♦️♦️♦️ ⚜🕉⚜ ♦️♦️♦️ *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏* *🙏शुभप्रभातम् जी🙏* *इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..* *📝आज दिनांक 👉* *📜 23 जून 2022* *बृहस्पतिवार* *🏚नई दिल्ली अनुसार🏚* *🇮🇳शक सम्वत-* 1944 *🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2079 *🇮🇳मास-* आषाढ़ *🌓पक्ष-* कृष्णपक्ष *🗒तिथि-* दशमी - 21:43 तक *🗒पश्चात्-* एकादशी *🌠नक्षत्र-* रेवती - 06:14 तक *🌠पश्चात्-* अश्विनी *💫करण-* वणिज - 09:10 तक *💫पश्चात्-* विष्टि *✨योग-* अतिगण्ड - 28:51 तक *✨पश्चात्-* सुकर्मा *🌅सूर्योदय-* 05:24 *🌄सूर्यास्त-* 19:22 *🌙चन्द्रोदय-* 25:57 *🌛चन्द्रराशि-* मीन - 06:14 तक *🌛पश्चात्-* मेष *🌞सूर्यायण -* दक्षिणायन *🌞गोल-* उत्तरगोल *💡अभिजित-* 11:55 से 12:51 *🤖राहुकाल-* 14:07 से 15:52 *🎑ऋतु-* वर्षा *⏳दिशाशूल-* दक्षिण *✍विशेष👉* *_🔅आज बृहस्पतिवार को 👉 आषाढ़ बदी दशमी 21:43 तक पश्चात् एकादशी शुरु , मूल संज्ञक नक्षत्र जारी , पंचक 06:14 तक , सर्वार्थसिद्धियोग / कार्यसिद्धियोग सूर्योदय से , विघ्नकारक भद्रा 09:10 से 21:42 तक , भगवान नेमिनाथ जन्म / तप (जैन , आषाढ़ कृष्ण दशमी ) , इस पंचांग को डारेक्ट हमसे प्राप्त करने के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट " फेसबुक पेज ज्वाइन करें , श्री वीरभद्र सिंह जन्म दिवस , श्री राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी जन्म दिवस (जन्मतिथि पर मतभेद) , डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी स्मृति दिवस , श्री संजय गाँधी स्मृति दिवस , श्री वाराहगिरि वेंकट गिरि स्मृति दिवस , अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक संघ स्थापना दिवस , संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस ( United Nations Public Service Day ) व अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस ( International Widows Day )।_* *_🔅कल शुक्रवार को 👉 आषाढ़ बदी एकादशी 23:14 तक पश्चात् द्वादशी शुरू , योगिनी एकादशी व्रत ( सभी के लिए ) , गोपद्म व्रत का उद्यापन , मूल संज्ञक नक्षत्र 08:04 तक , सर्वार्थसिद्धियोग / कार्यसिद्धियोग 08:04 तक , कुमारयोग सूर्योदय से 08:03 तक , राजयोग 23:13 से सूर्योदय तक , परमपूज्य संत श्री देवरहा बाबा पुण्य तिथि (योगिनी एकादशी को ) , वीरांगना रानी दुर्गावती बलिदान दिवस , श्री दामोदर हरी चापेकर जयन्ती , पंडित श्री श्रद्धाराम शर्मा स्मृति दिवस व श्री नवकृष्ण चौधरी स्मृति दिवस।_* *🎯आज की वाणी👉* 🌹 *प्रारभ्यते न खलु विघ्नभयेन नीचैः* *प्रारभ्य विघ्नविहता विरमन्ति मध्याः।* *विघ्नैःपुनः पुनरपि प्रतिहन्यमानाः* *प्रारब्धमुत्तमजनाः न परित्यजन्ति ।।* *भावार्थ👉* _बाधाओं का सामना करने के डर से अधम लोग कभी भी उद्यम शुरू नहीं करते हैं । मध्यम वर्ग के साथी, एक बार शुरू करने के बाद, बाधाओं का सामना करने पर परियोजना से हट जाते हैं। सर्वश्रेष्ठ जन, बाधाओं से बार-बार हतोत्साहित होने के बावजूद, तब तक कार्य नहीं छोड़ते जब तक वे सफलता प्राप्त नहीं कर लेते।_ 🌹 *23 जून की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉* 1713 - असाडीअ के फ्रांसीसी निवासियों को ब्रिटेन के लिए निष्ठा की घोषणा करने या नोवा स्कोटिया, कनाडा छोड़ने के लिए एक वर्ष दिया गया। 1724 - इस्तंबुल की संधि पर हस्ताक्षर किया गया, ओटोमन साम्राज्य, रूस, और पर्शिया का विभाजन किया गया। 1757 – प्लासी की लड़ाई में सिराजुदौला ने क्लाइव की नेतृत्व वाली ब्रिटिश सेना पर हमला किया जिसमें उसे हार का सामना करना पड़ा। 1810 – बाम्बे के डंकन डॉक का निर्माण कार्य पूरा हुआ। 1868 – क्रिस्‍टोफर एल शोल्‍स को टाइपराइटर के लिए पेटेंट मिला। 1888 – फेडरिक डगलस पहले अफ्रीकी अमेरिकी हुए जिन्हें अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए नामित किया गया। 1894 – बैरन पियरे डी कुबर्टिन की पहल पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति की पेरिस के सोरबोन में स्थापना। 1956 – जमाल अब्दुल नासिर मिस्र के राष्ट्रपति चुने गए। 1960 – जापान और अमेरिका के बीच सुरक्षा समौझाता हुआ। 1985 – एयर इंडिया का जम्बो यात्री विमान कनिष्का आयरलैंड तट के करीब हवा में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में विमान में सवार सभी 329 यात्री मारे गए थे। 1991 – अफ्रीकी देश माल्दोवा ने आजादी की घोषणा की। इस पंचांग को सीधे प्राप्त करें एवं विविध तथा शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट" फेसबुक पेज ज्वाइन करें । 1992 – न्यूयॉर्क के सबसे बड़े माफिया परिवार के मुखिया जॉन गोत्ती को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। 1994 - संयुक्त राष्ट्र आम सभा ने दक्षिण अफ़्रीका की सदस्यता को मंजूर किया। 1994 - उत्तरी कोरिया द्वारा परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाये जाने की घोषणा। 1995 - संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने 50 वर्ष के इतिहास में 100वाँ प्रस्ताव (साइप्रस में शांति सैनिकों की अवधि बढ़ाने के संबंध में) पारित किया। 1996 – शेख हसीना वाजेद ने बंगलादेश के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। 2008 - प्रसिद्ध बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी को दादा साहब फाल्के पुरस्कार देने के लिए चयन समिति ने सिफ़ारिश की। 2008 - टायर बनाने वाली देश की प्रमुख कम्पनी जेके टायर इण्डिया लिमिटेड ने मैक्सिको की टायर कम्पनी टोर्नल व उसकी सहायक कम्पनियों सहित 270 करोड़ डालर का अधिग्रहण किया। 2008 - नेपाल की मौजूदा सरकार ने संयुक्त राष्ट्र मिशन की अवधि बढ़ाने की मंजूरी दी। 2012 – एस्टन ईटन ने अमेरिकी ओलंपिक परीक्षण में डेक्थलान में विश्व रिकॉर्ड को तोड़ा। 2014- गुजरात का ‘रानी की वाव’ और हिमाचल का 'ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क' विश्व धरोहर सूची में शामिल हुआ। 2017- मोहम्मद बिन नायफ के बाद मोहम्मद बिन सलमान सउदी अरब के नए उत्तराधिकारी नियुक्त। 2019 - सऊदी अरब एफएटीएफ सदस्यता पाने वाला पहला अरब देश बन गया। 2020 - सउदी अरब पर ड्रोन व मिशाइल से हमला हुआ। 2020 - रूस ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में स्थायी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन किया। 2020 - पुलवामा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को किया ढेर, एक जवान शहीद। 2020 - चीन ने अपने बाइडू नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (बीडीएस) के लिए अंतिम उपग्रह का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया। 2021 - हिंद महासागर में भारत और अमेरिका का युद्ध अभ्यास शुरू हुआ। 2021 - श्रीलंका के पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने देश की राजनीति में इतिहास रचते हुए लगातार नौवीं बार सांसद के तौर पर शपथ ली। *23 जून को जन्मे व्यक्ति👉* 1901 - राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी - भारत के अमर शहीद प्रसिद्ध क्रांतिकारियों में से एक (29 जून का भी वर्णन मिलता है)। 1912 – कंप्‍यूटर साइंस के बादशाह कहे जाने वाले क्रिप्‍टएनालिस्‍ट एलन ट्यूरिंग का जन्‍म हुआ। 1920 - जगन्नाथराव जोशी भारतीय राजनेता (भाजपा के ) व भारतीय जनसंघ के वरिष्ट नेता थे। 1934 - चण्डी प्रसाद भट्ट - गाँधीवादी विचारक और सामाजिक कार्यकर्ता। 1934 -वीरभद्र सिंह - हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री। 1936 - प्रदीप कुमार बनर्जी - भारत के सर्वश्रेष्ठ फ़ुटबॉल खिलाड़ियों में से एक हैं। 1936 - एन. भास्कर राव - भारतीय राजनीतिज्ञ रहे , जिनका सम्बंध 'तेलुगु देशम पार्टी' से है। 1939 - सैयद शाहिद हाकिम - पूर्व भारतीय फुटबॉलर थे। 1972 - संजीव कुमार बालयान - भाजपा के राजनीतिज्ञ। 1980– वेस्टइंडीज के बल्लेबाज रामनरेश सरवन का गुयाना में जन्म हुआ। *23 जून को हुए निधन👉* 1761 - बालाजी बाजीराव - महान् मराठा पेशवा। 1914 - गंगाप्रसाद वर्मा - राजनेता तथा समाज सुधारक। 1939 - गिजुभाई बधेका - गुजराती भाषा के लेखक और महान् शिक्षाशास्त्री थे। 1953 - श्यामा प्रसाद मुखर्जी - महान् शिक्षाविद, चिन्तक और साथ ही 'भारतीय जनसंघ' के संस्थापक। 1971 - श्रीप्रकाश - भारत के प्रसिद्ध क्रांतिकारी और पाकिस्तान में प्रथम उच्चायुक्त। 1980 - भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के पुत्र संजय गाँधी एक विमान दुर्घटना में मारे गए। 1980 -वी.वी. गिरी - भारत के चौथे राष्ट्रपति। 1995 – वैज्ञानिक डाॅ. जोनास साल्‍क का निधन। 2015 - सिस्टर निर्मला, मदर टेरेसा की संस्था मिशनरीज ऑफ़ चैरिटीज की प्रमुख थीं। 2019 - तमिलनाडु के पूर्व डीजीपी वीआर लक्ष्मीनारायणन का निधन। *23 जून के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉* 🔅 भगवान नेमिनाथ जन्म / तप (जैन , आषाढ़ कृष्ण दशमी )। 🔅 श्री वीरभद्र सिंह जन्म दिवस। 🔅 श्री राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी जन्म दिवस (जन्मतिथि पर मतभेद)। 🔅 डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी स्मृति दिवस। 🔅 श्री संजय गाँधी स्मृति दिवस। 🔅 श्री वाराहगिरि वेंकट गिरि स्मृति दिवस। 🔅 अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक संघ स्थापना दिवस। 🔅 संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस ( United Nations Public Service Day )। 🔅 अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस ( International Widows Day )। *कृपया ध्यान दें जी👉* *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।* 🌻आपका दिन *_मंगलमय_* हो जी ।🌻 ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

♦️♦️♦️  ⚜🕉⚜  ♦️♦️♦️
    *🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏*
       *🙏शुभप्रभातम् जी🙏*

*इतिहास की मुख्य घटनाओं सहित पञ्चांग-मुख्यांश ..*

     *📝आज दिनांक 👉*
     
   *📜 23  जून 2022*
            *बृहस्पतिवार*
 *🏚नई  दिल्ली अनुसार🏚*

*🇮🇳शक सम्वत-* 1944
*🇮🇳विक्रम सम्वत-* 2079
*🇮🇳मास-* आषाढ़
*🌓पक्ष-* कृष्णपक्ष
*🗒तिथि-* दशमी - 21:43 तक
*🗒पश्चात्-* एकादशी
*🌠नक्षत्र-* रेवती - 06:14 तक
*🌠पश्चात्-* अश्विनी
*💫करण-* वणिज - 09:10 तक
*💫पश्चात्-* विष्टि
*✨योग-* अतिगण्ड - 28:51 तक
*✨पश्चात्-* सुकर्मा
*🌅सूर्योदय-* 05:24
*🌄सूर्यास्त-* 19:22
*🌙चन्द्रोदय-* 25:57
*🌛चन्द्रराशि-* मीन - 06:14 तक
*🌛पश्चात्-* मेष
*🌞सूर्यायण -* दक्षिणायन
*🌞गोल-* उत्तरगोल
*💡अभिजित-* 11:55 से 12:51
*🤖राहुकाल-* 14:07 से 15:52
*🎑ऋतु-* वर्षा
*⏳दिशाशूल-* दक्षिण

*✍विशेष👉*

*_🔅आज बृहस्पतिवार को 👉 आषाढ़ बदी दशमी 21:43 तक पश्चात् एकादशी शुरु , मूल संज्ञक नक्षत्र जारी , पंचक 06:14 तक , सर्वार्थसिद्धियोग / कार्यसिद्धियोग सूर्योदय से , विघ्नकारक भद्रा 09:10 से 21:42 तक , भगवान नेमिनाथ जन्म / तप (जैन , आषाढ़ कृष्ण दशमी ) , इस पंचांग को डारेक्ट हमसे प्राप्त करने के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट " फेसबुक पेज ज्वाइन करें , श्री वीरभद्र सिंह जन्म दिवस , श्री राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी जन्म दिवस (जन्मतिथि पर मतभेद) , डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी स्मृति दिवस , श्री संजय गाँधी स्मृति दिवस , श्री वाराहगिरि वेंकट गिरि स्मृति दिवस , अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक संघ स्थापना दिवस , संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस ( United Nations Public Service Day ) व अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस ( International Widows Day )।_*
*_🔅कल शुक्रवार को 👉 आषाढ़ बदी एकादशी 23:14 तक पश्चात् द्वादशी शुरू , योगिनी एकादशी व्रत ( सभी के लिए ) , गोपद्म व्रत का उद्यापन , मूल संज्ञक नक्षत्र 08:04 तक , सर्वार्थसिद्धियोग / कार्यसिद्धियोग 08:04 तक , कुमारयोग सूर्योदय से 08:03 तक , राजयोग 23:13 से सूर्योदय तक , परमपूज्य संत श्री देवरहा बाबा पुण्य तिथि (योगिनी एकादशी को ) , वीरांगना रानी दुर्गावती बलिदान दिवस , श्री दामोदर हरी चापेकर जयन्ती , पंडित श्री श्रद्धाराम शर्मा स्मृति दिवस व श्री नवकृष्ण चौधरी स्मृति दिवस।_*

*🎯आज की वाणी👉*

🌹
*प्रारभ्यते न खलु विघ्नभयेन नीचैः*
*प्रारभ्य विघ्नविहता विरमन्ति मध्याः।*
*विघ्नैःपुनः पुनरपि प्रतिहन्यमानाः*
*प्रारब्धमुत्तमजनाः  न  परित्यजन्ति ।।* 
 *भावार्थ👉* 
            _बाधाओं का सामना करने के डर से अधम लोग कभी भी उद्यम शुरू नहीं करते हैं । मध्यम वर्ग के साथी, एक बार शुरू करने के बाद, बाधाओं का सामना करने पर परियोजना से हट जाते हैं।  सर्वश्रेष्ठ जन, बाधाओं से बार-बार हतोत्साहित होने के बावजूद, तब तक कार्य नहीं छोड़ते जब तक वे सफलता प्राप्त नहीं कर लेते।_
🌹

*23 जून की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉*

1713 - असाडीअ के फ्रांसीसी निवासियों को ब्रिटेन के लिए निष्ठा की घोषणा करने या नोवा स्कोटिया, कनाडा छोड़ने के लिए एक वर्ष दिया गया।
1724 - इस्तंबुल की संधि पर हस्ताक्षर किया गया, ओटोमन साम्राज्य, रूस, और पर्शिया का विभाजन किया गया।
1757 – प्लासी की लड़ाई में सिराजुदौला ने क्लाइव की नेतृत्व वाली ब्रिटिश सेना पर हमला किया जिसमें उसे हार का सामना करना पड़ा।
1810 – बाम्बे के डंकन डॉक का निर्माण कार्य पूरा हुआ।
1868 – क्रिस्‍टोफर एल शोल्‍स को टाइपराइटर के लिए पेटेंट मिला।
1888 – फेडरिक डगलस पहले अफ्रीकी अमेरिकी हुए जिन्हें अमेरिकी राष्ट्रपति पद के लिए नामित किया गया।
1894 – बैरन पियरे डी कुबर्टिन की पहल पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति की पेरिस के सोरबोन में स्थापना।
1956 – जमाल अब्दुल नासिर मिस्र के राष्ट्रपति चुने गए।
1960 – जापान और अमेरिका के बीच सुरक्षा समौझाता हुआ।




1985 –  एयर इंडिया का जम्बो यात्री विमान कनिष्का आयरलैंड तट के करीब हवा में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस हादसे में विमान में सवार सभी 329 यात्री मारे गए थे।
1991 – अफ्रीकी देश माल्दोवा ने आजादी की घोषणा की। इस पंचांग को सीधे प्राप्त करें एवं विविध तथा शैक्षणिक खबरों के लिए "हरियाणा एजुकेशनल अपडेट" फेसबुक पेज ज्वाइन करें ।
1992 – न्यूयॉर्क के सबसे बड़े माफिया परिवार के मुखिया जॉन गोत्ती को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।
1994 - संयुक्त राष्ट्र आम सभा ने दक्षिण अफ़्रीका की सदस्यता को मंजूर किया।
1994 - उत्तरी कोरिया द्वारा परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाये जाने की घोषणा।
1995 - संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने 50 वर्ष के इतिहास में 100वाँ प्रस्ताव (साइप्रस में शांति सैनिकों की अवधि बढ़ाने के संबंध में) पारित किया।
1996 – शेख हसीना वाजेद ने बंगलादेश के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली।
2008 - प्रसिद्ध बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी को दादा साहब फाल्के पुरस्कार देने के लिए चयन समिति ने सिफ़ारिश की। 
2008 - टायर बनाने वाली देश की प्रमुख कम्पनी जेके टायर इण्डिया लिमिटेड ने मैक्सिको की टायर कम्पनी टोर्नल व उसकी सहायक कम्पनियों सहित 270 करोड़ डालर का अधिग्रहण किया।
2008 - नेपाल की मौजूदा सरकार ने संयुक्त राष्ट्र मिशन की अवधि बढ़ाने की मंजूरी दी।
2012 – एस्टन ईटन ने अमेरिकी ओलंपिक परीक्षण में डेक्थलान में विश्व रिकॉर्ड को तोड़ा।
2014- गुजरात का ‘रानी की वाव’ और हिमाचल का 'ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क' विश्व धरोहर सूची में शामिल हुआ।
2017- मोहम्मद बिन नायफ के बाद मोहम्मद बिन सलमान सउदी अरब के नए उत्तराधिकारी नियुक्त।
2019 - सऊदी अरब एफएटीएफ सदस्यता पाने वाला पहला अरब देश बन गया।
2020 - सउदी अरब पर ड्रोन व मिशाइल से हमला हुआ।
2020 - रूस ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में स्थायी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन किया।
2020 - पुलवामा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को किया ढेर, एक जवान शहीद।
2020 - चीन ने अपने बाइडू नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (बीडीएस) के लिए अंतिम उपग्रह का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया।
2021 - हिंद महासागर में भारत और अमेरिका का युद्ध अभ्यास शुरू हुआ।
2021 - श्रीलंका के पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने देश की राजनीति में इतिहास रचते हुए लगातार नौवीं बार सांसद के तौर पर शपथ ली।

*23 जून को जन्मे व्यक्ति👉*

1901 - राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी - भारत के अमर शहीद प्रसिद्ध क्रांतिकारियों में से एक (29 जून का भी वर्णन मिलता है)।
1912 – कंप्‍यूटर साइंस के बादशाह कहे जाने वाले क्रिप्‍टएनालिस्‍ट एलन ट्यूरिंग का जन्‍म हुआ।
1920 - जगन्नाथराव जोशी भारतीय  राजनेता (भाजपा के ) व भारतीय जनसंघ के वरिष्ट नेता थे।
1934 - चण्डी प्रसाद भट्ट - गाँधीवादी विचारक और सामाजिक कार्यकर्ता।
1934 -वीरभद्र सिंह - हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री।
1936 - प्रदीप कुमार बनर्जी - भारत के सर्वश्रेष्ठ फ़ुटबॉल खिलाड़ियों में से एक हैं।
1936 - एन. भास्कर राव - भारतीय राजनीतिज्ञ रहे , जिनका सम्बंध 'तेलुगु देशम पार्टी' से है।
1939 - सैयद शाहिद हाकिम - पूर्व भारतीय फुटबॉलर थे।
1972 - संजीव कुमार बालयान - भाजपा के राजनीतिज्ञ।
1980– वेस्टइंडीज के बल्लेबाज रामनरेश सरवन का गुयाना में जन्म हुआ।

*23 जून को हुए निधन👉*

1761 - बालाजी बाजीराव - महान् मराठा पेशवा।
1914 - गंगाप्रसाद वर्मा - राजनेता तथा समाज सुधारक।
1939 - गिजुभाई बधेका - गुजराती भाषा के लेखक और महान् शिक्षाशास्त्री थे।
1953 - श्यामा प्रसाद मुखर्जी - महान् शिक्षाविद, चिन्तक और साथ ही 'भारतीय जनसंघ' के संस्थापक।
1971 - श्रीप्रकाश - भारत के प्रसिद्ध क्रांतिकारी और पाकिस्तान में प्रथम उच्चायुक्त।
1980 - भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के पुत्र संजय गाँधी एक विमान दुर्घटना में मारे गए।
1980 -वी.वी. गिरी - भारत के चौथे राष्ट्रपति।
1995 – वैज्ञानिक डाॅ. जोनास साल्‍क का निधन।
2015 - सिस्टर निर्मला, मदर टेरेसा की संस्था मिशनरीज ऑफ़ चैरिटीज की प्रमुख थीं।
2019 - तमिलनाडु के पूर्व डीजीपी वीआर लक्ष्मीनारायणन का निधन।

*23 जून के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉*

🔅 भगवान नेमिनाथ जन्म / तप (जैन , आषाढ़ कृष्ण दशमी )।
🔅 श्री वीरभद्र सिंह जन्म दिवस।
🔅 श्री राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी जन्म दिवस (जन्मतिथि पर मतभेद)।
🔅 डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी स्मृति दिवस।
🔅 श्री संजय गाँधी स्मृति दिवस।
🔅 श्री वाराहगिरि वेंकट गिरि स्मृति दिवस।
🔅 अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक संघ स्थापना दिवस।
🔅 संयुक्त राष्ट्र लोक सेवा दिवस ( United Nations Public Service Day )।
🔅 अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस ( International Widows Day )।

*कृपया ध्यान दें जी👉*
    *यद्यपि इसे तैयार करने में पूरी सावधानी रखने की कोशिश रही है। फिर भी किसी घटना , तिथि या अन्य त्रुटि के लिए मेरी कोई जिम्मेदारी नहीं है ।*

🌻आपका दिन *_मंगलमय_*  हो जी ।🌻

   ⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
A.k. Jun 30, 2022

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 11 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
manju kotnala Jun 30, 2022

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Dr Santosh kumar Jun 30, 2022

मंगलकारी देव गणेश " वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ " निराकार ब्रह्म शिवजी के पंचतत्व ओर तत्व देवता ही प्रधान स्वरूप है । भगवान सूर्यदेव प्रत्यक्ष देवता है और नित्य सुबह दुपहर शाम तीनो संध्या में उनको अर्घ्य अर्पण करके प्रत्यक्ष पूजा होती है या अग्निहोत्री साधक नित्य यज्ञ द्वारा प्रत्यक्ष पूजा करते है इसलिए उनके स्वतंत्र मंदिर की आवश्यकता नही इनके मंदिर बहोत कम नजर आते है । ऐसे ही भगवान गणेश जो धन , धान्य , सुख , संपति , संतति , परिवार सुख प्रदान करनेवाले देव है जो जीवमात्र केलिये अत्यंत आवश्यक है । इसलिए ईश्वर द्वारा मनुष्य देहमे रक्तमे रक्तकण के स्वरूपमे ही स्थापित कर दिये है । इस सूक्ष्म विज्ञान को ही ऋषि परमपरांए गोत्र ओर गोत्र देवता परंपरा स्थापित कर दी है । जो विश्वके हरेक परिवारमें सतयुग से आजतक ये उपासना पद्धति कायम है । समाज के हरेक व्यक्ति के घर के पूजा स्थानमे गणपति स्थापना ओर उनकी पूजा प्रथम ही होती है । इसलिए उनके भी स्वतंत्र मंदिर बहोत कम देखने मिलते है । पर गणेशजी की उच्च साधना करने वाले साधकोंने विश्वमे अनेक स्थानों पर उनके मंदिर स्थापित किये है । आज के समयमे कंही स्थानों देशमे कोई हिन्दू सनातनी नही होने से ऐसे कही मंदिर स्थान नष्ट हो गए और कही प्रजा उन्हें उनकी भाषामे अलग अलग नाम से पूजती है इसलिए बाकि लोग नही जानते । इस पृथ्वीलोक के प्रधान देवता श्री गणपतिजी नवखंड धरती के हरेक स्थल पर पूर्ण जागृत देव है । हरेक प्रकार की सिद्धि सफलता उनकी प्रसन्नता से ही मिलती है। सतयुग से लेकर आजतक ब्रह्मा विष्णु महेश इन्द्रादिक देवी देवता सह अनेक ऋषिमुनियो ओर भक्तोंने उनकी उपासना पूजन किये ऐसे अनेक स्थान है । समय , बदलाव , ओर नवसर्जन की प्रक्रिया में बहोत स्थान गोपनीय बन गए या अलग भाषा के अलग नाम से प्रसिद्ध होने के कारण हमें ज्ञात नही है । फिरभी जहा नित्य पूजा अर्चना हो रहा वो स्थान आज तीर्थ स्वरूप है । पंचदेवों में से एक भगवान गणेश सर्वदा ही अग्रपूजा के अधिकारी हैं और उनके पूजन से सभी प्रकार के कष्‍टों से मुक्ति मिलती है. श्रीगणेश के स्वतंत्र मंदिर कम ही जगहों पर देखने को मिलते हैं, परंतु सभी मंदिरों, घरों, दुकानों आदि में भगवान गणेश विराजमान रहते हैं. इन जगहों पर भगवान गणेश की प्रतिमा, चित्रपट या अन्य कोई प्र‍तीक अवश्‍य रखा मिलेगा. लेकिन कई स्थानों पर भगवान गणेश की स्वतंत्र मंदिर भी स्थापित है और उसकी महता भी अधिक बतायी जाती है. भारत ही नहीं भारत के बाहर भी भगवान गणेश पुजे जाते हैं. वहां किसी ना किसी रूप में भगवान गणेश की उपासना प्रचलित है. 1. मोरेश्‍वर : गणपति तीर्थों में यह सर्वप्रधान है. यहां मयुरेश गणेश भगवान की मूर्ति सथापित है. यह क्षेत्र पुणे से 40 मील और जेजूरी स्टेशन से 10 मील की दूरी पर अवस्थित है. 2. प्रयाग : यह प्रसिद्ध तीर्थ उत्तर प्रदेश में है. यह 'ओंकार गणपति क्षेत्र' है. यहां आदिकल्प के आरंभ में ओंकार ने वेदों सहित मूर्तिमान होकर भगवान गणेश की आराधना और स्थापना की थी. 3. काशी : यहां ढुण्ढिराज गणेशजी का मंदिर है. यह मंदिर काफी प्रसिद्ध है और यह 'ढुण्ढिराज क्षेत्र' है. यह उत्तर प्रदेश के वाराणसी में है. 4. कलम्ब : यह 'चिंतामणि क्षेत्र' है. महर्षि गौतम के श्राप से छूटने के लिए देवराज इंद्र ने यहां 'चिंतामणि गणेश' की स्थापना कर पूजा की थी. इस स्थान का नाम कदंबपुर है. बरार के यवतमाल नगर से यहां मोटर बस आदि से जाया जा सकता है. 5. अदोष : नागपुर-छिदवाड़ा रेलवे लाइन पर सामनेर स्टेशन है. वहां से लगभग 5 मील की दूरी पर यह स्थल है. इसे 'शमी विघ्‍नेश क्षेत्र कहा जाता है. महापाप, संकट और शत्रु नामक दैत्यों के संहार के लिए देवता तथा ऋषियों ने यहां तपस्या की थी. उनके द्वारा ही भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित की गयी है. कहा जाता है कि महाराज बलि के यज्ञ में जाने से पूर्व वामन भगवान ने भी यहां पूजा की थी. 6. पाली : इस स्थान का प्राचीन नाम पल्लीपुर है, बल्लाल नामक वैश्‍य बालक की भक्ति से यहां गणेशजी का आविर्भाव हुआ, इसलिए इसे 'बल्लाल विनायक क्षेत्र' कहा जाता है. यह मूल क्षेत्र सिंधु में वर्णित है लेकिन वर्त्तमान में महाराष्‍ट्र कुलाबा जिले के पाली में इस क्षेत्र को माना जाता है. 7. पारिनेर : यह 'मंगलमूर्ति क्षेत्र' है. मंगल ग्रह ने यहां तपस्या करके गणेश जी की आराधना की थी. ग्रंथों में यह क्षेत्र नर्मदा के किनारे बताया गया है, 8. गंगा मसले : यह 'भालचंद्र गणेश क्षेत्र' है. चंद्रमा ने यहां भगवान गणेशजी की आराधना की थी. काचीगुडामनमाड रेलवे लाइन पर परभनी से छब्बीस मील दूर सैलू स्टेशन है. वहां से पंद्रह मील की दूरी पर गोदावरी के मध्‍य में श्रीभालचंद्र गणेश का मंदिर है. 9. राक्षसभुवन : जालना से 33 मील की दूरी पर गोदावरी के किनारे यह स्थान है. यह 'विज्ञान गणेश क्षेत्र' है. गुरु दत्तात्रेय ने यहां तपस्या की और विज्ञान गणेश की स्थापना की. यहां मंदिर भी विज्ञान गणेश का है. 10. थेऊर : पुणे से 5 मील की दूरी पर यह स्थान है. ब्रह्माजी ने सृष्टि कार्य में आने वाले विघ्‍नों के नाश के लिए गणेशजी की यहां स्थापना की थी. 11. सिद्धटेक : बंबई-रायचूर लाइन पर घौंड जंक्शन से 6 मील की दूरी पर बोरीवली स्टेशन है. वहां से लगभग 6 मील की दूरी पर भीमा नदी के किनारे यह स्थान है. इसका प्राचीन नाम 'सिद्धाश्रम' है. यहां भगवान विष्‍णु से मधु कैटभ दैत्‍यों को मारने के लिए गणेशजी का पूजन किया था. यहां भगवान विष्णु द्वारा स्थापित गणेशजी की प्रतिमा है. 12. राजनगांव : इसे 'मणिपुर क्षेत्र' कहते हैं. भगवान शंकर त्रिपुरासुर के साथ युद्ध करने से पहले यहां गणेशजी की पूजा की थी. यहां गणेश स्तवन करने के बाद उन्होंने त्रिपुरासुर को हराया था. शिवजी द्वारा स्थापित गणेशजी की मूर्ति यहां है. पुणे से राजनगांव के लिए सड़क मार्ग है. 13. विजयपुर : अनलासुर के नाशार्थ यहां गणेशजी का अविर्भाव हुआ था. ग्रंथों में यह क्षेत्र तैलंगदेश में बताया गया है. स्थान का पता नहीं है. मद्रास-मैंगलोर लाइन पर ईरोड से 16 महल की दूरी पर विजयमंगलम स्टेशन है. वहां का गणपति मंदिर प्रख्‍यात है. 14. कश्‍यपाश्रम : यहां पर महर्षि कश्‍यपजी ने अपने आश्रम में गणेशजी की प्रतिमा स्थापित कर उनकी पूजा की थी. 15 जलेशपुर : मय दानव द्वारा निर्मित त्रिपुर के असुरों ने इस स्थान पर गणेश जी की स्थापना कर पूजन किया था. 16. लोह्याद्रि : पुणे जिले में जूअर तालुका है. वहां से लगभग 5 मील की दूरी पर यह स्थान है. पार्वतीजी ने यहां गणेशजी को पुत्र के रूप में पाने के लिए तपस्या की थी. 17. बेरोल : इसका प्राचीन नाम एलापुर क्षेत्र है. महाराष्‍ट्र के औरंगाबाद से बेरोल के लिए सड़क मार्ग है. घृष्‍णेश्‍वर ज्योतिर्लिंग भी यहीं है. तारकासुर के वध के बाद भगवान शंकर ने यहां गणेशजी की स्थापना कर उनकी पूजा की थी. यहां स्कंदमाता ने मूर्ति स्थापित की थी और उसका नाम 'लक्ष विनायक' है. 18. पद्मालय : यह प्राचीन प्रवाल क्षेत्र है. बंबई-भुसावल रेलवे लाइन पर पचोरा जंक्शन से 16 मील की दूरी पर महसावद स्टेशन है. वहां से लगभग 5 मील की दूरी पर यह तीर्थ है. यहां सहस्त्रार्जुन और शेषजी ने गणेशजी की पूजा की थी. दोनों की ओर से स्थापित दो गणपति मूर्तियां यहां है. 19. नामलगांव : काचीगुड़ा-मनमाड लाइन पर जालना स्टेशन है. जालना से सड़क मार्ग से घोसापुरी गांव जाया जा सकता है. गांव से पैदल नामलगांव जाना पड़ता है. यह प्राचीन 'अमलाश्रम क्षेत्र' है. यम धर्मराज ने अपनी माता की शाप से मुक्ति के लिए यहां गणेशजी की स्थापना कर पूजा की थी. यहां की प्रतिमा भी यमराज ने ही स्थापित की है. यहां 'सुबुद्धिप्रद तीर्थ' भी है. 20. राजूर : जालना स्टेशन से यह स्थान 14 मील दूर है. इसे 'राजसदन क्षेत्र' भी कहते हैं. सिंदूरासुर का वध करने के बाद गणेशजी ने राजा वरेण्‍य को 'गणेश गीता' का ज्ञान दिया था. 21. कुम्‍भकोणम् : यह दक्षिण भारत का प्रसिद्ध तीर्थ है. इसे 'श्‍वेत विघ्‍नेश्‍वर क्षेत्र' भी कहते हैं. यहां कावेरी पर सुधा-गणेशजी की मूर्ति है. समुद्र मंथन के समय पर्याप्त श्रम के बाद भी अमृत नहीं निकला तक देवताओं ने यहां गणेशजी की प्रतिमा स्थापित कर पूजा की थी. ओर ऐसे भी अनेक स्थान है जहाँ तंत्र मार्ग से पूजा की जाती है और उनकी उपासना भी गोपनीय रखी जाती है और ज्यादातर गाढ़ जंगलों और पहाडियो के बीच है । गोपनीयता के कारण उस स्थान यहां नही बताये जाते। * लम्बोदर चतुर्वर्ण हैं। सर्वत्र पूजनीय श्री गणेश सिंदूर वर्ण के हैं। इनका स्वरूप भक्तों को सभी प्रकार के शुभ व मंगल फल प्रदान करने वाला है। * नीलवर्ण उच्छिष्ट गणपति का रूप तांत्रिक क्रिया से संबंधित है। * शांति और पुष्टि के लिए श्वेत वर्ण गणपति की आराधना करना चाहिए। * शत्रु के नाश व विघ्नों को रोकने के लिए हरिद्रा गणपति की आराधना की जाती है। ( 1 )गणपति जी का बीज मंत्र 'गं' है। इनसे युक्त मंत्र- 'ॐ गं गणपतये नमः' का जप करने से सभी कामनाओं की पूर्ति होती है। ( 2 )षडाक्षर मंत्र का जप आर्थिक प्रगति व समृद्धिप्रदायक है। ।ॐ वक्रतुंडाय हुम्। ,( 3 ) किसी के द्वारा नेष्ट के लिए की गई क्रिया को नष्ट करने के लिए, विविध कामनाओं की पूर्ति के लिए उच्छिष्ट गणपति की साधना करना चाहिए। इनका जप करते समय मुंह में गुड़, लौंग, इलायची, बताशा, ताम्बुल, सुपारी होना चाहिए। यह साधना अक्षय भंडार प्रदान करने वाली है। इसमें पवित्रता-अपवित्रता का विशेष बंधन नहीं है उच्छिष्ट गणपति का मंत्र ।।ॐ हस्ति पिशाचिनी लिखे स्वाहा।। ( 4 ) आलस्य, निराशा, कलह, विघ्न दूर करने के लिए विघ्नराज रूप की आराधना का यह मंत्र जपें - गं क्षिप्रप्रसादनाय नम: ,( 5 ) विघ्न को दूर करके धन व आत्मबल की प्राप्ति के लिए हेरम्ब गणपति का मंत्र जपें - 'ॐ गं नमः' ( 6 ) रोजगार की प्राप्ति व आर्थिक वृद्धि के लिए लक्ष्मी विनायक मंत्र का जप करें- ॐ श्रीं सौम्याय सौभाग्याय गं गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानाय स्वाहा। ( 7 )विवाह में आने वाले दोषों को दूर करने वालों को त्रैलोक्य मोहन गणेश मंत्र का जप करने से शीघ्र विवाह व अनुकूल जीवनसाथी की प्राप्ति होती है- "ॐ वक्रतुण्डैक दंष्ट्राय क्लीं ह्रीं श्रीं गं गणपते वर वरद सर्वजनं मे वशमानाय स्वाहा। " इन मंत्रों के अतिरिक्त गणपति अथर्वशीर्ष, संकटनाशन गणेश स्तोत्र, गणेशकवच, संतान गणपति स्तोत्र, ऋणहर्ता गणपति स्तोत्र, मयूरेश स्तोत्र, गणेश चालीसा का पाठ करने से गणेशजी की कृपा प्राप्त होती है। आचार्य डॉ0 विजय शंकर मिश्र:

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Sunil panwar Jun 30, 2022

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB