nutan
nutan Nov 26, 2021

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Amishra Jan 21, 2022

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Dilip Jan 21, 2022

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Drgopal Tanwar Jan 21, 2022

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर

🙏🌹🔱 जय श्री बजरंग बली की🔱🌹🙏 🌾💞🌾💞🌾💞🌾💞🌾💞🌾💞🌾 शुभ प्रभात वंदन आपका दिन शुभ और मंगलमय हो 🌻❤️🌻❤️🌻❤️🌻❤️🌻❤️🌻❤️🌻❤️🌻 रामकथा सुरधेनु सम सेवत सब सुख दानि। सतसमाज सुरलोक सब को न सुनै अस जानि ???।। मित्रों! सुख खानि, सुख दानि में कुछ अंतर है क्योंकि पर्वत में कई रत्न छिपे हुए हैं यह सभी जान नहीं सकते। यदि जान गए तो खुदाई आदि बिना परिश्रम के रत्न पा नहीं सकते। यदि पाए तो उसे परिष्कृत करना पड़ता है। अतः ज्ञान को रत्न के खानि कहते हैं। ज्ञान पंथ को कृपाण के धार कहते हैं। हम भक्ति को सुख दानि समझते हैं, श्रीराम कथा को सुख दानि समझते हैं । दानि बुने हुए वस्त्र, बने हुए भोजन या बने हुए आभूषण दे सकता है लेकिन खानि से यह असंभव है। शिव जी माता पार्वती जी से कहते हैं कि- हे उमे ! श्रीराम कथा स्वर्ग के कामधेनु के समान है। संसार की धेनु सेवा करने से हमें दूध देती हैं लेकिन कामधेनु को सेवन करने से धर्म, अर्थ आदि की भी पूर्ति होती है। कामधेनु सेवन से राजा दिलीप आदि कितने का कल्याण हो गया। भोलेनाथ माता पार्वती जी से श्रीराम कथा को कामधेनु के समान कहते हैं तो श्रीराम कथा प्राप्ति हेतु किनको सेवन करना चाहिए??? बिनु सतसंग न हरि कथा तेहि बिनु मोह न भाग। मोह गए बिनु राम पद होइ न दृढ़ अनुराग।। श्रीराम कथा प्राप्ति हेतु हमें जैसे काकभुसुंडी जी , माता पार्वती जी, भारद्वाज जी, गरुड़ जी आदि जैसे श्रीराम कथा के जानकार को सेवन करना होगा। माता पार्वती जी, भारद्वाज मुनि जैसे विनम्र होना होगा। सुरधेनु स्वर्ग में मिल सकती है लेकिन सतसंगति, श्रीराम कथा स्वर्ग में असंभव है जिस कारण देवर्षि नारद मुनि, सनक , स्यनंदन सनातन, सनत्कुमार जैसे ब्रह्म ज्ञानी को भी श्रीराम कथा श्रवण करने पृथ्वी लोक पर आना पड़ता है। स्वयं ब्रह्मा जी भी नारद मुनि के माध्यम से श्रीराम चरित श्रवण करते हैं। मित्रों! जब संत समाज, देवलोक भी सुख खानि के स्थान पर सुख दानि को महत्व देते हैं तो हम मंदमति , खल , कामी को ...निज संदेह मोह भ्रम हरनी...संसय बिहग उड़ावनिहारी...श्रीराम कथा ...परम विश्राम प्रदाता श्रीराम कथा अवश्य सेवन करना चाहिए। को न सुनै अस जानि??- श्रीराम कथा को सुख दानि समझ कर भी यदि हम सेवन नहीं करते हैं तो ...जानिअ प्रथम मोहि मूढ़ समाजा... 🙏🙏🙏🙏 सीताराम जय सीताराम सीताराम जय सीताराम

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
AJAY Jan 21, 2022

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर
sunita Upadhyay Jan 21, 2022

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर
vandana Jan 21, 2022

+17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 14 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB