।'वसुधाकी बात सुन सखियाँ मुस्कराने लगीं। 'अच्छा ! फिर तेरे बाबाने क्या उत्तर दिया?' - .... बाबा बेचारे समझे ही नहीं। बोले- क्या कहते हैं महाराज; कैसा परात्पर-ब्रह्म ! हम तो नहीं जानते वह कौन है कैसा है?' साधु घिघियाके बोले-'अरे भैया! भगवान् नारायणने अवतार लिया है। मुझे भुलाओ मत, दर्शन करा दो।' बाबा तो बेचारे अचकचाकर अपने चारों ओर देखने लगे और हाथ जोड़ कर बोले-'नहीं महाराज! हमको नहीं मालूम । यदि नारायणदेव पधारे होते, तो हम सब उनकी पूजा करनेको दौड़ पड़ते !' 'साक्षात नहीं भैया! बालक रूप धारण किया है उन्होंने।'-साधु बोले। 'अब बालक तो महाराज! व्रजकी गली-गलीमें दौड़ते फिरें, न जाने कौनसे नारायणदेव हैं। उनका कुछ अता-पता और चिन्ह बतायें तो कहूँ।' 'सुन भैया! नीलकमल-सा साँवला रंग है, कमलसे कोमल और विशाल नेत्र हैं, धुंघराले केश हैं, छातीमें श्रीवत्सको चिन्ह है, बड़ी मनमोहिनी छवि है देखनेसे तृप्ति न हो ऐसा मनमोहन रूप होगा।' 'ऐसा तो हमारा कन्हैया है महाराज!' बाबा बोले-'पर वह तो महाऊधमी है; नंदरायके बुढ़ापेका पूत है। पर मनुष्यकी कौन कहे, पशु-पक्षी भी उसे घेरे रहते हैं।' 'बस-बस भैया! मैं उनके ही दर्शन चाहता हूँ ! कहाँ होंगे इस समय वे आनंद-घन?' 'जमुना किनारे चले जाओ महाराज; वहीं कहीं गायें चराता होगा!' 'अच्छा वसुधा ! क्या नाम बताया साधु बाबाने?' 'इनसे ही पूछ लो न!'-सुमतिने जल पिलाते हुए कहा। एकाएक श्यामसुंदरको हँसी आ गयी, मुखमें भरा सारा जल फुहारके 4 'परात्पर-ब्रह्म।' 'यह क्या होता है सखी?'-एकने पूछा। मन धावत मग छोर रूपमें घड़ेके भीतर और समीप खड़ी सखियोंपर पड़ा। नंदा खीजकर बोली-'यह क्या किया तुमने? मैयाने नारायणकी पूजाके लिये जल मँगाया था, तुमने घड़ा जूठाकर दिया। मैया मारेगी मुझे !' कन्हाई खड़े हो गये–'मैं क्या करूँ सखी! तुम्हारे परात्पर-पुरुषकी व्याख्या पची नहीं, सो उछलकर बाहर आ गयी।' सब खिलखिलाकर हँस पड़ी। 'लो सखियों! तुम्हारे घड़े उठवा दूँ। मेरी गैया भाग गयी होंगी तो सब सखा पंचायती मार लगायेंगे और नंदा घड़ा झूठा करनेके अपराधमें साँझको मैयासे पिटवायेगी, सो अलग। मुँह क्या देख रही है मेरा! घर जाकर दूसरा घड़ा भरकर ले जा! नारायण बेचारे झूठे घड़ेके पानीसे नहाकर खिसिया जायेंगे।' 'श्याम ! तुमने तो हम सबको जूठा कर दिया। देखो न, तुम्हारे छोटेसे मुखसे कितना सारा पानी निकला कि हम सबकी सब भीग गयीं।' किंतु उनकी बात सुननेसे पूर्व ही श्यामसुंदर वंशीवटकी ओर भाग छूटे पटकेके छोर और घुघराली अलकें वायुके वेगसे लहरा रही हैं। बंसी फेंटमें खोस ली है और दाहिने हाथमें लकुट लिये दौड़े जा रहे हैं। सखियां खड़ी अपलक निहार रही हैं।- 👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣👣 🍁💦🙏Զเधे👣Զเधे🙏🏻💦🍁 जो लोग ठाकुर जी से प्रेम करते हैं.....🌸🌺 प्रेम से लिखें श्री राधे राधे..🍂🌺🍂 *जय-जय श्री राधेकृष्णा 🌺🙇

+77 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 51 शेयर

+65 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 71 शेयर
Kailash Prasad Jan 21, 2022

+82 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 61 शेयर
Kanta Kamra Jan 21, 2022

+29 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 89 शेयर
Kanta Kamra Jan 21, 2022

+82 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 42 शेयर
Malti Bansal Jan 21, 2022

+8 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 52 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB