Meena Dubey
Meena Dubey Sep 13, 2021

Radha astmi ki hardik shubh kamnay mere sbhi mitro ko bolo Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Radhy Krishna shubh ratree 💞🍬💞🍬💞🍬💞🍬💞🍬💞🍬💞🍬💞🍬💞🍬

+61 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 82 शेयर

कामेंट्स

SANTOSH YADAV Sep 13, 2021
जय श्री राधे राधे शुभ मंगलवार वंदन जी

Vineeta Tripathi Sep 13, 2021
Jai sri radhe krishna ji 🙏🙏 Subh ratri Ji 🌹🌹 Radhe ki kripa aapki Femili p bni rhe ☘️☘️

Bhagat ram Sep 13, 2021
🌹🌹 जय श्री राधे राधे जी 🙏🙏🌺💐🌿🌹 शुभ रात्रि वंदन जी 🙏🙏🌺💐🌿🌹🌹

🌿राधे राधे🌿 Sep 13, 2021
जय श्री राधे राधे बहन 🙏🌼🌹💐🌺🌵🍍🥀🌿🌷🌴🌻शुभ रात्रि स्नेह वंदन बहन जी 🙏🌼🌹🥀🍍🌵🌺💐🌿🌷🌴🌻

🔴 Suresh Kumar 🔴 Sep 13, 2021
राधा रानी सरकार की जय 🙏 शुभ रात्रि वंदन मेरी बहन। आपका आने वाला कल खुशियों से भरा हो मेरी प्यारी बहन 🍎 🌿🌿🌿🌿🌲☘️☘️☘️☘️

GOVIND CHOUHAN Sep 13, 2021
Jai Shree Radhe Krishna Jiii 🌺🙏 Shubh Raatri Vandan Jiii 🙏🙏

Arjun.Mo.91 9879770109 Sep 13, 2021
👌🌹Aap ko Bhe, Radha Astmi Hardik Shubh maglmei Kamnayein Behen ji Radhe Radhe ji jai shree Krishna 🙏💐🙏Shubh Raati vandan ji

Shivbrat divedi rewa mp Kaaku Sep 13, 2021
🌹🌿हे भोलेनाथ 🌿🌹 मेरी तमन्ना करना पूरी 🌹🌿मेरे जान की दुश्मन की कोई भी इक्षा रहे ना अधूरी🙏🙏 🌿🌹🌿🌹🌿🌹शुभ रात्री विश्राम 🌿🌹सुख मय रात्रि हो आपकी मीना जी 🌹🌹🌿🌹

Balraj SETHI Sep 13, 2021
🙏Om Jai Shree Radhe Radhe. 🙏🌹🌹🌷🌷🍁

,,, Sep 14, 2021
🏹🏹 जय श्री राम 🏹🏹 🚩🚩 ॐ हनुमते नमः 🙏🚩 🌾 जय श्री राधे कृष्णा 🌾 राधे राधे बहना जी शुभ प्रभात सादर वंदन 🙏 आपका दिन शुभ हो🪴 हिंदी दिवस की हार्दिक हार्दिक बधाई 🎉🎉 आपको और आपके परिवार को राधा अष्टमी की अनंत शुभकामनाएं 🎉🎉 राधारानी जी की कृपा दृष्टि आपके परिवार पर बनी रहे आप सदा खुश रहें बहना जी 🙏🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴

sukhadev awari Oct 25, 2021

+64 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 19 शेयर
ritu saini Oct 25, 2021

+31 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 45 शेयर
krisha dance Oct 25, 2021

+12 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 10 शेयर

꧁🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥꧂ ꧁💥श्रीसिद्धिविनायक पंचांग💥꧂ 🌷🌹🍂🍃💐🌻🌺💐. ┈━❀꧁ 🐀🐁🐀 ꧂❀----- 🔔°•🔔•°🔔°•🌄•°🔔°•🔔•°🔔 🦚🦚🦚🦚 जय श्री महाकालेश्वर विश्वेश्वराय नरकार्णव तारणाय कर्णामृताय शशिशेखर धारणाय कर्पूरकान्ति धवलाय जटाधराय दारिद्र्यदुःख दहनाय नमश्शिवाय गौरीप्रियाय रजनीश कलाधराय कालान्तकाय भुजगाधिप कङ्कणाय गङ्गाधराय गजराज विमर्धनाय दारिद्र्यदुःख दहनाय नम:शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ ऐं क्लीं सोमाय नमः । ॐ श्रां श्रीं श्रीं सः चन्द्राय नमः । सुप्रभातम् ॐ श्रीगणेशाय नमः अथ् पंचांगम् दिनाँक 25-10-2021 सोमवार अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80" अम्बाला शहर हरियाणा, पिन कोड- 134 007 ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥ ॐ भोलेनाथ नमः, ॐ कैलाश पति नमः,ॐ भूतनाथ नमः, ॐ नंदराज नमः,ॐ नन्दी की सवारी नमः, ॐ ज्योतिलिंग नमः,ॐ महा काल नमः ॐ रुद्रनाथ नमः,ॐ भीमशंकर नमः ॐ नटराज नमः ॐ प्रलेयन्कार नमः,ॐ चंद्रमोली नमः, ॐ डमरूधारी नमः,ॐ चंद्रधारी नमः ॐ मलिकार्जुन नमः,ॐ भीमेश्वर नमः, ॐ विषधारी नमः,ॐ बम भोले नमः, ॐ ओंकार स्वामी नमः, ॐ ओंकारेश्वर नमः, ॐ शंकर त्रिशूलधारी नमः ॐ विश्वनाथ नमः,ॐ अनादिदेव नमः, ॐ उमापति नमः,ॐ गोरापति नमः, ॐ गणपिता नमः,ॐ भोले बाबा नमः, ॐ शिवजी नमः,ॐ शम्भु नमः, ॐ नीलकंठ नमः ॐ महाकालेश्वर नमः,ॐ त्रिपुरारी नमः, ॐ त्रिलोकनाथ नमः,ॐ त्रिनेत्रधारी नमः, ॐ बर्फानी बाबा नमः,ॐ जगतपिता नमः, ॐ मृत्युन्जन नमः,ॐ नागधारी नमः, ॐ रामेश्वर नमः,ॐ लंकेश्वर नमः, ॐ अमरनाथ नमः,ॐ केदारनाथ नमः, ॐ मंगलेश्वर नमः,ॐ अर्धनारीश्वर नमः, ॐ नागार्जुन नमः,ॐ जटाधारी नमः, ॐ नीलेश्वर नमः,ॐ गलसर्पमाला नमः, ॐ दीनानाथ नमः,ॐ सोमनाथ नमः, ॐ जोगी नमः,ॐ भंडारी बाबा नमः, ॐ बमलेहरी नमः,ॐ गोरीशंकर नमः, ॐ शिवाकांत नमः,ॐ महेश्वराए नमः, ॐ महेश नमः,ॐ ओलोकानाथ नमः, ॐ आदिनाथ नमः,ॐ देवदेवेश्वर नमः, ॐ प्राणनाथ नमः,ॐ शिवम् नमः, ॐ महादानी नमः,ॐ शिवदानी नमः, ॐ संकटहारी नमः,ॐ महेश्वर नमः, ॐ रुंडमालाधारी नमः, ॐ जगपालनकर्ता नमः ॐ पशुपति नमः,ॐ संगमेश्वर नमः, ॐ दक्षेश्वर नमः,ॐ घ्रेनश्वर नमः, ॐ मणिमहेश नमः,ॐ अनादी नमः, ॐ अमर नमः, ॐ आशुतोष महाराज नमः ॐ विलवकेश्वर नमः,ॐ अचलेश्वर नमः, ॐ अभयंकर नमः,ॐ पातालेश्वर नमः, ॐ धूधेश्वर नमः,ॐ सर्पधारी नमः, ॐ त्रिलोकिनरेश नमः,ॐ हठ योगी नमः, ॐ विश्लेश्वर नमः,ॐ नागाधिराज नमः, ॐ सर्वेश्वर नमः,ॐ उमाकांत नमः, ॐ बाबा चंद्रेश्वर नमः,ॐ त्रिकालदर्शी नमः ॐ त्रिलोकी स्वामी नमः,ॐ महादेव नमः ॐ गढ़शंकर नमः,ॐ मुक्तेश्वर नमः, ॐ नटेश्वर नमः,ॐ गिरजापति नमः, ॐ भद्रेश्वर नमः,ॐ त्रिपुनाशक नमः, ॐ निर्जेश्वर नमः,ॐ किरातेश्वर नमः, ॐ जागेश्वर नमः, ॐ अबधूतपति नमः, ॐ भीलपति नमः,ॐ जितनाथ नमः, ॐ वृषेश्वर नमः, ॐ भूतेश्वर नमः ॐ बैजनाथ नमःॐ नागेश्वर नमः 🙏🏿🙏🏿🙏🏿 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ┉┅━❀꧁🐀🐁🐀꧂❀━┅ -----समाप्तिकाल---- 📒 तिथि पंचमी पूर्ण रात्रि ☄️ नक्षत्र मृगशिरा 28:11:09 🛑 करण कौलव 19:07:19 🔒 पक्ष कृष्ण 🛑 योग परिघ 24:35:10 🗝️ वार सोमवार 🌄 सूर्योदय 06:31:17 🌃 चन्द्रोदय 20:48:00 🌙 चन्द्र 🐂 वृषभ - 14:37:13 तक 🌌 सूर्यास्त 17:41:57 🌑 चन्द्रास्त 10:35:00 ☃️ ऋतु हेमंत 🛑 शक सम्वत 1943 प्लव 🛑 कलि सम्वत 5123 🛑 दिन काल 11:10:39 🛑 विक्रम सम्वत 2078 🛑 मास अमांत आश्विन 🛑 मास पूर्णिमांत कार्तिक 📯 शुभ समय 🥁 अभिजित 11:44:16 - 12:28:58 ⚫ दुष्टमुहूर्त : 12:28:58 - 13:13:41 14:43:06 - 15:27:49 ⚫ कंटक 08:45:25 - 09:30:08 ⚫ यमघण्ट 11:44:16 - 12:28:58 😈 राहु काल 07:55:07 - 09:18:57 ⚫ कुलिक 14:43:06 - 15:27:49 ⚫ कालवेला 10:14:50 - 10:59:33 ⚫ यमगण्ड 10:42:47 - 12:06:37 ⚫ गुलिक 13:30:27 - 14:54:17 🛑 दिशा शूल पूर्व 💥💥💥💥होरा 🛑चन्द्रमा 06:31:17 - 07:27:11 🛑शनि 07:27:11 - 08:23:04 🛑बृहस्पति 08:23:04 - 09:18:57 🛑मंगल 09:18:57 - 10:14:51 🛑सूर्य 10:14:51 - 11:10:44 🛑शुक्र 11:10:44 - 12:06:37 🛑बुध 12:06:37 - 13:02:30 🛑चन्द्रमा 13:02:30 - 13:58:24 🛑शनि 13:58:24 - 14:54:17 🛑बृहस्पति 14:54:17 - 15:50:10 🛑मंगल 15:50:10 - 16:46:03 🛑सूर्य 16:46:03 - 17:41:57 🛑शुक्र 17:41:57 - 18:46:07 🛑बुध 18:46:07 - 19:50:17 🛑चन्द्रमा 19:50:17 - 20:54:27 🛑शनि 20:54:27 - 21:58:38 💥💥💥💥 चोघडिया ⛩️अमृत 06:31:17 - 07:55:07 😈काल 07:55:07 - 09:18:57 ⛩️शुभ 09:18:57 - 10:42:47 ☘️रोग 10:42:47 - 12:06:37 ⚫उद्वेग 12:06:37 - 13:30:27 🛑चल 13:30:27 - 14:54:17 ⛩️लाभ 14:54:17 - 16:18:07 ⛩️अमृत 16:18:07 - 17:41:57 🛑चल 17:41:57 - 19:18:12 ☘️रोग 19:18:12 - 20:54:27 ⚫काल 20:54:27 - 22:30:43 किस चौघड़िया में क्या करें 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ┉━❀꧁🐀🐁🐀꧂❀━┅ दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। शास्त्रानुसार प्रत्येक चौघड़िया में निम्नानुसार कार्य किये जाने प्रस्तावित होते हैं:- 👉🏿🛑 चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । 👉🏿⚫उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । 👉🏿⛩️शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । 👉🏿⛩️लाभ में व्यापार करें । 👉🏿☘️रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । 👉🏿⚫काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । 👉🏿⛩️अमृत में सभी शुभ कार्य । ꧁ दैनिक ग्रह गोचर ꧂ 🌞 सूर्य - तुला ⚖️ 🌙 चन्द्र - वृष 🐂 ⚫ मंगल - तुला ⚖️ ⚫ बुध - तुला ⚖️ ⚫ बृहस्पति - कुम्भ 🏺 ⚫ शुक्र - वृश्चिक 🦂 ⚫ शनि - मकर 🐊 😈 राहु - वृष 🐂 👖 केतु - वृश्चिक 🦂 ------------------------------------ व्रत त्योहार 31 अक्टूबर तक 🐹🐭🐭🐭 🛑 सोमवार 25 अक्टूबर 🛑 मंगलवार 26 अक्टूबर 🛑 बुधवार 27अक्टूबर 👉भद्रा 10:51 से 23:51 तक 👉स्कंद षष्ठी 🛑गुरुवार 28 अक्टूबर 👉अहोई अष्टमी व्रत (चंद्रोदय व्यापिनी)-यह व्रत भी प्रदोष व्यापिनी अष्टमी के दिन संतान व पति के कल्याण हेतु किया जाता है। 👉बुध चित्र में 16:52 🛑 शुक्रवार 29 अक्टूबर 👉 राधा अष्टमी (मथुरा)राधा कुंड स्नान, गंड मूल 11:36 से 🛑शनिवार 30 अक्टूबर 👉भद्रा 26:36 से 👉शुक्र मूल1, धनु में 16:10 🛑रविवार 31 अक्टूबर 👉भद्रा 14:28 तक 👉 मंगल स्वाति में 25:18 👉🏿सरदार पटेल जयंती (एकता दिवस) 👉गंड मूल 13:16 व्यापार तेजी मंदा 31 अक्तूबर तक 🐰🐰🐰 🛑28 अक्टूबर को बुध चित्र में आकर मंगल के साथ नक्षत्र संबंध बनाएगा। रूई चांदी गुड़ मूंग चना आदि में गड़बड़ी के बाद कुछ तेजी बनेगी। 🛑30 अक्टूबर को 👉शुक्र धनु राशि ⚖️में आने से गेहूं चना आदि अनाज सोना चांदी तांबा आदि धातुओं वस्त्रों शेयरों में विशेष तेजी बने। रूई सूत कपास में पहले मंदी बनकर बाद में तेजी बने । 🛑 31 अक्टूबर को मंगल स्वाति नक्षत्र में आने से रुई वस्त्र उद्योग तिल तेल में तेजी बने। सोना चांदी में गड़बड़ी के बाद कुछ मंदी बने। 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ┉┅━❀꧁🐀🐁🐀꧂❀━┅ दैनिक भविष्यफल 👩‍❤️‍👨🦀🦁👩🏻‍🦱⚖️🏹🐬 ✒️ नोटः प्रस्तुत भविष्यफल में और आपकी कुंडली व राशि के ग्रहों के आधार पर आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में कुछ भिन्नता हो सकती है । पूरी जानकारी के लिए किसी देवेज्ञ या भविष्यवक्ता से मिल सकते हैं। *🤷🏻‍♀ आज जिन भाई-बहनों /मित्रों का 🎂जन्मदिन या विवाह की वर्षगांठ 🥁📯 है , उन सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ तथा शुभ आशीर्वाद । प्रभु आपकी जीवन यात्रा सफल करें ।* 🐐मेष बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। लाभ के असवर हाथ आएंगे। यात्रा में सावधानी रखें। किसी पारिवारिक आनंदोत्सव में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। शत्रु पस्त होंगे। विवाद न करें। बेचैनी रहेगी। 🐂वृष वैवाहिक प्रस्ताव प्राप्त हो सकता है। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। सभी ओर से सफलता प्राप्त होगी। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। लाभ होगा। आशंका-कुशंका के चलते कार्य की गति धीमी रह सकती है। घर-परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्‍य की चिंता रहेगी। 👩‍❤️‍👨मिथुन जीवनसाथी से कहासुनी हो सकती है। संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। बेरोजगारी दूर होगी। करियर बनाने के अवसर प्राप्त होंगे। नौकरी में प्रशंसा प्राप्त होगी। पारिवारिक सहयोग से कार्य में आसानी होगी। दूसरों के कार्य में दखल न दें। प्रमाद से बचें। 🦀कर्क अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। यात्रा में जल्दबाजी न करें, नुकसान संभव है। चिंता तथा तनाव बने रहेंगे। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। स्वास्थ्‍य पर बड़ा खर्च हो सकता है। विवाद को बढ़ावा न दें। आय में कमी रहेगी। व्यवसाय की गति धीमी रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। बेचैनी रहेगी। 🦁सिंह मित्रों की सहायता कर पाएंगे। मेहनत का फल मिलेगा। मान-सम्मान मिलेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। नौकरी में उच्चाधिकारी की प्रसन्नता रहेगी। नया उपक्रम प्रारंभ करने की योजना बनेगी। व्यापार मनोनुकूल लाभ देगा। समय अनुकूल है। प्रसन्नता रहेगी। 👩🏻‍🦱कन्या समाजसेवा में रुझान रहेगा। प्रतिष्ठा बढ़ेगी। नई आर्थिक नीति बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। पुरानी व्याधि से परेशानी हो सकती है। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। व्यापार वृद्धि होगी। ऐश्वर्य पर व्यय होगा। भाइयों का सहयोग मिलेगा। समय अनुकूल है। लाभ लें। प्रमाद न करें। ⚖️तुला विवेक का प्रयोग लाभ में वृद्धि करेगा। कोई बड़ी बाधा से सामना हो सकता है। राजभय रहेगा। जल्दबाजी व विवाद करने से बचें। रुका हुआ धन मिल सकता है। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। किसी अपने के व्यवहार से दु:ख होगा। नौकरी में उच्चाधिकारी का ध्यान खुद की तरफ खींच पाएंगे। 🦂वृश्चिक प्रेम-प्रसंग में जल्दबाजी न करें। शारीरिक कष्ट से कार्य में रुकावट होगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। यात्रा मनोरंजक रहेगी। नौकरी में अनुकूलता रहेगी। लाभ में वृद्धि होगी। निवेश में जल्दबाजी न करें। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। जरूरी वस्तु गुम हो सकती है। 🏹धनु दूर से अच्‍छी खबर प्राप्त हो सकती है। आत्मविश्वास बढ़ेगा। कोई बड़ा काम करने की योजना बनेगी। पराक्रम व प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। घर में अतिथियों पर व्यय होगा। किसी मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। व्यवसाय ठीक चलेगा। शत्रु शांत रहेंगे। प्रसन्नता रहेगी। 🐊मकर धन का नुकसान या कोई बुरी खबर प्राप्त हो सकती है। पारिवारिक चिंताएं रहेंगी। मेहनत अधिक तथा लाभ कम होगा। दूसरों से अपेक्षा न करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। मातहतों का सहयोग नहीं मिलेगा। कुसंगति से बचें, हानि होगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। आय में निश्चितता रहेगी। प्रमाद न करें। 🏺कुंभ राजकीय अवरोध दूर होंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। धर्म-कर्म में मन लगेगा। व्यापार मनोनुकूल चलेगा। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। निवेश शुभ रहेगा। प्रभावशाली व्यक्तियों से परिचय होगा। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। प्रसन्नता रहेगी। जल्दबाजी न करें। 🐬मीन आय में निश्चितता रहेगी। व्यापार ठीक चलेगा। लाभ होगा। स्वास्थ्य कमजोर रहेगा। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। वाहन, मशीनरी व अग्नि आदि के प्रयोग में विशेषकर स्त्रियां सावधानी रखें। कार्यों की गति धीमी रहेगी। बु‍द्धि का प्रयोग करें। प्रयास अधिक करना पड़ेंगे। निराशा हावी रहेगी। आपका दिन शुभ हो। 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 ACHARYA ANIL PARASHAR, VADIC,KP ASTROLOGER.

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 20 शेयर
sukhadev awari Oct 23, 2021

+58 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 8 शेयर

. आज दिनांक 24.10.2021 रविवार तदनुसार कार्तिक कृष्ण चतुर्थी संवत् २०७८ है विवाहित स्त्रियों का अतिमहत्वपूर्ण व्रत :- "करवा चौथ" करवा चौथ का व्रत स्त्रियों का मुख्य त्यौहार है। यह व्रत सुहागन महिलायें अपने पति की दीर्घायु के लिए करती हैं। करवा चौथ का व्रत कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को सुहागन स्त्रियो द्वारा किया जाता है। यह व्रत हर विवाहित महिला अपने रिवाजो के अनुसार रखती है, और अपने जीवन साथी की अच्छी सेहत तथा अच्छी उम्र की प्रार्थना भगवान से करती है। आज कल यह व्रत कुँवारी लडकियाँ भी अच्छे पति की प्राप्ति के लिए रखती है। करवा चौथ व्रत की कथा जब भी कोई स्त्री करवा चौथ का व्रत करती है, तो वह व्रत के दौरान कथा सुनती है। व्रत के दौरान कथा सुनने की यह प्रथा प्राचीन काल से चली आ रही है। इस व्रत की कथा सुहागन स्त्रियों के द्वारा सुनी जाती है। कथा इस प्रकार है:- एक नगर में एक साहूकार रहता था। उसके सात लड़के और एक लड़की थी। कार्तिक महीने मे जब कृष्ण पक्ष की चतुर्थी आई, तो साहूकार के परिवार की महिलाओं ने भी करवा चौथ व्रत रखा। जब रात्री के समय साहूकार के बेटे भोजन ग्रहण करने बैठे, तो उन्होने साहूकार की बेटी (अपनी बहन) को भी साथ मे भोजन करने के लिए कहा। भाइयों के द्वारा भोजन करने का कहने पर उनकी बहन ने उत्तर दिया, कि आज मेरा व्रत है। मै चाँद के निकलने पर पूजा विधि सम्पन्न करके ही भोजन करूंगी। भाइयों के द्वारा बहन का भूख के कारण मुर्झाया हुआ चेहरा देखा नहीं गया। उन्होने अपनी बहन को भोजन कराने के लिए प्रयत्न किया। उन्होने घर के बाहर जाकर अग्नि जला दी। उस अग्नि का प्रकाश अपनी बहन को दिखाते हुये कहा कि देखो बहन चाँद निकाल आया है। तुम चाँद को अर्ध्य देकर और अपनी पूजा करके भोजन गृहण कर लो। अपने भाइयों द्वारा चाँद निकलने की बात सुनकर बहन ने अपनी भाभीयों के पास जाकर कहा। भाभी चाँद निकल आया है चलो पूजा कर ले। परंतु उसकी भाभी अपने पतियों द्वारा की गयी युक्ति को जानती थी। उन्होनें अपनी नन्द को भी इस बारे मे बताया और कहा की आप भी इनकी बात पर विश्वास ना करें। परंतु बहन ने भाभीयों की बात पर ध्यान ना देते हुये पूजन संपन्न कर भोजन गृहण कर लिया। इस प्रकार उसका व्रत टूट गया और गणेश जी उससे नाराज हो गए। इसके तुरंत बाद उसका पति बीमार हो गया, और घर का सारा रुपया पैसा और धन उसकी बीमारी ने खर्च हो गया। अब जब साहूकार की बेटी को अपने द्वारा किए गए गलत व्रत का पता चला तो उसे बहुत दुख हुआ। उसने अपनी गलती पर पश्चाताप किया। अब उसने पुनः पूरे विधि विधान से व्रत का पूजन किया तथा गणेश जी की आराधना की। इस बार उसके व्रत तथा श्रध्दा भक्ति को देखते हुये भगवान गणेश उस पर प्रसन्न हो गए। उसके पति को जीवन दान दिया और उसके परिवार को धन तथा संपत्ति प्रदान की। इस प्रकार जो भी श्रद्धा भक्ति से इस करवा चौथ के व्रत को करता है, वो सारे सांसारिक क्लेशों से मुक्त होकर प्रसन्नता पूर्वक अपना जीवन यापन करता है। करवा चौथ व्रत विधि 1. सूर्योदय से पहले स्नान कर के व्रत रखने का संकल्प लें और सास दृारा भेजी गई सरगी खाएं। सरगी में, मिठाई, फल, सेंवई, पूड़ी और साज-श्रृंगार का समान दिया जाता है। सरगी प्याज-लहसुन रहित होनी चाहिये। 2. सरगी करने के बाद करवा चौथ का निर्जल व्रत शुरु हो जाता है। मां पार्वती, महादेव शिव व गणेश जी का ध्यान पूरे दिन अपने मन में करती रहें। 3. दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्रित करें। इस चित्रित करने की कला को करवा धरना कहा जाता हैं, जो कि बड़ी पुरानी परंपरा है। 4. आठ पूरियों की अठावरी बनाएं। हलुआ बनाएं। पक्के पकवान बनाएं। 5. फिर पीली मिट्टी से मां गौरी और गणेश जी का स्वरूप बनाइये। मां गौरी की गोद में गणेश जी का स्वरूप बिठाइये। इन स्वरूपों की पूजा संध्याकाल के समय पूजा करने के काम आती है। 6. माता गौरी को लकड़ी के सिंहासन पर विराजें और उन्हें लाल रंग की चुनरी पहना कर अन्य सुहाग, श्रृंगार सामग्री अर्पित करें। फिर उनके सामने जल से भरा कलश रखें। 7. वायना (भेंट) देने के लिए मिट्टी का टोंटीदार करवा लें। गेहूं और ढक्कन में शक्कर का बूरा भर दें। उसके ऊपर दक्षिणा रखें। रोली से करवे पर स्वास्तिक बनाएं। 8. गौरी गणेश के स्वरूपों की पूजा करें। इस मंत्र का जाप करें - 'नमः शिवायै शर्वाण्यै सौभाग्यं संतति शुभाम्‌। प्रयच्छ भक्तियुक्तानां नारीणां हरवल्लभे॥' ज्यादातर महिलाएं अपने परिवार में प्रचलित प्रथा के अनुसार ही पूजा करती हैं। हर क्षेत्र के अनुसार पूजा करने का विधान और कथा अलग-अलग होती है। 9. अब करवा चौथ की कथा कहनी या फिर सुननी चाहिये। कथा सुनने के बाद आपको अपने घर के सभी वरिष्ठ लोगों का चरण स्पर्श कर लेना चाहिये। 10. रात्रि के समय छननी के प्रयोग से चंद्र दर्शन करें उसे अर्घ्य प्रदान करें। फिर पति के पैरों को छूते हुए उनका आर्शिवाद लें। फिर पति देव को प्रसाद दे कर भोजन करवाएं और बाद में खुद भी करें। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री राधे" " कुमार रौनक कश्यप " *******************************************

+15 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 7 शेयर

꧁🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥꧂ ꧁💥श्रीसिद्धिविनायक पंचांग💥꧂ 🌷🍂🍃☘️🌷☘🌹🌻🌸🌺. ━❀꧁ 卐🐭🐭🐭卐 ꧂❀┅ 🔔°•🔔•°🔔°•🌄•°🔔°•🔔•°🔔 🦚🦚🦚🦚 ॐ सूर्याय नम:, ॐ मित्राय नम:,ॐ रवये नम:,ॐ भानवे नम:, ॐ खगाय नम:,ॐ पूष्णे नम:, ॐ हिरण्यगर्भाय नम:,ॐ मारीचाय नम:, ॐ आदित्याय नम:, ॐ सावित्रे नम:, ॐ अर्काय नम:,ॐ भास्कराय नमः प्रातः स्मरामि खलु तत्सवितुर्वरेण्यं रूपं हि मण्डलमृचोऽथ तनुर्यजूंषि सामानि यस्य किरणाः प्रभवादिहेतुं ब्रह्माहरात्मकमलक्ष्यमचिन्त्यरूपम् । सुप्रभातम् ॐ श्रीगणेशाय नमः अथ् पंचांगम् दिनाँक 24-10-2021 रविवार, अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80" अम्बाला शहर, हरियाणा, पिन कोड 134 007 🙏🙏🙏 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ━❀꧁🐭🐭🐭꧂❀━┅ -समाप्तिकाल- 📒 तिथि चतुर्थी 29:46:02 ☄️ नक्षत्र रोहिणी 25:01:58 🛑 करण : बव 16:24:27 बालव 29:46:02 🔒 पक्ष कृष्ण 🛑 योग वरियान 23:32:34 🗝️ वार रविवार 🌄 सूर्योदय 06:30:33 🌃 चन्द्रोदय 20:04:59 🌙 चन्द्र राशि वृषभ 🐂 🌌सूर्यास्त 17:42:55 🌑 चन्द्रास्त 09:39:59 ☃️ ऋतु हेमंत 🛑 शक सम्वत 1943 प्लव 🛑 कलि सम्वत 5123 🛑 दिन काल 11:12:21 🛑 विक्रम सम्वत 2078 🛑 मास अमांत आश्विन 🛑 मास पूर्णिमांत कार्तिक 📯 शुभ समय 🥁 अभिजित 11:44:19 - 12:29:09 ⚫ दुष्टमुहूर्त 16:13:16 - 16:58:05 ⚫ कंटक 10:14:40 - 10:59:30 ⚫ यमघण्ट 13:13:58 - 13:58:47 😈 राहु काल 16:18:52 - 17:42:55 ⚫ कुलिक 16:13:16 - 16:58:05 ⚫ कालवेला 11:44:19 - 12:29:09 ⚫यमगण्ड 12:06:44 - 13:30:47 ⚫ गुलिक 14:54:49 - 16:18:52 🛑दिशा शूल पश्चिम 💥💥💥💥 होरा 🛑सूर्य 06:30:33 - 07:26:35 🛑शुक्र 07:26:35 - 08:22:37 🛑बुध 08:22:37 - 09:18:39 🛑चन्द्रमा 09:18:39 - 10:14:41 🛑शनि 10:14:41 - 11:10:42 🛑बृहस्पति 11:10:42 - 12:06:44 🛑मंगल 12:06:44 - 13:02:46 🛑सूर्य 13:02:46 - 13:58:48 🛑शुक्र 13:58:48 - 14:54:49 🛑बुध 14:54:49 - 15:50:51 🛑चन्द्रमा 15:50:51 - 16:46:53 🛑शनि 16:46:53 - 17:42:55 🛑बृहस्पति 17:42:55 - 18:46:56 🛑मंगल 18:46:56 - 19:50:58 🛑सूर्य 19:50:58 - 20:55:00 🛑शुक्र 20:55:00 - 21:59:02 💥💥💥💥चोघड़िया ⚫उद्वेग 06:30:33 - 07:54:36 🛑चल 07:54:36 - 09:18:39 ⛩️लाभ 09:18:39 - 10:42:41 ⛩️अमृत 10:42:41 - 12:06:44 ⚫काल 12:06:44 - 13:30:47 ⛩️शुभ 13:30:47 - 14:54:49 ☘️रोग 14:54:49 - 16:18:52 😈उद्वेग 16:18:52 - 17:42:55 ⛩️शुभ 17:42:55 - 19:18:57 ⛩️अमृत 19:18:57 - 20:55:00 🛑चल 20:55:00 - 22:31:03 किस चौघड़िया में क्या करें 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ┉━❀꧁🐀🐁🐀꧂❀━┅ दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। शास्त्रानुसार प्रत्येक चौघड़िया में निम्नानुसार कार्य किये जाने प्रस्तावित होते हैं:- 👉🏿🛑 चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । 👉🏿⚫उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । 👉🏿⛩️शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । 👉🏿⛩️लाभ में व्यापार करें । 👉🏿☘️रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । 👉🏿⚫काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । 👉🏿⛩️अमृत में सभी शुभ कार्य । ꧁ दैनिक ग्रह गोचर ꧂ 🌞 सूर्य - तुला ⚖️ 🌙 चन्द्र - वृष 🐂 ⚫ मंगल - तुला ⚖️ ⚫ बुध - तुला ⚖️ ⚫ बृहस्पति - कुम्भ 🏺 ⚫ शुक्र - वृश्चिक 🦂 ⚫ शनि - मकर 🐊 😈 राहु - वृष 🐂 👖 केतु - वृश्चिक 🦂 ------------------------------------ व्रत त्योहार 31 अक्टूबर तक 🐹🐭🐭🐭 🛑 रविवार 24 अक्टूबर 👉करवा चौथ व्रत (करक चतुर्थी )- यह व्रत सुहागिन स्त्रियां पति की मंगल कामना एवं आयु वृद्धि के लिए करती हैं। वह निराहार रहकर सायं काल को श्री गणेश पूजन, करवा दान करके चंद्रमा को अर्घ्य प्रदान कर पति की प्रतिष्ठा के उपरांत ही स्वयं भोजन करते हैं। 👉श्री गणेश चतुर्थी 👉 दशरथ चतुर्थी 🛑 सोमवार 25 अक्टूबर 🛑 मंगलवार 26 अक्टूबर 🛑 बुधवार 27अक्टूबर 👉भद्रा 10:51 से 23:51 तक 👉स्कंद षष्ठी 🛑गुरुवार 28 अक्टूबर 👉अहोई अष्टमी व्रत (चंद्रोदय व्यापिनी)-यह व्रत भी प्रदोष व्यापिनी अष्टमी के दिन संतान व पति के कल्याण हेतु किया जाता है। 👉बुध चित्र में 16:52 🛑 शुक्रवार 29 अक्टूबर 👉 राधा अष्टमी (मथुरा)राधा कुंड स्नान, गंड मूल 11:36 से 🛑शनिवार 30 अक्टूबर 👉भद्रा 26:36 से 👉शुक्र मूल1, धनु में 16:10 🛑रविवार 31 अक्टूबर 👉भद्रा 14:28 तक 👉 मंगल स्वाति में 25:18 👉🏿सरदार पटेल जयंती (एकता दिवस) 👉गंड मूल 13:16 व्यापार तेजी मंदा 31 अक्तूबर तक 🐰🐰🐰 🛑24 अक्टूबर को सूर्य स्वाति नक्षत्र में आकर रेशम कपड़ा सोना चांदी गुड़ शक्कर बिनौला सुपारी मिर्च अलसी सरसों गुग्गुल में तेजी बनेगी। 🛑28 अक्टूबर को बुध चित्र में आकर मंगल के साथ नक्षत्र संबंध बनाएगा। रूई चांदी गुड़ मूंग चना आदि में गड़बड़ी के बाद कुछ तेजी बनेगी। 🛑30 अक्टूबर को 👉शुक्र धनु राशि ⚖️में आने से गेहूं चना आदि अनाज सोना चांदी तांबा आदि धातुओं वस्त्रों शेयरों में विशेष तेजी बने। रूई सूत कपास में पहले मंदी बनकर बाद में तेजी बने । 🛑 31 अक्टूबर को मंगल स्वाति नक्षत्र में आने से रुई वस्त्र उद्योग तिल तेल में तेजी बने। सोना चांदी में गड़बड़ी के बाद कुछ मंदी बने। 🌷☘🌹🌻🌸🌺💐 ┉┅━❀꧁🐀🐁🐀꧂❀━┅ दैनिक भविष्यफल 👩‍❤️‍👨🦀🦁👩🏻‍🦱⚖️🏹🐬 ✒️ नोटः प्रस्तुत भविष्यफल में और आपकी कुंडली व राशि के ग्रहों के आधार पर आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में कुछ भिन्नता हो सकती है । पूरी जानकारी के लिए किसी देवेज्ञ या भविष्यवक्ता से मिल सकते हैं। *🤷🏻‍♀ आज जिन भाई-बहनों /मित्रों का 🎂जन्मदिन या विवाह की वर्षगांठ 🥁📯 है , उन सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ तथा शुभ आशीर्वाद । प्रभु आपकी जीवन यात्रा सफल करें ।* 🐐मेष व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। लॉटरी व सट्टे से दूर रहें। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। नौकरी में प्रमोशन प्राप्त हो सकता है। पार्टनरों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। आंखों का ख्याल रखें। अज्ञात भय सताएगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। कानूनी अड़चन आ सकती है। 🐂वृष प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। बेवजह कहासुनी हो सकती है। कानूनी अड़चन दूर होगी। व्यापार में वृद्धि होगी। नौकरी में सहकर्मियों का साथ मिलेगा। निवेश शुभ रहेगा। प्रसन्नता रहेगी। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। 👩‍❤️‍👨मिथुन स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। किसी अप‍रिचित पर अतिविश्वास न करें। विवाद से क्लेश होगा। दूसरों के उकसाने में न आएं। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। चिंता तथा तनाव रहेंगे। व्यवसाय की गति धीमी रहेगी। आय में निश्चितता रहेगी। कोई बड़ी समस्या आ सकती है। धैर्य रखें। 🦀कर्क शारीरिक कष्ट संभव है तथा तनाव रहेंगे। सुख के साधन प्राप्त होंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। लंबे समय से रुके कार्यों में गति आएगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। मित्रों का सहयोग मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🦁सिंह आराम तथा मनोरंजन के साधन उपलब्ध होंगे। यश बढ़ेगा। व्यापार वृद्धि होगी। नई योजना बनेगी जिसका तत्काल लाभ नहीं मिलेगा। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। नौकरी में उच्चाधिकारी प्रसन्न रहेंगे। प्रमाद न करें। 👩🏻‍🦱कन्या वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। पुराना रोग परेशानी का कारण रह सकता है। दूसरों के कार्य में दखल न दें। बड़ों की सलाह मानें। लाभ होगा। अपेक्षित कार्यों में विलंब होगा। मानसिक बेचैनी रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी। धैर्य रखें। ⚖️तुला घर के सदस्यों के स्वास्थ्य व अध्ययन संबंधी चिंता रहेगी। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का मौका मिलेगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। दुष्टजनों से दूरी बनाए रखें। निवेश शुभ रहेगा। व्यापार में वृद्धि होगी। नौकरी में उच्चाधिकारी सहयोग करेंगे। 🦂वृश्चिक शत्रु पस्त होंगे। सुख के साधन जुटेंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। पराक्रम बढ़ेगा। लंब समय से रुके कार्य सहज रूप से पूर्ण होंगे। कार्य की प्रशंसा होगी। शेयर मार्केट में सफलता मिलेगी। व्यापार-व्यवसाय में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकारी प्रसन्न रहेंगे। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। शुभ समय। 🏹धनु शत्रु हानि पहुंचा सकते हैं। दु:खद समाचार मिल सकता है। व्यर्थ भागदौड़ रहेगी। लाभ के अवसर हाथ से निकलेंगे। बेवजह कहासुनी हो सकती है। पुराना रोग उभर सकता है। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। व्यापार ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी। प्रयास अधिक करना पड़ेंगे। धैर्य रखें। 🐊मकर किसी अपने के व्यवहार से स्वाभिमान को ठेस पहुंच सकती है। शारीरिक कष्ट संभव है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। शत्रु पस्त होंगे। वाणी पर नियंत्रण रखें। स्थायी संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। आर्थिक उन्नति के प्रयास सफल होंगे। निवेश शुभ रहेगा। व्यापार में वृद्धि होगी। 🏺कुंभ घर में अतिथियों का आगमन होगा। व्यय होगा। दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। अज्ञात भय रहेगा। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। घर-बाहर प्रसन्नता का माहौल रहेगा। 🐬मीन धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। कोर्ट व कचहरी के काम मनोनुकूल रहेंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। कुबुद्धि हावी रहेगी। चिंता तथा तनाव रहेंगे। मित्रों से संबंध सुधरेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रह सकता है। आपका दिन शुभ हो । 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 ACHARYA ANIL PARASHAR, VADIC,KP ASTROLOGER.

+9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 49 शेयर
yogi Oct 24, 2021

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB