Parneeta Sharma May 27, 2022

+40 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 51 शेयर
MADHUBEN PATEL May 27, 2022

+36 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 28 शेयर
Malti Bansal May 26, 2022

+22 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 76 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 63 शेयर
Radhe Krishna May 27, 2022

+19 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shuchi Singhal May 27, 2022

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
बालाजी May 27, 2022

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
बालाजी May 27, 2022

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🚩🚩 श्रीमां वन्दन 🌼🌸🌼 ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिणी। दुर्गा शिवा क्षमा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते ॥१॥ 🚩 ॐ या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥२॥ 🚩 ॐ रक्तबीजवधे देवि चण्डमुण्डविनाशिनि। रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि ॥३॥ 🚩 भावार्थ ~ 🌼🌸🌼 १- जयन्ती, मंगला, काली, भद्रकाली, कपालिनी, दुर्गा, शिवा, क्षमा, धात्री, स्वाहा और स्वधा इन नामोंसे प्रसिद्ध जगदम्बिके ! तुम्हें मेरा नमस्कार हो॥ २- जो देवी सब प्राणियों में बुद्धिरूपसे स्थित हैं, उनको नमस्कार, उनको नमस्कार, उनको बारम्बार नमस्कार है॥ ३- रक्तबीजका वध और चण्ड-मुण्डका विनाश करने वाली देवि ! तुम रूप दो, जय दो, यश दो और काम-क्रोध आदि शत्रुओंका नाश करो॥ ‼️ जय श्री मां अखिलतारिणी आपकी जय-जयकार ‼️ 🌹🌸🌺🌼🙏🌼🌺🌸🌹

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर