Rekha Dewangan
Rekha Dewangan Sep 14, 2021

Suprabhat vandan ji.. jay ganpati bappa 🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏🙏🙏

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
dhruvwadhwani Sep 21, 2021

+90 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 181 शेयर
Neeta Trivedi Sep 22, 2021

+94 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 56 शेयर
Manju Lata Sep 21, 2021

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 52 शेयर
Poonam Aggarwal Sep 22, 2021

🌹🌹* जय श्री गणेशा जय श्री कृष्णा*🌹🌹🙏 🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹🍀🌹 *जब एक अंधी बुढि़या ने ठग लिया गणेश जी को* *एक बुढि़या भगवान गणेश की मन लगाकर नियमित पूजा करती थी।* *अंधी होने के बावजूद नियमित पूजन से भगवान गणेश उस पर प्रसन्‍न हो गए।* *एक दिन जैसे ही वह पूजा करने आई भगवान गणेश प्रकट हो गए।* *उन्‍होंने बुढि़या से मनचाहा वरदान मांगने को कहा। लेकिन बुढि़या बहुत भोली थी उनसे कहा कि भगवान मुझे तो मांगना आता ही नहीं।* *इस पर भगवान हंसने लगे और बोले मां तुम लोगों से पूछ कर मांग लो। तुम जो भी एक चीज मांगोगी मैं दूंगा।* *यह कहकर भगवान अंतर्ध्‍यान हो गए और बुढिया सोच में पड़ गई।* *लेकिन बुढि़या ने बड़ी ही चतुराई से सिर्फ एक ही चीज में भगवान से सबकुछ मांग लिया।* *पढ़ें आगे कहानी में कि आखिर बुढि़या ने ऐसा क्‍या मांग लिया* *बुढि़या ने भगवान के कहे अनुसार अपने बेटेबहू से मशविरा लिया। उन बेटे ने कहा कि मां भगवान से धनदौलत मांग लो।* *धंधा चल नहीं रहा और हम लोगों का जीवन कितना गरीबी में गुजर रहा है। बहू ने कहा नहीं मांजी आप भगवान से पोता मांग लो।* *शादी के इतने साल गुजर गए हमारे घर एक बच्चा नहीं हुआ आखिर वंश भी तो आगे बढ़ाना है। बुढि़या सोच में पड़ गई।* *भगवान जी ने कहा है कि वे केवल एक ही इच्छा पूरी करेंगे। लेकिन बेटे की बात भी सही है और बहू भी ठीक बोल रही है।* *चलो गांव वालों से पूछ लें कि क्या मांगा जाए। हो सकता है वे लोग कुछ अच्छी सलाह दे दें।* *बुढि़या ने यह बात गांव में कई लोगों से अकेले में कही। किसी ने कहा कि अम्मा बच्चा आज नहीं तो कल हो ही जाएगा। धंधा अभी मंदा है कभी चंगा भी हो जाएगा।* *लेकिन तुम्हारी आंखें तो दौलत या पोता आने से तो ठीक नहीं हो जाएंगी। इसलिए हम तो कहते हैं कि भगवान से आंखें मांग लो।* *बुढि़या को यह सलाह बहुत अच्छी लगी। उसने कहा यह भी ठीक है।* *लेकिन बेटे और बहू की बातें न मानकर अपने लिए मांगू तो दुनिया मुझे स्वार्थी न कहेगी* *सिर्फ इसी विचार से उसे अपने पर गुस्सा आने लगा। रात को सोते समय एकएक कर सब बातें उसके सामने आने लगी। सोचतेसोचते वह कब सो गई पता ही नहीं चला।* *सुबह नित्य क्रिया के बाद वह नियमित पूजा पर बैठ गई। अभी भगवान का ध्यान लगाया ही था कि वे प्रकट हो गए।* *बोले मां मांगो क्या चाहती हो। बुढि़या बोली भगवन मुझे कुछ नहीं चाहिए।* *मैं तो आपकी भक्ति से ही संतुष्ट हूं। भगवान बुढि़या के भोलेपन पर बागबाग हो गए।* *उन्होंने कहा फिर भी माई मैं तुम्हारी एक इच्छा पूरी किए बगैर नहीं जाऊंगा। कुछ तो मांगना ही पड़ेगा।* *बुढि़या बोली अब आप मुझसे प्रसन्न हैं और इतना कह ही रहे हैं तो बस मेरी एक इच्छा पूरी कर दीजिए कि मैं अपने पोते को सोने के गिलास में दूध पीता देखूं।* *भगवान मुस्करा कर बोले माई तूने तो मुझे ठग लिया।* *तेरी सिर्फ इतनी सी इच्छा पूरी करने के लिए मुझे धनदौलत देनी होगी तेरी बहू की गोद भरनी होगी और तुझे आंखें भी देनी होगी।* *तथास्तु इतना कहकर भगवान अंतर्ध्यान हो गए।* *साथ ही अंधी बुढि़या की एक इच्छा ने बेटेबहू और उसकी खुद की बोले तो सभी की इच्छा पूरी कर दी।* ‼️ जय श्री राम जय श्री राधे गोविंद ‼️🙏 ‼️🍀‼️🍀‼️🍀‼️🍀‼️

+239 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 526 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB