कापी मरती गायों का आक्रोश चीतों के बहाने केन्द्र की तरफ मोड़ दिया गया है, यह छल भी गौहत्या से कम नहीं है। पहली बात, गौ बचेगी गौपालक के घर पर पालन पोषण से। यह एक मंहगा सौदा है। एक गाय का खर्च एक व्यक्ति के बराबर आता है, व्यवहारिक रूप से सभी इसे जानते हैं। आज बहुत कम गौपालक बचे हैं। जिनमें साहस है, त्याग की भावना है, परम्परा के प्रति आस्था है, जिनकी गृहिणी सेवाभावी है वहीं गाय बची हुई है। गौशाला तो अनाथालय जैसी व्यवस्था है, यह कोई स्वस्थ समाज की निशानी नहीं है। वृद्धाश्रम में मां बाप छोड़ो या गौशाला में गाय, एक ही बात है। सच्चाई तो यह है कि गौशालाओं में काम करने को हिन्दू कर्मचारी तक नहीं मिलते, वह भी अधिकांश #उनके ही भरोसे है। अतः गाय के लिए टेसुए बहाने का पाखंड बन्द करो। न तुम पाल सकते हो न सेवा कर सकते हो, कभी इधर लेटर, कभी उधर लेटर, यह सब ढोंग है। जब आपके पिता या पुत्र मरणासन्न हों तब लेटरबाजी नहीं की जाती। मैं यह नहीं कहता कि इस सारी अव्यवस्था के लिए आप जिम्मेदार हैं लेकिन #हमसब_उत्तरदायी हैं। कटते जंगल, लुटते खेत, तबाह होते गोचर, नकली दूध से काम चला लेना, ट्रैक्टर का उपयोग, सरकारी नीतियां, भौतिकता और #सुखकी_मिथ्या_परिभाषा ने आज भारतभूमि को वहाँ लाकर खड़ा कर दिया है जिसमें गायों को कोई स्थान नहीं है। गौशाला में भी मरना है और सड़क पर भी मरना है क्योंकि घर पर पालने की औकात है नहीं। ऊपर से मां भी कहना है। बिना परिवार के गाय, बछड़े, बैल, सड़क किनारे छोड़े गए अवैध बच्चों जैसे हैं जिनके लिए हाहाकार तो सब करते हैं लेकिन घर में कोई नहीं रखना चाहता। ऐसे पाखंडियों के देश में गाय भला क्योंकर जीवित रहेगी। लम्पि तो एक बहाना है। जिसने अपने भरे पूरे खेत सहित वृद्ध दादा दादी को गाँव में सड़ता छोड़ शहर में फ्लैट की शरण ली है वह भी गायों पर लिख रहा है। जिसने अपने खेत के पास की पड़त भूमि को भी तारबंदी में समेट लिया है, जिसने अपने खेत को कन्वर्ट करा, प्लॉट बेच डाले हैं, जिसने सड़क के पास वाली खाली 70 फीट जगह भी घेरकर खेत में मिला ली है, जिसने ओरण गोचर में भी ट्यूबवेल करा दिए हैं, जिनकी महिलाएं अपने घर के आगे गाय को बैठा हुआ भी देखना पसंद नहीं करती, जिसे दूधिया के 5 रुपये बढ़ाकर चुकाने में भी मिर्गी आ जाती है, वे लोग भी गाय बचाने की चीख पुकार कर रहे हैं, उसमें दर्द कम और राजनीति अधिक प्रतीत होती है। रोज देखता हूँ, दूध देने वाली गायें सब्जीमंडी में लट्ठ खा रही हैं, सरकारी जमीन पर खेत बनाकर उन्हें करंट दिया जा रहा है। उनके पीछे मोटरसाइकिल और ट्रैक्टर दिए जा रहे हैं। गायों के पानी पीने के स्रोत में कुत्ते, गन्दगी और पॉलीथिन पड़े हैं। छोटे छोटे बछड़े उनकी मांओं से अलग कर लोग टेम्पो से उतार कर जंगलों में छोड़ रहे हैं जिनके गले की रस्सी तक नहीं कटी होती, वे बड़े होकर दम घुटने से वहीँ मर जाते हैं। दुधारू गायें आराम से सड़क पर पसरी बैठी रहती हैं। कार पार्किंग के लिए जगह है, गैराज है, धुलाई की मशीन है, कवर है लेकिन गाय के लिए सब कम पड़ जाता है। यद्यपि, जीवन-मरण-रोग और आपदा पर हमारा बस नहीं, मानते हैं कि जो लोग गाय का दर्द देखकर कुछ करने के लिए तड़प रहे हैं, उनकी परिस्थितियों ने उन्हें गौपालन लायक नहीं छोड़ा तो भी वे इस हेतु दान, पुण्य, जप, ईश्वर आराधना और हवन आदि तो कर ही सकते हैं। आपके खूंटे पर बंधी गाय दर्द से तड़प रही है, निश्चित ही वह आपके और आपके परिवार के संकटों को अपने ऊपर ढो रही है, इस कृतज्ञ भावना से इन्हीं के इर्दगिर्द उपाय कीजिए। अशोक गहलोत अथवा नरेन्द्र मोदी आपके द्वार नहीं आने वाले, वे अधिक से अधिक अपने अधिकारियों कर्मचारियों को कोई आदेश देंगे और देखना, वे आपके ही भाई बन्धु होंगे जो आएंगे, चक्कर लगाएंगे, परिस्थितियों का रोना रोयेंगे और चले जाएंगे। अंत में पुनः निवेदन है:- गाय पालना श्रद्धा का विषय है, जैसे हम मंदिर जाते हैं, प्रत्यक्ष लाभ कुछ भी नहीं। लेकिन तत्त्वदर्शियों को मंदिर के अनेक लाभ दिखते हैं वैसा ही गाय पालन है। अपने हाथों से कुछ कर सकते हैं तो कीजिए, जो कर रहे हैं उन्हें सहयोग दीजिये, जिस विधि से होना चाहिए वैसे कोशिश कीजिए अन्यथा अपनी माँ की लाश के नाम पर भावुक रुदन बन्द कीजिए। Kumar S

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
BHARAT NIRMAL Oct 1, 2022

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
heera Oct 1, 2022

0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Rama Devi Sahu Oct 1, 2022

+6 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 26 शेयर

🤱Ⓜ️🅿️ ((* 01 अक्टूबर 2022 अक्टूबर महीने के पहले। शुभ संध्या शनिवार की हार्दिक शुभकामनाएं ।💦🥀 💦🥀💦🥀💦🥀 एवं बहुत-बहुत बधाइयां जी आप सभी को शुभ दिन शनिवार एवं षष्टि व्रत विश्व शाकाहारी🥀💦🥀💦🥀💦 दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं जी ♨️🥀 🌾🪐आपको तथा आपके परिवार को नवरात्रि की छठवें दिवस शनिवार की हार्दिक शुभकामनाएं 🥀🪐🥀🪐🥀जय मां कात्यायनी जय शनि देव महाराज की जय🥀 हो*पवन पुत्र हनुमान जी एवं शारदीय नवरात्रि माता रानी// का छठवां स्वरूप मां कात्यायनी🥀 शनि देव हनुमान जी! की कृपा आप और आपके परिवार पर बनी रहे जी,।।♨️⛳जरा प्रेम से बोलो जय माता दी सारे बोलो जय' माता दी#सब मिलकर बोलो जय मातादी🥀माता रानी की♨️ सदा ही जय हो🥀🥀🥀🥀🌷⛳ ‼️♨️ शुभ संध्या वंदन जी # की राम राम जी ⛳ 🌹⛳मैया जी की कृपा दृष्टि सदा ही,आप और आपके!! परिवार पर बनी रहे जी //जरा प्रेम से बोलिए जय माता दी सारे बोलो जय माता दी माता रानी की सदा ही जय हो!💦 🥀🌸🥀 शुभ संध्या वंदन 🌷 शुभकामनाएं 🥀🌸 🙏 आपका आज का दिन⛳ सुखद एवं सुखमय हो 🙏 🦁🪔🎎 जय माता दी स्पेशल नवरात्रि 🎎🪔‼️ ‼️🥀🥀🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🥀🥀‼️

+14 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 26 शेयर
heera Oct 1, 2022

0 कॉमेंट्स • 6 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB