जय श्री कल्याण राय जी महाराज

जय श्री कल्याण राय जी महाराज

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर

कामेंट्स

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 39 शेयर
sanjay Awasthi Dec 7, 2021

+123 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 51 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 8 शेयर
sn vyas Dec 7, 2021

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🚩 *"सनातन परिवार"* 🚩 *की प्रस्तुति* 🔴 *आज का प्रात: संदेश* 🔴 🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘ *मानव जीवन पाकर की मनुष्य अपने जीवन भर में अनेको क्रिया कलाप करता है , अनेकों शत्रु एवं मित्र जीवन में बनते रहते हैं | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु उसका स्वयं का क्रोध है , क्रोध में आकर मनुष्य अंधा हो जाता है और उसका विवेक शून्य हो जाता है ऐसी स्थिति में वह क्या कर जाएगा उसको स्वयं को पता नहीं होता | क्रोध एक आंधी की भांति आता है और अपने साथ अनेकों प्रकार के रिश्ते नातों को नष्ट कर के चला जाता है | मनुष्य को क्रोध क्यों होता है ? यदि इस पर विचार किया जाए तो यही परिणाम निकल कर आता है कि जब मनुष्य के अनुसार कोई काम नहीं होता , जब मनुष्य को असंतोष हो जाता है या उसकी अनियंत्रित इच्छाएं पूरी नहीं होती है तो उसको क्रोध आता है और इसका परिणाम यह होता है कि घर , परिवार , मित्र , सहकर्मी सभी के साथ उसकी कटुता बढ़ जाती है | क्रोध जहां अपने आसपास वालों के लिए घातक तो होता ही है साथ ही स्वयं क्रोधी के लिए भी वह अत्यंत घातक सिद्ध होता है | क्रोधी मनुष्य का कोई मित्र भी नहीं बन पाता है | क्रोध को बस में करने के लिए मनुष्य की संकल्प शक्ति दृढ़ होनी चाहिए ! मनुष्य को आत्म संतोष होना चाहिए ! मृदुभाषी बनकर सदैव मीठा बोलने की आदत डालनी चाहिए ! इसके साथ ही बात बात में मुस्कुराने का प्रयास करना चाहिए ! इससे क्रोध पर विजय पायी जा सकती है अन्यथा क्रोध नामक शत्रु मनुष्य को एवं उसके चरित्र को भी नष्ट कर देता है |* *आज के आधुनिक युग में प्राय: देखने को मिलता है कि लोग छोटी-छोटी बातों पर क्रोधित होकर के एक दूसरे से बहस करने लगते हैं | क्रोधी का स्वभाव तो यह होता है कि वह अपने से बड़ा किसी को मानना ही नहीं चाहता | आज यह देखने को मिल रहा है कि लोग राह चलते राहगीरों से भी बहस करके झगड़ा करने लगते हैं और बात बढ़ने पढ़ते यहां तक पहुंच जाती है की हत्या तक कर डालने जैसी जघन्य घटनाएं देखने को मिल रही है | आज जो प्रतिशोध , अराजकता का माहौल सर्वत्र दिखाई पड़ रहा है उसका एकमात्र कारण मनुष्य का क्रोध ही है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज आत्म संतोष किसी में दिखाई ही नहीं पड़ता है | क्रोधित होने का एक बड़ा कारण आज की खाद्य व्यवस्था भी है आज मनुष्य सात्विक आहार फल , हरी सब्जियों का सेवन नाम मात्र को कर रहा है इसकी अपेक्षा फास्ट फूड एवं उत्तेजक पदार्थों का सेवन मनुष्य के द्वारा किया जा रहा है जिससे उनके स्वभाव में क्रोध की वृद्धि हो रही है | यदि क्रोध पर विजय पाना है तो मनुष्य को सर्वप्रथम आत्म संतोष करना होगा और छोटी-छोटी बातों पर बहस न करके उससे गहनता से विचार एवं आत्ममंथन करना होगा | जब मनुष्य गहनता से किसी भी विषय पर आत्ममंथन करेगा तो विषय वस्तु को समझ जाने के बाद उसको क्रोध नहीं आएगा परंतु आज मनुष्य को ना तो संतोष हो पा रहा है और ना ही वह आत्ममंथन करना चाहता है | यही कारण है कि आज सर्वत्र क्रोध एवं क्रोध के दुष्परिणाम देखने को मिल रहे हैं |* *क्रोध एक मानसिक बीमारी है प्रत्येक मनुष्य को इससे बचने का प्रयास करना चाहिए | जो स्वयं को संभाल ले जाता है , आत्म संयम के द्वारा जो दूसरों की बातों को हंसकर टाल देता है वह इस घातक बीमारी से बचा रहता है |* 🌺💥🌺 *जय श्री हरि* 🌺💥🌺 🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳 सभी भगवत्प्रेमियों को आज दिवस की *"मंगलमय कामना"*----🙏🏻🙏🏻🌹 ♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵️ *सनातन धर्म से जुड़े किसी भी विषय पर चर्चा (सतसंग) करने के लिए हमारे व्हाट्सऐप समूह----* *‼ भगवत्कृपा हि केवलम् ‼ से जुड़ें या सम्पर्क करें---* आचार्य अर्जुन तिवारी प्रवक्ता श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा संरक्षक संकटमोचन हनुमानमंदिर बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी (उत्तर-प्रदेश) 9935328830 🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Babbu Bhai Dec 7, 2021

+21 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 24 शेयर

+17 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Babbu Bhai Dec 7, 2021

+18 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Ravi Kumar Taneja Dec 5, 2021

*🕉शुभ रविवार 05 दिसंबर,2021🕉* *🌈"जपा कुसुम संकाशं काश्य पेयम महा द्युतिम ! तमो अरिम सर्व पापघ्नं प्रणतोस्मी दिवाकर!!"🌈* 🌞श्री सूर्य भगवान अर्घ्य मंत्र 🌞 1💥ॐ मित्राय नमः 2💥ॐ रवये नमः 3💥ॐ सूर्याय नमः 4💥ॐ भानवे नमः 5💥ॐ खगाय नमः 6💥ॐ पूष्णे नमः 7💥ॐ हिरण्यगर्भाय नमः 8💥ॐ मरीचये नमः 9💥ॐ आदित्याय नमः 10💥ॐ सवित्रे नमः 11💥ॐ अर्काय नमः 12💥ॐ भास्कराय नमः 13💥ॐ श्रीसवितृ सूर्यनारायणाय नमः *🌲क्षमा एक करता है,* *मुक्त दो लोग होते हैं !!* *🌲शुक्रिया अदा करना* और ... *माफ़ी माँगना* दो गुण जिस व्यक्ति के पास है... वो सबके क़रीब और... सबके लिए *अजीज़* होता है ... *🌲जिसका दिल साफ होता है* *उसका सब कुछ माफ होता है* *🌻ख़ुश रहें..!! 🌻स्वस्थ रहें..!! 🌻मस्त रहें..!!* 🏹परम कृपालु सूर्य देव जी की असीम कृपा दृष्टि आप पर हमेशा बनी रहे 🙏🌹🙏 सूर्य देव की कृपा से आप हमेशा स्वस्थ रहे,मस्त रहे,सदा मुस्कुराते रहे!!!🙏🌺🙏 🙏शुभ प्रभात स्नेह वंदन जी 🙏 🕉🏹🙏🌷🙏🌷🙏🏹🕉

+257 प्रतिक्रिया 109 कॉमेंट्स • 124 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB