*प्रसाद* एकदा भागवत कथा झाली. सांगता पण झाली तेव्हा सर्वांना प्रसादही दिला. सारी आवरा-आवर झाल्यावर एक वृद्धा आली. म्हणाली, “प्रसाद कधी मिळेल?’’ सारे जिकडचे तिकडे झाल्याचे तिला कळल्यावर ती खट्टू झाली. तेवढय़ात त्या कार्यालयात असणारी एक महिला म्हणाली, “थांब मावशी. एक लाडू आहे. देते तुला !’’ वृद्धेला आनंद झाला. बुंदीचा लाडू हातात घेऊन तिने कपाळाला लावला आणि लाडवाचा एक तुकडा घेऊन उरलेला लाडू परत देत म्हणाली, “पुन्हा कुणी आलं तर यातला कणभर त्यालाही देता येईल. कुणी तसंच जायला नगं ! परसाद जीव निवण्यासाठी पायजे. पोट भरण्यासाठी नाय् !’’ मला तिचे पाय धरावे वाटले. आध्यात्मिकतेने अनासक्ती येते ती अशी ! मन प्रसन्न असेल ना; तर मणाने नाही कणानेही समाधान लाभते हे त्या वृद्धेच्या संवादातून उलगडले. परमार्थ वेगळे काय शिकवतो ?आयुष्यातला प्रत्येक क्षण भगवंताचा प्रसाद म्हणून स्वीकारता आला तर सारे तणाव, सारा वैताग संपून जाईल. जगणे ‘प्रासादिक' होईल. बीजात सारा वृक्ष सामावलेला असतो तसा कणा कणात ब्रह्मांडव्यापी आनंद कोंदटलेला असतो. पण आपल्या हव्यासापोटी आपण ब्रह्मांडच खिशात घालायचे म्हणतो. मग हट्ट सुरू होतो. आणखी मिळवेन, खूप मिळवेन, जास्तीत जास्त मिळवेन… शेवटी ओंजळ रिक्तच राहते. असे निराश होण्यासाठी आपल्याला आयुष्य मिळालेले नाही. खरे तर आयुष्य हाच महाप्रसाद आहे. एकदा ते मिळाले म्हणताना, आणखी काय हवे? आता मिळवायला नव्हे तर वाटायला शिकले पाहिजे. तळहातावर मिळालेला गोपाळकाला, स्वत:साठी थोडा ठेवून कण कण सर्वांना वाटायचा असतो! देता यायला लागले की आपणही कृष्ण होतो. परमार्थ म्हणजे जवळचे उत्तम सर्वांना देणे. थोडय़ातलाही आनंद घेणे. आपले अश्रू रोखून हसण्याचे चांदणे पसरणे. बस्स! हव्यास आणि हट्ट सोडण्याची तयारी करायला पाहिजे. 🙏🙏

*प्रसाद*

एकदा भागवत कथा  झाली. सांगता पण झाली तेव्हा सर्वांना प्रसादही दिला. सारी आवरा-आवर झाल्यावर एक वृद्धा आली.  म्हणाली, “प्रसाद कधी मिळेल?’’  सारे जिकडचे तिकडे झाल्याचे तिला कळल्यावर ती खट्टू झाली. तेवढय़ात त्या कार्यालयात असणारी एक महिला म्हणाली, “थांब मावशी. एक लाडू आहे. देते तुला !’’ वृद्धेला आनंद झाला. बुंदीचा लाडू हातात घेऊन तिने कपाळाला लावला आणि लाडवाचा एक तुकडा घेऊन उरलेला लाडू परत देत म्हणाली, “पुन्हा कुणी आलं तर यातला कणभर त्यालाही देता येईल. कुणी तसंच जायला नगं ! परसाद जीव निवण्यासाठी पायजे. पोट भरण्यासाठी नाय् !’’ मला तिचे पाय धरावे वाटले. आध्यात्मिकतेने अनासक्ती येते ती अशी ! मन प्रसन्न असेल ना; तर मणाने नाही कणानेही समाधान लाभते हे त्या वृद्धेच्या संवादातून उलगडले. परमार्थ वेगळे काय शिकवतो ?आयुष्यातला प्रत्येक क्षण भगवंताचा प्रसाद म्हणून स्वीकारता आला तर सारे तणाव, सारा वैताग संपून जाईल. जगणे ‘प्रासादिक' होईल. बीजात सारा वृक्ष सामावलेला असतो तसा कणा कणात ब्रह्मांडव्यापी आनंद कोंदटलेला असतो. पण आपल्या हव्यासापोटी आपण ब्रह्मांडच खिशात घालायचे म्हणतो. मग हट्ट सुरू होतो. आणखी मिळवेन, खूप मिळवेन, जास्तीत जास्त मिळवेन… शेवटी ओंजळ रिक्तच राहते. असे निराश होण्यासाठी आपल्याला आयुष्य मिळालेले नाही. खरे तर आयुष्य हाच महाप्रसाद आहे. एकदा ते मिळाले म्हणताना, आणखी काय हवे? आता मिळवायला नव्हे तर वाटायला शिकले पाहिजे. तळहातावर मिळालेला गोपाळकाला, स्वत:साठी थोडा ठेवून कण कण सर्वांना वाटायचा असतो!
देता यायला लागले की आपणही कृष्ण होतो. परमार्थ म्हणजे जवळचे उत्तम सर्वांना देणे. थोडय़ातलाही आनंद घेणे. आपले अश्रू रोखून हसण्याचे चांदणे पसरणे. बस्स! हव्यास आणि हट्ट सोडण्याची तयारी करायला पाहिजे.
🙏🙏

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 31 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

🙏 ज़िनके ️हृदय में प्रभु श्रीहरि का वास होता है 🌹 🌹 उन्हे हर घडी आनंद का ही आभास होता है 🌹 👉 भगवान श्रीहरि की कृपा हम सबके ऊपर है और अनंत है । यदि न होती तो ये देव दुर्लभ मनुष्य जन्म हमें प्राप्त ही न होता। "मुझ पर भगवान की कृपा कम है" , ऐसा मानने वाले भूल करते है । हम चाहे कैसे भी क्यों न हो, भगवान की कृपा हम पर है, हमें छोड़ ही नहीं सकती । जैसे माता अपने बच्चे के कल्याण के लिए, रोग मिटाने के लिए कड़वी दवा देती है, वैसे ही भगवान हमारे कल्याण के लिए हमें कष्ट , दारिद्र्य , अपमान ,रोग आदि भेजते हैं। वे देखने में कठोर होते हैं पर वे हमें शुद्ध करने के लिए , निर्मल बनाने के लिए, या हमारे प्रारब्ध के कारण ही आते हैं। इसलिए हे जीव.... ! स्वयं को सुधार और प्रेम भाव से, शुद्ध मन से प्रभु से प्रार्थना कर, प्रभु श्रीकृष्ण का नाम स्मरण कर ले और जितना हो सके नेकी कर, सतकर्म कर l 🌹 हम सभी जानते हैं कि जगत के कल्याण हेतु कार्य करते रहेगे तो प्रभु कृष्ण आपका कल्याण स्वयं कर देंगे । *यदि किसी गिरे को उठाओगे तो कृष्ण आपको गिरने नहीं देंगे l *रोते को हँसाओगे तो कृष्ण आपको रोने नहीं देंगे l *चिंतित की चिंता दूर करोगे तो कृष्ण आपको निश्चिंत कर देंगे l *किसी की पीड़ा को दूर करोगे तो कृष्ण आपको दुख दर्द से मुक्त रखेंगे l दूसरे की सफलता में सहायक बनोगे तो कृष्ण आपको कभी असफल नहीं होने देंगे l इसलिए आप दान तो ज़रूर करो, लेकिन दान ऐसा हो कि जिससे दूसरे का मंगल-ही-मंगल हो। क्योंकि जितना आप मंगल की भावना से दान करते हो उतना ही दान लेने वाले का भला होता है, साथ में आपका भी इहलोक और परलोक सुधर जाता है। दान श्रद्धा, प्रेम, सहानुभूति एवं नम्रतापूर्वक दो, कुढ़कर, जलकर, खीजकर मत दो। अहं सजाने की गलती नहीं करो, अहं को विसर्जित करके विशेष नम्रता से दो और सामने वाले के अंतरात्मा का आशीष पाओ l दान करते समय यह भावना नहीं होनी चाहिए कि लोग मेरी प्रशंसा करें, वाहवाही करें। दान इतना गुप्त हो कि देते समय आपके दूसरे हाथ को भी पता न चले। असल में दाता तो कोई दूसरा है, जो दिन-रात दे रहा है, हम को व्यर्थ ही भ्रम होता है कि हम दाता हैं l 🌹 🙏 जय श्रीकृष्ण, श्री कृष्ण शरणम् , प्रेम से बोलो... राधे राधे 🌹🌹🌹🌹ਜੈ ਮਾਤਾ ਦੀ 🌹🌹🌹"ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु‍ते।।" || ओम ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै: || 🙏🌺#_जय_श्री_महाकाली_माँ सेवक भरत व्यास बांगा हिसार हरिद्वार वान_प्रस्थ ऋषिकेश,हरिद्वार ।#माला की तारीफ तो सब करते है, क्योंकि मोती सबको दिखाई देते हैं लेकिन तारीफ में काबिल तो #धागा है... जिसने सब को जोड़ रखा है* 🏵️ *श्री राधे राधे जी*🏵️

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 25 शेयर
SnehLata Mishra Nov 29, 2021

+15 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 42 शेयर
vandana Nov 29, 2021

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 4 शेयर
vandana Nov 29, 2021

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर
vandana Nov 29, 2021

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
smt neelam sharma Nov 29, 2021

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 . *"प्रिया-प्रियतम की लीला"* 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 एक बार राधाजी के मन में कृष्ण दर्शन की बड़ी लालसा थी, ये सोचकर महलन की अटारी पर चढ़ गईं और खिडकी से बाहर देखने लगीं कि शायद श्यामसुन्दर यहीं से आज गईया लेकर निकलें। (अब हमारी प्यारी जू के ह्रदय में कोई बात आये और लाला उसे पूरा न करें ऐसा तो हो ही नहीं सकता।) जब राधा रानी जी के मन के भाव श्याम सुन्दर ने जाने तो आज उन्होंने सोचा क्या क्यों न साकरीखोर से (जो कि लाडली जी के महलन से होकर जाता है) होते हुए जाएँ, अब यहाँ महलन की अटारी पे लाडली जी खड़ी थीं। तब उनकी मईया कीर्ति रानी उनके पास आईं और बोली- "अरी राधा बेटी ! देख अब तू बड़ी है गई है, कल को दूसरे घर ब्याह के जायेगी, तो सासरे वारे काह कहेंगे, जा लाली से तो कछु नाय बने है, बेटी कुछ नहीं तो दही बिलोना तो सीख ले।" अब लाडली जी ने जब सुना तो अब अटारी से उतरकर दही बिलोने बैठ गईं, पर चित्त तो प्यारे में लगा है। लाडली जी खाली मथानी चला रही हैं, घड़े में दही नहीं है इस बात का उन्हें ध्यान ही नहीं है, बस बिलोती जा रही हैं। उधर श्याम सुन्दर नख से शिख तक राधारानी के इस रूप का दर्शन कर रहे हैं, बिल्वमंगल जी ने इस झाँकी का बड़ा सुन्दर चित्रण किया है। *👣श्री राधा चरण 👣* ¸.•*""*•.¸  *Զเधे Զเधे .......*  लाला गईया चराके लौट तो आये हैं पर लाला भी प्यारी जू के ध्यान में खोये हुए हैं, और उनका मुखकमल पके हुए बेर के समान पीला हो गया है। पीला इसलिए हो गया है, क्योंकि राधा रानी गोरी हैं और उनके श्रीअंग की काँति सुवर्ण के समान है, इसलिए उनका ध्यान करते-करते लाला का मुख भी उनके ही समान पीला हो गया है। इधर जब एक सखी ने देखा कि राधा जी ऐसे दही बिलो रही हैं, तो वह झट कीर्ति मईया के पास गई और बोली मईया जरा देखो, राधा बिना दही के माखन निकाल रही है, अब कीर्ति जी ने जैसे ही देखा तो क्या देखती हैं, श्रीजी का वैभव देखो, मटकी के ऊपर माखन प्रकट है। सच है लाडली जी क्या नहीं कर सकतीं, उनके के लिए फिर बिना दही के माखन निकलना कौन सी बड़ी बात है। इधर लाला भी खोये हुए है नन्द बाबा बोले लाला- जाकर गईया को दुह लो। अब लाला पैर बाँधने की रस्सी लेकर गौ शाला की ओर चले है, गईया के पास तो नहीं गए वृषभ (सांड) के पास जाकर उसके पैर बाँध दिए और दोहनी लगाकर दूध दुहने लगे। अब बाबा ने जब देखा तो बाबा का तो वात्सल्य भाव है बाबा बोले- देखो मेरो लाला कितनो भोरो है, इत्ते दिना गईया चराते है गए, पर जा कू इत्तो भी नाय पता है, कि गौ को दुहो जात है कि वृषभ को, मेरो लाल बडो भोरो है। और जब बाबा ने पास आकर देखा तो दोहनी दूध से लबालब भरी है, बाबा देखते ही रह गए, सच है हमारे लाला क्या नहीं कर सकते, वे चाहे गईया तो गईया, वृषभ को भी दुह सकते हैं। *"जय जय श्री राधे"*

+7 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 5 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB