VarshaLohar
VarshaLohar Oct 17, 2021

Shubh sandhya vandan jai shree krishna radhey radhey🙏

Shubh sandhya vandan jai shree krishna radhey radhey🙏

+46 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 2 शेयर

कामेंट्स

Ashwinrchauhan Oct 17, 2021
जय श्री कृष्ण राधे राधे जी ठाकुर जी की कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे राधा रानी आप की हर मनोकामना पूरी करे आप का आने वाला दिन शुभ रहे गुड इवनिंग

Rajesh Kumar Oct 17, 2021
Good evening varsha jiiiiiiii.... 🌺🌺🌺🌺🌺🌺

Rani Oct 17, 2021
jai shree radhe radhe 🙏🌹subh ratri vandan bahana ji🌿🌺shree Krishn kadhaiya ji ki kripa sadaiv aap ke pure pariwar pr bni rhe aap ka har pal subh magalmay ho🌺🌿aap hamesa khush rhe swasth rhe 🙏🌿🌺

संजीव शर्मा Oct 17, 2021
मुठ्ठी में बंद चंद लकीरों का इतराना तो देखिए. हाथों में हैं, फिर भी हाथ में नहीं"

MADAN LAL Oct 17, 2021
🙏🌹 Jai Shree Radhe Krishna Ji..🙏🌹

GOVIND CHOUHAN Oct 18, 2021
🌺Jai Shree Radhe Radhe Krishan Mohan Murari Jiii 🌺🌺🌺🙏🙏 Shubh Raatri Vandan Ram Ram Saaaa 🌺🌺🌺🌺🌺🙏🙏 Bahut Bahut Dhanyawad Jii 🌺🙏🌺🙏🙏

Mamta Chauhan Dec 6, 2021

+24 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 2 शेयर
AMIT KUMAR INDORIA Dec 6, 2021

+5 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+67 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 52 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🌷🙏🇮🇳 *#daduji* 🇮🇳🙏🌷 🕉🇮🇳 *卐 सत्यराम सा 卐* 🇮🇳🕉 🌹🙏 *ॐ नमो नारायण* 🙏🌹 🌿🌷🌻 *शुभ~दिवस* 🌻🌷🌿 🇮🇳🦚🇮🇳.🇮🇳🦚🇮🇳.🇮🇳🦚🇮🇳 *स्वर, संगीत ~ @श्री दास जी* *सौजन्य : अखिल भारतीय श्रीदादू सेवक समाज* 🕉🌻🕉🌻🕉🌻🕉🌻🕉 . *दादू भीगे प्रेम रस, मन पंचों का साथ ।* *मगन भये रस में रहे, तब सन्मुख त्रिभुवन - नाथ ॥२८७॥* टीका - हे जिज्ञासुओं ! जब मन पंचों इन्द्रियों आदिक सहित प्रेम रस में ब्रह्म - परायण हुआ, तो फिर "मगन भये रस में रहे" अर्थात् भगवान् के प्रेम में तल्लीन होकर एकरस होते हैं । फिर उसके त्रिलोकीनाथ वश में हो जाते हैं ॥२८७॥ माठा तुरंग "हुसेन" मन अड़ा प्रेम की खोड़ । पग न धरे मग चलन को, ताजण टूटे करोड़ ॥ बालम चक्कर - व्यूह भो, मो मन अहमन नित्त । प्रेम प्रवेशा शिष्य यूं, निकसन जानत चित्त ॥ हुसेन भक्त कहता है - मेरा मन मादा और अड़ियल घोड़ा है जो प्रभु प्रेम की सँकड़ी गली(खोड़) में अड़ गया है । लोगों ने इसे बिरत करने हेतु बहुत प्रयत्न किये, अनेकों ताड़नाओं के चाबुक मार - मार कर तोड़ डाले, पर यह भक्ति - मार्ग से एक कदम भी नहीं हटा । गुरुपदेश से शिष्य का मन अभिमन्यु(अहमन) की भाँति प्रियतम प्रभु के प्रेमरूपी चक्रव्यूह में फँस तो गया, अब वह उससे निकल नहीं सकता । *(#श्रीदादूवाणी ~ परिचय का अंग)* https://youtu.be/LWhOUs4wk1E https://youtu.be/LWhOUs4wk1E

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Mohan Patidar Dec 6, 2021

+12 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 5 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB